दा इंडियन वायर » खानपान » पपीता का जूस पीने के फायदे
खानपान स्वास्थ्य

पपीता का जूस पीने के फायदे

पपीता का जूस पीने के फायदे

पपीता हमारे स्वास्थ्य के लिए अत्यंत लाभदायक होता है। पपीते में अनेक प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते हैं। पपीते को फलों के “एंजेल्स”के नाम से भी जानते हैं। गर्मी के मौसम में पपीता का जूस पीना सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है।

पपीते का जूस अनेक प्रकार के पोषक तत्वों से भरपूर होता है। इसे पीने से अनेक रोगों से छुटकारा मिलता है। इस लेख में हम पपीते के जूस के फायदों और उसको बनाने की विधि के विषय में चर्चा करेंगे।

आयें सर्वप्रथम देखते हैं कि पपीते के रस में किस प्रकार के पोषक तत्व मौजूद होते हैं।

100 ग्राम पपीते के रस में निम्नलिखित पोषक तत्व पाए जाते हैं:

  1. विटामिन ए – 19%
  2. कैल्सीयम – 2%
  3. मैग्नीशियम – 5%
  4. आयरन – 1%
  5. विटामिन सी – 101%
  6. शुगर – 8 ग्राम
  7. प्रोटीन – 0.5 ग्राम
  8. 182 मिलीग्राम पोटैशियम
  9. वसा – 0.3 ग्राम
  10. 43 कैलोरी ऊर्जा

इस प्रकार हम देख सकते हैं कि पपीते का रस अनेक लाभदायक तत्वों से भरपूर होता है। अब हम बात करेंगे कि पपीते के जूस का स्वास्थ्य के लिए क्या महत्व है?

स्वास्थ्य के लिए पपीता जूस के फायदे

1. प्रतिरक्षा प्रणाली को सुदृढ़ करना

पपीते के जूस में विटामिन ए व विटामिन सी की प्रचुर मात्रा पायी जाती है। ये दोनों ही विटामिन्स प्रतिरक्षा प्रणाली को मज़बूत बनाते हैं। इस कारण व्यक्ति का वायरल, बैक्टीरियल व फंगल संक्रमण से बचाव होता है।

जब किसी को बुखार, जुकाम या ठण्ड हो रही हो तो उसे पपीते के जूस का सेवन करना चाहिए। यह उसे इन समस्याओं से निजात देता है।

2. कब्ज की समस्या से छुटकारा

पपीते के रस में फ़ाइबर की पर्याप्त मात्रा उपस्थित होती है। ये फ़ाइबर क़ब्ज़ की समस्या से छुटकारा दिलाने में सहायक होता है।

फ़ाइबर आँतों की दीवारों को चिकना और मल को मुलायम कर देता है जिससे कि क़ब्ज़ दूर होता है।

3. पाचन संबंधी समस्याओं से छुटकारा

पपीते के जूस में उपस्थित पापेन नामक एन्जाइम पेट में हो रही गैस या अपच की समस्या से राहत देता है। यह पेट में हो रही ऐसिडिटी के स्तर को भी कम करता है।

इसके अतिरिक्त पपीते के जूस में पाया जाने वाला कार्पेन नामक यौगिक, अनेक प्रकार की उपापचयी क्रियाओं में होने वाली समस्याओं के निदान में उपयोग किया जाता है।

4. कैंसर के उपचार में

पपीते के जूस का सेवन करने से कैंसर जैसे रोग से बचा जा सकता है। पपीते का जूस प्रोस्टेट और पेट के कैंसर से बचाव करता है। यह पेट में मौजूद कोशिकाओं को अनियंत्रित होकर विभाजित नहीं होने देता है और इस प्रकार कैंसर से शरीर का बचाव करता है।

पपीते में मौजूद लाइकोपीन नामक तत्व कैंसर से शरीर की रक्षा करता है। पपीते में ऐसे पोषक तत्व मौजूद होते हैं जोकि अल्सर या घावों का उपचार करते हैं।

