Wed. Dec 7th, 2022
    Mahesh Bhatt

    राष्ट्रिय पुरुस्कृत फिल्ममेकर महेश भट्ट जो अपनी पत्नी सोनी राजदान की आगामी फिल्म “नो फादर्स इन कश्मीर” को सीबीएफसी से प्रमाणपत्र ना मिलने पर समर्थन कर रहे हैं, उन्होंने सीबीएफसी पर जमकर निशाना साधा है। उन्होंने सेंसरशिप की प्रणाली की आलोचना की है जो सच्चाई का अनावरण करने में बाधाएं पैदा करती है।

    उन्होंने सोमवार को मीडिया से बात करते हुए कहा-“यह एक त्रासदी है कि ‘नो फादर्स इन कश्मीर’ जैसी फिल्म … एक फिल्ममेकर जो अपनी फिल्म को एक साथ रखता है और स्तंभ से लेकर पोस्ट तक चलाता है, उसे दिखाने के लिए लोगों से भीख मांग रहा है। इस उम्र और समय में, क्या सेंसरशिप नाम की कोई चीज है?”

    “मुझमे सत्य को देखने की धृष्टता है। मानव जाति को मिला सबसे बड़ा महाकाव्य- महाभारत, कुरुक्षेत्र के युद्ध से आया था, अंधकार के उस क्षण में, जो अंधेरे के साथ आँखें मिलाता है, वह जीवन को उजागर करता है जो आश्विन ने किया है।”

    आश्विन सीबीएफसी से प्रमाणपत्र के लिए महीनों से इंतजार कर रहे हैं। उन्होंने जुलाई 2018 में सेंसर प्रमाणपत्र के लिए अर्जी दी थी।

    फिल्म को ‘ए’ प्रमाणपत्र देने के सीबीएफसी के फैसले को चुनौती देने के बाद, जिसे निर्माताओं ने अपनी फिल्म के कंटेंट के आधार पर अनुचित पाया, उन्होंने एफसीएटी का नवंबर 2018 में दरवाजा खटखटाया और फिर उसकी सुनवाई पहले दिसंबर में और फिर बाद में, जनवरी 2019 में की गयी।

    https://www.instagram.com/p/BvEbEWZgMCX/?utm_source=ig_web_copy_link

    https://www.instagram.com/p/BvJUzXUgR0X/?utm_source=ig_web_copy_link

    एफसीएटी ने फिल्म पर अपना अंतिम आदेश दिया है जिसमें कुछ कट्स और डिस्क्लेमर सहित कुछ बदलावों के लिए कहा गया है। आश्विन अभी भी एक प्रमाणपत्र प्राप्त करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं, लेकिन रिलीज की तारीख पहले ही घोषित की जा चुकी है।

    सोनी राजदान, अंशुमन झा और कुलभूषण खरबंदा अभिनीत फिल्म “नो फादर्स इन कश्मीर” 5 अप्रैल को रिलीज़ हो रही है।

     

     

    By साक्षी बंसल

    पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *