Sat. Dec 10th, 2022
    prity zinta meetoo

    बॉलीवुड अदाकारा प्रीति ज़िंटा ने हाल ही में एक साक्षात्कार के दौरान मीटू मूवमेंट के बारे में बातें की थीं और अब लोग उनपर यौन शोषण के ऊपर हंसने और पीड़ितों के ऊपर दोषारोपण करने का आरोप लगा रहे हैं।

    प्रीटी ने हाल ही में ट्विटर पर एक बयान जारी करते हुए कहा है कि उनकी बातों का लोगों ने गलत मतलब निकाल लिया है। प्रिटी लिखती हैं कि, “मैं उन सभी औरतों से माफ़ी मांगना चाहती हूँ जिसकी भी भावनाओं को मैंने ठेस पहुंचाया है। मैं यह बात साफ़ करना चाहती हूँ कि मैं उनके बारे में बात कर रही हूँ जिसको इस मानसिक वेदना से गुज़रना पड़ा है।”

    एक साक्षात्कार के दौरान प्रीटी से मीटू के बारे में यह पूछे जाने पर कि क्या उन्हें कभी भी किसी भी प्रकार के शोषण का सामना करना पड़ा है, उन्होंने कहा था कि, “काश! मेरे साथ ऐसा कुछ हुआ होता तो मैं आपके इस बात का उत्तर दे पाती।”

    उनके इन शब्दों के बारें में लोग सोशल मीडिया पर बाते करने लगे कि शोषण का शिकार हुए पीड़ितों के प्रति उनके अंदर कोई भी संवेदना नहीं है। प्रीटी ने अपनी ओर से सफाई देते हुए कहा है कि, “मेरे ऐसा कहने और मुस्कुराने के पीछे का कारण यह था कि अगर ऐसा मेरे साथ हुआ होता तो मैं उसका जवाब थप्पड़ के साथ देती इसलिए ऐसा कभी नहीं हुआ और बाद में जब ऐसा हुआ तो मैं चुप नहीं रही और पूरी दुनिया ने यह देखा था।”

    प्रीटी ने मीटू के बारे में बने एक चुटकुले “आज की स्वीटू कल की मीटू हो सकती है” को शेयर करते हुए कहा कि, “वह चुटकुला मेरा नहीं था। मैंने एक आदमी की बातों को लिखा था जिसका मतलब यह था कि काम करने की जगहों पर आदमी, औरतों से अपने व्यवहार को लेकर सजग हो चुके हैं।”

    प्रीटी ने आगे कहा कि, “वह नहीं चाहती की लोग झूठे इल्ज़ाम लगाकर इस मूवमेंट को गन्दा करें। मेरे भाई को इसका सामना करना पड़ा था और उसने अपने आप को गोली मार ली थी। मैंने इसके दोनों पहलुओं को देखा है। मैं बहुत दुखी हूँ। अपनी ज़िन्दगी में औरतों के अधिकार के लिए लम्बे समय तक लड़ने के बाद मुझे यह सब लिखना पड़ रहा है।”

    यह भी पढ़ें: तैमूर अली खान के हमशक्ल गुड्डे के बारे में क्या कहा सैफ अली खान और करीना ने

    By साक्षी सिंह

    Writer, Theatre Artist and Bellydancer

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *