दा इंडियन वायर » मनोरंजन » विवेक ओबेरॉय के बाद अब परेश रावल लेकर आ रहे हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर अपनी बायोपिक
मनोरंजन राजनीति

विवेक ओबेरॉय के बाद अब परेश रावल लेकर आ रहे हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर अपनी बायोपिक

विवेक ओबेरॉय के बाद अब परेश रावल लेकर आ रहे हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर अपनी बायोपिक

अभिनेता और भाजपा सांसद परेश रावल ने एक बार कहा था कि उनसे बेहतर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का किरदार कोई और नहीं निभा सकता और इसी बात पर वे अड़े भी रहे। विवेक ओबेरॉय के बाद अब वे भी पीएम मोदी की शख्सियत को बाद पर्दे पर उतारने जा रहे हैं। वे अपनी अलग बायोपिक बना रहे हैं जो पूर्ण रूप से पीएम मोदी की ज़िन्दगी पर ही आधारित होगी।

PTI से बात करते हुए उन्होंने बताया-“ये अब तक का मेरे करियर का सबसे चुनौतीपूर्ण किरदार है। मेरे अन्दर अच्छे किरदारों की भूख है। मुझे चुनौती अच्छी लगती हैं और मैं इस अनुभव को लेने का इंतज़ार कर रहा हूँ। हम इसी साल फिल्म का काम शुरू कर देंगे।”

अभिनेता इस फिल्म का निर्माण भी कर रहे हैं। फिल्म में आ रही रूकावटो पर बात करते हुए उन्होंने बताया-“हम स्क्रिप्टिंग में फंस गए हैं और थोड़ा बहुत प्रोडक्शन में भी। मैं इसका निर्माण कर रहा हूँ। और हम इसे 100% बना कर ही रहेंगे। मैं मोदी का किरदार निभा रहा हूँ।”

रावल ने आगे खुलासा किया कि उन्होंने अभी तक ओमंग कुमार निर्देशित ‘पीएम नरेंद्र मोदी‘ से विवेक ओबेरॉय का लुक नहीं देखा है।

उनके मुताबिक, “मायने यही रखता है कि आप असली इन्सान के कितना करीब जा पाते हो। मूल बातें समान हैं-सफ़ेद दाढ़ी, मूछ और चश्मा। मगर मेरे लिए, उनकी आँखों को पकड़ना, उनकी पीड़ा, भ्रष्टाचारियों के खिलाफ उनकी नफरत और देश को आगे ले जाने की उनके अन्दर जल रही लौ ज्यादा मायने रखती है। ये सब एक किरदार में झलकना चाहिए।”

जब उनसे अभिनेता नसीरुद्दीन शाह के ‘अभिव्यक्ति की आजादी’ वाले विवादित बयां के बारे में पूछा गया तो उन्होंने काहा कि देश में हर किसी के पास अपनी राय व्यक्त करने का अधिकार है।

उन्होंने कहा-“जबकि वे इस देश में रह रहे हैं, कही बाहर नहीं। इतना सब कहने के बाद भी वे सुरक्षित हैं, कुछ नहीं हुआ। अगर ये पाकिस्तान होता तो क्या आप ये कह पाते? मुझे लगता है कि यहाँ हर इन्सान अपनी राय व्यक्त कर सकता है। मैं तो उलझन में पड़ जाता हूँ जब कोई इन्सान ऐसी बाते बोलता है। मुझे बुरा लगता है जब कोई मर जाता है और ऐसी घटनाओं को राजनीती से जोड़ना गलत है।”

रावल जल्द फिल्म ‘उरी:द सर्जिकल स्ट्राइक‘ से बड़े पर्दे पर नज़र आने वाले हैं।

इस धारणा पर प्रतिक्रिया देते हुए कि ये एक ‘प्रचार फिल्म’ है, उन्होंने कहा-“अगर हमने कुछ अच्छा किया है तो हमें उसपर गर्व होना चाहिए और वही हम फिल्म में दिखा रहे हैं। ये एक प्रचार फिल्म कैसे बन गयी? पाकिस्तान आया, हमला किया, हमारे सैनिकों को मार दिया और हमने उनसे बदला लिया और उन्हें मुँह-तोड़ जवाब दिया।”

उन्होंने आगे कहा कि जब कोई सर्जिकल स्ट्राइक की प्रामाणिकता पर शक जताता है तो उन्हें गुस्सा आ जाता है। उनके अनुसार, “कुछ लोगों ने तो ये तक कहा कि पाकिस्तान ने इसकी पुष्टि नहीं की है। वे कभी नहीं मानेंगे कि ऐसा कुछ हुआ था। सेना ने इतना बड़ा कदम उठाया था तो उनके काम की सराहना करने के वजाय, लोग उनके प्रयासों पर संदेह करते हैं।”

इस फिल्म में, रावल ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल का किरदार निभाया है। इस फिल्म में विक्की कौशल और यामी गौतम ने भी मुख्य भूमिका निभाई है और ये फिल्म इसी शुक्रवार को रिलीज़ हो रही है।

About the author

साक्षी बंसल

पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!

Advertisement