5. त्वचा की समस्याओं से निजात

यदि आपके चेहरे पर दाने या मुंहासों की समस्या हो रही है तो पपीते का इस्तेमाल करने से इससे छुटकारा पाया जा सकता है। पपीते को पीसकर एक पेस्ट बना लें और उसे चेहरे पर लगाएं। यह त्वचा के रोम छिद्रों को खोल देता है जिससे कि त्वचा में मौजूद गंदगी बाहर निकल जाती है।

इसके अतिरिक्त पपीते में मौजूद पैपेन नामक एंजाइम मृत कोशिकाओं को जड़ से ख़त्म कर देता है। इस प्रकार यह त्वचा को एक उत्तम निखार देता है।

6. रक्तचाप को नियंत्रित करना

पपीते के जूस में मौजूद फ़ाइबर और विटामिन्स रक्त में मौजूद वसा के कणों को ऊर्जा में परिवर्तित कर देते हैं। यह रक्त की सांद्रता को कम कर देते हैं जिससे कि रक्त धमनियों में जमने नहीं पाता है। इस तरह रक्त का प्रवाह सीधा व सरल बना रहता है। ऐसा होने पर हृदय संबंधी समस्याओं की संभावनाएं कम हो जाती हैं।

7. टॉन्सिल का इलाज

पपीते के जूस में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट तत्व गले में हो रहे टॉन्सिल का इलाज का करते हैं। कच्चे पपीते का रस शहद के साथ मिलाकर पीने से टॉन्सिल से राहत मिलती है।

8. मासिकधर्म की समस्याओं से छुटकारा

पपीते के जूस का सेवन करके मासिकधर्म में होने वाली समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है। पपीते का जूस मासिकधर्म में होने वाले दर्द और ऐंठन को कम कर देता है और रक्त के प्रवाह को नियमित करता है। इस कारण पपीते का जूस का प्रयोग गर्भपात के लिए भी किया जाता है।

9. आँतों की समस्या से निजात

पपीते का जूस आँतों की समस्याएं जैसे अल्सर, ऐंठन व घाव से निजात दिलाता है। यह आँतों में पाए जाने वाले हानिकारक कीड़ों को आँतों से बाहर निकालने में सहायक होता है।

यदि आँतों में कीड़े हो रहे हों, तो 6 या 7 दिनों तक पपीते के जूस का सेवन करने से इससे छुटकारा पाया जा सकता है। इसके अतिरिक्त पपीते का जूस आँतों में होने वाली ख़ुश्की को भी कम करता है जिससे क़ब्ज़ की समस्या से छुटकारा मिलता है।

10. श्वसन संबंधी समस्याओं का इलाज

पपीते का जूस श्वसनांगो में होने वाली सूजन को कम करता है। यह गले में ख़राश या दर्द से भी छुटकारा दिलाता है। इसके अतिरिक्त पपीते का जूस मुँह में होने वाले घावों का भी इलाज करता है।

उपरोक्त विवरण से हम देख सकते हैं कि पपीते का जूस हमारे स्वास्थ्य के लिए अत्यंत लाभदायक होता है।

पपीता का जूस बनाने की विधि

  • आवश्यक सामग्री-

  1. 500 ग्राम पका पपीता
  2. 1 कप संतरे का जूस
  3. 3 टेबलस्पून नीबू का रस
  4. 1 टेबलस्पून शहद
  • तरीक़ा

  1. सबसे पहले पपीते को एक ग्राइंडर में डालें और उसका रस निकाल लें।
  2. इसके बाद उसमें शहद, नींबू का रस और संतरे का रस मिलाएँ और पुनः उसे ग्राइंडर में डालकर चलाएँ। ऐसा करने से सारे तत्व आपस में मिल जाएंगे।
  3. अब इस मिश्रण को एक गिलास या जार में उड़ेल ले और फ़्रीज़ में ठंडा होने के लिए रख दें। कुछ देर बाद जब ये ठंडा हो जाए तो इसे परोसे।

यदि आपके मन में पपीता का जूस से सम्बंधित कोई सवाल है, तो आप उसे कमेंट के जरिये हमसे पूछ सकते हैं।

ये भी पढ़ें:

  1. केले का जूस पीने के फायदे

About the author

नायला हाशमी

4 Comments

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!

Want to work with us? Looking to share some feedback or suggestion? Have a business opportunity to discuss?

You can reach out to us at [email protected]