दा इंडियन वायर » लोग » परेश रावल की जीवनी
लोग

परेश रावल की जीवनी

Paresh Rawal Biography

परेश रावल हिंदी फिल्मो के अभिनेता हैं। उन्होंने अपनी पहचान ना केवल एक अभिनेता के रूप में बनाई है बल्कि उन्हें एक निर्माता, कॉमेडियन और राजनेता के रूप में भी जाना जाता है। परेश को सबसे ज़्यादा लोकप्रियता उनके कॉमेडी किरदारों को दर्शाने की वजह से मिली है।

परेश रावल द्वारा अभिनय किए गए फिल्मो की बात करे तो उन्होंने ‘मनी मनी’, ‘गोविंदा गोविंदा’, ‘अंदाज़ अपना अपना’, ‘चाची 420’, ‘हेरा फेरी’, ‘नायक’, ‘आवारा पागल दीवाना’, ‘हंगामा’, ‘हलचल’, ‘गरम मसाला’, भागम भाग’, ‘भूल भूलैया’, ‘वेलकम’, टाइगर ज़िन्दा है’, ‘संजू’, पटेल की पंजाबी शादी’ जैसी फिल्मो में अभिनय किया है।

परेश ने हिंदी सिनेमा में दिए अपने योगदान की वजह से कई सम्मानों को अपना नाम किया है। परेश ने अपने अभिनय की वजह से कई सारे अवार्ड्स को अपने नाम किया है। उनकी लोगप्रियता भारत के साथ साथ बाहर विदेशो में भी बहुत मात्रा में है।

परेश रावल का प्रारंभिक जीवन

परेश रावल का जन्म 30 मई 1955 को बॉम्बे में हुआ था। उन्होंने एक ब्राह्मण परिवार में जन्म लिया था। परेश के पिता का नाम ‘दह्यालाल रावल’ था। परेश ने अपने स्कूल की पढाई ‘महाराष्ट्र एसएससी बोर्ड’ से पूरी की थी। इसके बाद उन्होंने ‘नरसी मोंजी कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स और इकनोमिक’ मुंबई से अपने ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त की थी।

परेश रावल को अभिनय का शौक था जिसकी वजह से उन्होंने गुजरात थिएटर में अपने अभिनय को दर्शको के बीच पेश करना शुरू किया था।

व्यवसाय जीवन

परेश रावल का फिल्मो का शुरुआती दौर

परेश रावल ने अपने अभिनय की शुरुआत साल 1982 से की थी। उन्होंने सबसे पहले गुजरती फिल्म ‘नसीब नी बलिहारी’ में अभिनय किया था। इस फिल्म में उन्होंने ‘देवा’ नाम के किरदार को दर्शाया था। साल 1984 में परेश ने हिंदी फिल्म ‘होली’ में अभिनय किया था।

साल 1985 की शुरुआत परेश ने फिल्म ‘लोहरी’ के साथ की थी, जिसमे उन्होंने एक छोटा सा किरदार अभिनय किया था। इसके बाद उसी साल परेश को फिल्म ‘अर्जुन’ में भी देखा गया था। इस फिल्म में उन्होंने ‘अनूप भाई’ नाम का किरदार अभिनय किया था। फिल्म के निर्देशक ‘राहुल रवैल’ थे।

साल 1986 की बात करे तो उस साल परेश ने फिल्म ‘भगवन दादा’ में अभिनय किया था। इस फिल्म में उन्होंने ‘इंस्पेक्टर विजय’ नाम के किरदार को दर्शाया था। फिल्म के निर्देशक ‘जे. ओम प्रकाश’ थे। उसी साल परेश ने फिल्म ‘नाम’ में भी अभिनय किया था जिसमे उन्होंने ‘राणा’ नाम का किरदार अभिनय किया था। इसके बाद उन्होंने फिल्म ‘समुन्दर’ में ‘हंसुख’ नाम के किरदार को दर्शाया था।

साल 1987 में परेश ने फिल्म ‘मरते दम तक’ में अभिनय किया था। उस फिल्म में उन्होंने ‘इंस्पेक्टर खन्ना’ नाम का किरदार अभिनय किया था। फिल्म के निर्देशक ‘मेहुल कुमार’ थे और फिल्म में मुख्य किरदारों को राज कुमार, गोविंदा और फरहा नाज़ ने अभिनय किया था। साल 1987 में ही परेश ने फिल्म ‘उत्तर दक्षिण’ में अभिनय किया था।

परेश रावल का फिल्मो का बाद का सफर

साल 1988 में परेश ने फिल्म ‘कब्ज़ा’ में अभिनय किया था। इस फिल्म में उन्होंने ‘वेल्हीभाई सोडा’ नाम का किरदार अभिनय किया था। इस फिल्म के निर्देशक ‘महेश भट्ट’ थे और फिल्म में मुख्य किरदार को राज बब्बर, संजय दत्त, अमृता सिंह, परेश रावल और अलोक नाथ ने अभिनय किया था।

उसी साल परेश को फिल्म ‘खतरों के खिलाडी’ में देखा गया था, जिसमे उन्होंने ‘ट्रक कंपनी के मालिक’ का किरदार अभिनय किया था। इस फिल्म के निर्देशक ‘टी. रमा राओ’ थे। उसी साल उन्होंने फिल्म ‘सोने पे सुहागा’ में अभिनय किया था जिसमे उन्होंने ‘तेजा’ नाम के किरदार को दर्शाया था।

साल 1989 की बात करे तो उस साल परेश को सबसे पहले फिल्म ‘वर्दी’ में देखा गया था। इस फिल्म के निर्देशक ‘उमेश महरा’ थे और फिल्म में परेश ने ‘रूद्रा’ नाम का किरदार अभिनय किया था। इस फिल्म में मुख्य किरदारों को जैकी श्रॉफ, माधुरी दीक्षित और सनी देओल ने दर्शाया था। फिल्म में परेश का सहायक किरदार था।

उसी साल उन्हें फिल्म ‘राम लखन’ में भी देखा गया था जिसमे उन्होंने ‘भानु नाथ’ नाम का किरदार अभिनय किया था। इस फिल्म के निर्देशक ‘सुभाष घई’ थे और फिल्म में मुख्य किरदारों को अनिल कपूर, जैकी श्रॉफ, माधुरी दीक्षित, डिंपल कपाडिया और अनुपम खेर ने अभिनय किया था। फिल्म में परेश का सहायक किरदार ही था।

साल 1990 में परेश ही हिट फिल्म का नाम ‘स्वर्ग’ था जिसके निर्देशक ‘डेविड धवन’ थे। इस फिल्म में परेश ने ‘धनराज’ नाम का किरदार दर्शाया था जो की एक नकारात्मक किरदार था। इस फिल्म में उन्होंने राजेश खन्ना, गोविंदा और जूही चावला के साथ मुख्य किरदार को दर्शाया था।

साल 1991 में परेश ने फिल्म ‘कशना काशनम’ नाम की तेलुगु फिल्म में अभिनय किया था। इस फिल्म में उन्होंने एक सहायक किरदार ही दर्शाया था। इसके बाद उसी साल परेश को हिंदी फिल्म ‘साथी’, ‘हकुए’, ‘बहारों की मंज़िल’, ‘दो पल’, ‘योद्धा’, ‘आई मिलान की रात’, ‘प्रेम क़ैदी’, ‘इज़्ज़त’ और ‘शंकरा’ में अभिनय किया था। इन सभी फिल्मो में से ज़्यादा तर फिल्मो में परेश ने सहायक किरदार को दर्शाया था।

साल 1992 की बात करे तो उस साल परेश ने सबसे पहले फिल्म ‘दौलत की जंग’ में अभिनय किया था। इस फिल्म में उन्होंने ‘हरिभाई’ नाम के किरदार को दर्शाया था। इस फिल्म के निर्देशक ‘एस. ए. कादर’ थे और फिल्म में मुख्य किरदारों को आमिर खान, जूही चावला और कादर खान ने अभिनय किया था।

उसी साल परेश ने फिल्म ‘अधर्म’ में ‘रघुनाथ वर्मा’ नाम का किरदार अभिनय किया था। इसके बाद उन्होंने फिल्म ‘विरोधी’ में भी अभिनय किया था। इस फिल्म में उन्होंने ‘बद्रीनाथ पांडेय’ नाम का किरदार अभिनय किया था। उस साल का अंत परेश ने फिल्म ‘जिगर’ के साथ किया था। इस फिल्म के निर्देशक ‘फ़िरोज़ सिद्दीकी’ थे और फिल्म में परेश ने ‘लाल बिहारी’ नाम के किरदार को दर्शाया था।

साल 1993 से लेकर साल 1996 तक परेश ने कुल 46 फिल्मो में अपने अभिनय को दर्शाया था। इस फिल्म में से किसी में परेश ने सहायक किरदार अभिनय किया था और किसी में उन्हें नकारात्मक मुख्य किरदार को दर्शाते हुए देखा गया था। उन सभी फिल्मो में जो फिल्मे बॉक्स ऑफिस में सफल रहीं थीं उनके नाम ‘पहला नशा’, ‘रूप की रानी चोरों का राजा’, ‘दामिनी’, ‘दिलवाले’, ‘अंदाज़ अपना अपना’, ‘एका राजा रानी’, ‘क्रांतिवीर’, ‘राजा’, ‘अकेले हम अकेले तुम’, ‘बंदिश’, ‘रंगबाज़’ और ‘विजेता’ थे।

साल 1997 में ही परेश रावल को 15 फिल्मो में अभिनय करते हुए देखा गया था। उनमे से सबसे पहली सफल फिल्म का नाम ‘हीरो न. 1’ था, जिसमे उन्होंने ‘दीनानाथ’ नाम का किरदार अभिनय किया था। इस फिल्म में मुख्य किरदारों को कादर खान, करिश्मा कपूर, परेश रावल और गोविंदा ने अभिनय किया था। इसके बाद उस साल की दूसरी हिट फिल्म ‘जुदाई’ थी, जिसमे उन्होंने ‘हसमुखलाल’ नाम का किरदार अभिनय किया था। इस फिल्म में मुख्य किरदारों को अनिल कपूर, श्रीदेवी और उर्मिला मातोंडकर ने अभिनय किया था।

इसके बाद उसी साल की तीसरी हिट फिल्म का नाम ‘मिस्टर और मिसेस खिलाडी’ था। इस फिल्म में उन्होंने ‘प्रताप’ नाम के किरदारों को दर्शाया था। इस फिल्म के निर्देशक ‘डेविड धवन’ थे और फिल्म में अक्षय और जूही ने मुख्य किरदारों को दर्शाया था। इसके बाद उस साल की चौथी हिट फिल्म ‘घुलम-ए-मुस्तफा’ थी। इस फिल्म के निर्देशक ‘पार्थो घोष’ थे और फिल्म में परेश ने ‘शांता प्रसाद’ और ‘अब्बा’ नाम का किरदार अभिनय किया था।

उस साल की ब्लॉकबस्टर फिल्म का नाम ‘चाची 420’ था। इस फिल्म में परेश ने ‘हरिहरन’ और ‘हरिभाई’ नाम का किरदार अभिनय किया था इस फिल्म के निर्देशक ‘कमल हासन‘ थे और फिल्म में परेश ने बेहतरीन कॉमेडी दर्शाई थी।

साल 1998 और 1999 में परेश ने कई सारी फिल्मो में अभिनय किया था। उन फिल्मो के नाम ‘बदमाश’, ‘सत्य’, ‘बड़े मियां छोटे मियां’, ‘हरि हिस्दुस्तानी’, ‘चाइना गेट’, ‘कुदरत’, ‘बड़े दिलवाले’, ‘हसीना मान जायगी’, ‘हम तुम पे मरते हैं’, ‘गैर’ और ‘खूबसूरत’ थे।

परेश रावल का फिल्मो का सफल सफर

साल 2000 में परेश ने अपने अभिनय से दर्शको के दिलो में राज़ करना शुरू किया था। इस साल के बाद परेश को कॉमेडी का किंग कहा जाने लगा था। उस साल की परेश ही पहली हिट फिल्म का नाम ‘दुल्हन हम ले जायेंगे’ था। इस फिल्म में उन्होंने ‘प्रभु नाथ’ नाम का किरदार अभिनय किया था और साथ ही फिल्म को निर्देश ‘डेविड धवन’ ने किया था।

इसके बाद उस साल परेश ने फिल्म ‘हर दिल जो प्यार करेगा’ और ‘दीवाना’ में अभिनय किया था। इस फिल्म को भी बॉक्स ऑफिस में सुपरहिट फिल्मो की सूचि में दर्ज किया गया था। उस साल की परेश की सुपरहिट फिल्म की बात करे तो उस साल उन्होंने फिल्म ‘हेरा फेरी’ में अभिनय किया था। इस फिल्म के निर्देशक ‘प्रियादर्शन’ थे और फिल्म में परेश ने ‘बाबूराव गणपतराओ आप्टे’ नाम का किरदार अभिनय किया था। उनके साथ फिल्म में अक्षय कुमार और सुनील शेट्टी ने मुख्य किरदार को दर्शाया था और फिल्म ने बॉक्स ऑफिस में बहुत अच्छी कमाई की थी।

साल 2001 और साल 2002 में परेश ने चुनिंदा फिल्मो में ही अभिनय किया था। उन फिल्मो के नाम ‘नायक’, ‘मोक्ष’, ‘आँखें’, ‘हम किसीसे कम नहीं’, ‘आवारा पागल दीवाना’ था।

साल 2003 में भी परेश ने दो बड़ी फिल्मो में अभिनय किया था। उन फिल्मो के नाम ‘हंगामा’ और ‘बाग़बान’ थे। दोनों ही फिल्मो को दर्शको ने बहुत पसंद किया था और साथ ही फिल्म ने बॉक्स ऑफिस में ब्लॉकबस्टर कमाई के साथ अपना नाम साल की सबसे अधिक कमाई करने वाली फिल्म के रूप में दर्ज किया था।

साल 2006 में परेश को फिल्म ‘फिर हेरा फेरी’ में देखा गया था जो की साल 2000 में आई फिल्म ‘हेरा फेरी’ का दूसरा भाग था। इस फिल्म में भी परेश ने ‘बाबूराव गणपतराओ आप्टे’ नाम का किरदार अभिनय किया था और उनके साथ अक्षय कुमार और सुनील की जोड़ी भी देखने को मिली थी।

उसी साल परेश ने फिल्म ‘चुप चुप के’ में भी ‘गुन्डेया’ नाम का किरदार अभिनय किया था। इस फिल्म के निर्देशक ‘प्रियादर्शन’ ही थे और फिल्म में मुख्य किरदारों को शाहिद कपूर और करीना कपूर ने अभिनय किया था। उस साल का अंत परेश ने फिल्म ‘भागम भाग’ के साथ किया था। इस फिल्म में उन्होंने ‘चम्पक चतुर्वेदी’ नाम का किरदार अभिनय किया था और साथ ही गोविंदा और अक्षय कुमार ने उनके साथ मुख्य किरदार को दर्शाया था।

साल 2007 में परेश की दो फिल्मो को ब्लॉकबस्टर फिल्मो की सूचि में दर्ज किया था। उन फिल्मो के नाम ‘भूल भूलैया’ और ‘वेलकम’ थे। दोनों ही फिल्मे कॉमेडी थी और फिल्मो में परेश ने सहायक किरदार अभिनय किया था। फिल्म भूल भूलैया में परेश ने ‘बटुक शंकर’ नाम का किरदार अभिनय किया था और फिल्म ‘वेलकम’ में उन्होंने ‘डॉ. घुंघरू’ नाम का किरदार दर्शाया था।

साल 2009 और 2010 में परेश को फिल्म ‘दे दाना दन’, ‘पा’, ‘फ़िराक’, ‘अतिथि तुम कब जाओगे?’, ‘आक्रोश’ और ‘नो प्रॉब्लम’ में अभिनय करते हुए देखा गया था। इस सभी फिल्मो को दर्शको ने पसंद किया था और बॉक्स ऑफिस में इनका नाम सफल फिल्मो की सूचि में दर्ज किया गया था।

साल 2011 में परेश को हिट फिल्म ‘रेडी’ में सलमान के साथ अभिनय करते हुए देखा गया था। इस फिल्म में उनके किरदार का नाम ‘सीए बलिदान भरद्वाज’ उर्फ़ ‘बल्ली’ था जो की एक सहायक किरदार था।

साल 2012 में परेश एक बार फिर एक सुपरहिट फिल्म में मुख्य किरदार को दर्शाते हुए दिखे थे। इस फिल्म का नाम ‘ओएमजी – ओ माय गॉड’ था। फिल्म में परेश ने ‘कांजीभाई’ नाम का किरदार अभिनय किया था। फिल्म को दर्शको ने बहुत पसंद किया था और साथ ही फिल्म ने बेहतरीन कमाई के साथ अपना नाम ब्लॉकबस्टर फिल्मो की सूचि में दर्ज किया था।

साल 2015 में भी परेश रावल को फिल्म ‘वेलकम बैक’ में देखा गया था। इस फिल्म के निर्देशक ‘अनीस नदिअड्वाला’ थे और फिल्म को दर्शको ने बहुत पसंद किया था। इस फिल्म में भी उनके किदार का नाम ‘डॉ. घुंघरू’ ही था।

साल 2017 में परेश को फिल्म ‘टाइगर ज़िंदा है’ में देखा गया था। इस फिल्म के निर्देशक ‘अली अब्बास ज़फर’ थे और फिल्म में उन्होंने ‘फिरदौज़ा’ उर्फ़ ‘तोहबान’ नाम का किरदार अभिनय किया था। इस फिल्म में परेश ने सलमान खान और कैटरीना के साथ अभिनय किया था।

साल 2018 में भी परेश दो ही फिल्मो में दिखे थे और वह दोनों फिल्मो को बॉक्स ऑफिस में सुपरहिट फिल्मो की सूचि में दर्ज किया गया था। इन फिल्मो का नाम ‘संजू’ और ‘मंटो’ था। दोनों फिल्मो में परेश ने बहुत अच्छा अभिनय किया था और साथ ही फिल्मो को सफल फिल्मो की सूचि में दर्ज किया गया था।

साल 2019 में भी परेश दो ही फिल्मो में दिखे थे और दोनों फिल्मो को बॉक्स ऑफिस में सफलता मिली थी। उस साल की पहली फिल्म का नाम ‘उरी- द सर्जिकल स्ट्राइक’ था और फिल्म के निर्देशक ‘आदित्य धार’ थे। फिल्म में परेश ने ‘गोविन्द भारतद्वाज’ नाम का किरदार अभिनय किया था जो की असल में ‘अजित डोवल’ के किरदार को दर्शा रहा था।

उस फिल्म के बाद परेश ने कॉमेडी फिल्म ‘मेड इन चाइना’ में भी अभिनय किया था। उस फिल्म में परेश ने ‘तन्मय शाह’ नाम का किरदार अभिनय किया था। फिल्म को दर्शको ने पसंद किया था।

परेश रावल की आने वाली फिल्मो की बात करे तो उन्हें आगे फिल्म ‘कॉलिव न. 1’, ‘सुरराई पोटरु’ और ‘तूफ़ान’ में देखा जायगा। यह फिल्मे साल 2020 में रिलीज़ होनी की तैयारी में जुटी हैं।

परेश रावल का राजनैतिक सफर

परेश ने साल 2014 के इलेक्शन के समय ‘भारतीय जनता पार्टी’ की तरफ से अहमदाबाद पश्चिम के चुनाव में हिस्सा लिया था। परेश इस चुनाव में एक उम्मीदवार के रूप में उठे थे और उस चुनाव में विजयता भी घोसित हुए थे।

पुरस्कार और उपलब्धियां

परेश रावल ने अपने अभिनय की वजह से कई सारे अवार्ड्स को अपने नाम किया है। इसी के साथ उन्होंने इंडियन सिनेमा में दिए अपने योगदान कि वजह से भी कई सारे सम्मानों को हासिल किया है। इनमे से कुछ की जानकारी नीचे मौजूद है।

  • साल 1994 में फिल्म ‘वह छोकरी’ और ‘सर’ के लिए ‘बेस्ट एक्टर इन सूप्पेर्टिंग रोल’ का अवार्ड मिला था।
  • साल 2000 में फिल्म ‘हरि फेरी’ के लिए ‘बेस्ट कॉमेडियन’ का अवार्ड मिला था।
  • साल 2010 में फिल्म ‘अतिथि तुम कब जाओगे’ के लिए ‘बेस्ट परफॉरमेंस इन कॉमिक रोल’ का अवार्ड मिला था।
  • साल 2014 में ‘पद्मा श्री’ अवार्ड से नवाज़ा गया था।

परेश रावल का निजी जीवन

परेश रावल ने अभिनेत्री ‘स्वरूप सम्पत’ के साथ शादी की थी। स्वरुप अभिनेत्री होने के साथ साथ साल 1979 की मिस इंडिया भी रह चुकी हैं। परेश के दो बेटे हैं जिनका नाम ‘अनिरुद्ध रावल’ और ‘आदित्य रावल’ है। परेश के पसंदीदा चीज़ो की बात करे तो उनके पसंदीदा राजनेता ‘नरेंद्र मोदी’ हैं। उनके अभिनेताओं में नसीरुद्दीन शाह, ओम पुरी, अमिताभ बच्चन और मार्लोन ब्रांडो पसंद हैं। अभिनेत्रियों में परेश को काजोल पसंद है।

साल 1980 और 1990 के दशक में ही परेश ने कुल 100 फिल्मो में अभिनय किया था और ज़्यादा तर फिल्मो में नकारात्मक किरदार ही दर्शाया था।

आप अपने सवाल और सुझाव नीचे कमेंट में लिख सकते हैं।

यह लेख आपको कैसा लगा?

नीचे रेटिंग देकर हमें बताइये, ताकि इसे और बेहतर बनाया जा सके

औसत रेटिंग 4.7 / 5. कुल रेटिंग : 86

कोई रेटिंग नहीं, कृपया रेटिंग दीजिये

यदि यह लेख आपको पसंद आया,

सोशल मीडिया पर हमारे साथ जुड़ें

हमें खेद है की यह लेख आपको पसंद नहीं आया,

हमें इसे और बेहतर बनाने के लिए आपके सुझाव चाहिए

कृपया हमें बताएं हम इसमें क्या सुधार कर सकते है?

About the author

मनीषा शर्मा

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!