गुरूवार, अक्टूबर 24, 2019

अलसी के तेल के बेहतरीन फायदे, उपयोग

Must Read

बैडमिंटन : सायना की संघर्षपूर्ण जीत, कश्यप, श्रीकांत और समीर पहले दौर में बाहर (लीड-1)

पेरिस, 23 अक्टूबर (आईएएनएस)। सायना नेहवाल ने यहां जारी फ्रेंच ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट के पहले दौर में मिली संघर्षपूर्ण...

उत्तराखंड पंचायत चुनाव में रावत व योगी के गृह जनपद में भाजपा पर भारी पड़ी कांग्रेस

देहरादून 23 अक्टूबर, (आईएएनएस)। उत्तराखंड में हुए पंचायत चुनाव में सबसे चौंकाने वाला नतीजा पौड़ी जिले का रहा है।...

गैर-तेल क्षेत्र की कंपनियों के लिए भी खुला पेट्रोल, डीजल की बिक्री का द्वार

नई दिल्ली, 23 अक्टूबर (आईएएनएस)। केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल की खुदरा बिक्री के नियमों को सरल बनाते...

अलसी के बीज हमारे लिए क़ुदरत के द्वारा दिए गए वरदान के समान ही हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि अलसी के बीज ज़बर्दस्त फायदों से भरपूर होते हैं।

अलसी को कई रूपों में प्रयोग किया जाता है जैसे कि अलसी का जेल, अलसी का तेल और अलसी का चूर्ण। अलसी के बीजों से तेल भी निकाला जाता है और यह तेल भी उतना ही फ़ायदेमंद होता है जितना कि अलसी के बीज।

इस लेख में हम अलसी के फायदों के विषय में चर्चा करेंगे। आइए देखते हैं कि हमारे स्वास्थ्य को अलसी का तेल किस तरह फ़ायदा पहुँचाता है।

अलसी के बीज के फायदे (alsi oil benefits in hindi)

1. अर्थराइटिस की समस्या से छुटकारा दिलाता है अलसी का तेल

जिन लोगों को मॉर्निंग सिकनेस की समस्या है उनके लिए अलसी का तेल बहुत फ़ायदेमंद होता है। अलसी का तेल शरीर में होने वाली सूजन या स्वेलिंग की समस्या को भी ख़त्म करता है।

अलसी के बीजों में ओमेगा थ्री फैटी एसिड की भरपूर मात्रा पाई जाती है। ये ओमेगा थ्री फैटी एसिड मॉर्निंग सिकनेस, सूजन और आर्थराइटिस की समस्या से निजात देता है।

एक शोध में इस बात का दावा किया गया है कि यदि नियमित रूप से अलसी के तेल का इस्तेमाल किया जाए तो उपरोक्त दी गई समस्याओं से पूर्णतः निजात पाई जा सकती है।

वहीं दूसरी ओर एक्सपर्ट्स का यह कहना है कि यदि अलसी के तेल की नियमित रूप से प्रचुर मात्रा ली जाए तो यह समस्याओं को पूर्णता ख़त्म कर सकता है या बिलकुल भी ख़त्म नहीं कर सकता है। कुल मिलाकर दोनों ही कंडीशन मानी गई हैं।

सूज़न वाले भाग पर या जोड़ों पर अलसी के तेल की मसाज करने पर सूजन और दर्द दोनों ही चीज़ों से छुटकारा मिलता है।

सिर्फ़ मसाज ही नहीं बल्कि अलसी के तेल का सेवन भी किया जा सकता है। प्रतिदिन एक टीस्पून अलसी के तेल का सेवन करने से ऑस्टियोपोरोसिस व अर्थराइटिस की समस्या से आराम मिलता है।

2. कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियमित करते हैं अलसी के बीज

जिन लोगों को कोलेस्ट्रॉल से सम्बंधित समस्या है उनके लिए अलसी का तेल एक बढ़िया घरेलू आप्शन है।

वैसे तो कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियमित रखने के लिए पर्याप्त मात्रा में एक्सरसाइज और एक संतुलित आहार की आवश्यकता होती है लेकिन फिर भी अलसी का तेल इस्तेमाल करने से काफ़ी फ़ायदा होता है।

अलसी का तेल ओमेगा थ्री फैटी एसिड से भरपूर होता है। ये एसिड शरीर में गुड कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाता है और बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करता है।

आप संतुलित आहार लेने के साथ साथ अलसी का तेल भी इस्तेमाल कर सकते हैं ताकि आपको एक बढ़िया इफेक्ट नज़र आ सके।

3. क़ब्ज़ की समस्या से छुटकारा पाने के लिए करें अलसी के तेल का इस्तेमाल

जी हाँ, अलसी में फ़ाइबर की प्रचुर मात्रा पाई जाती है जो कि हमारे पाचन के लिए बहुत फ़ायदेमंद होता है। अलसी के तेल में भी फ़ाइबर की उतनी ही मात्रा पाई जाती है। इस प्रकार अलसी का तेल हमारे पाचन के लिए काफ़ी ज़्यादा फ़ायदेमंद होता है।

वैसे भी अलसी देखने में और छूने में बहुत चिकना होता है। हम कह सकते हैं कि अलसी के बीजों का अर्क चिकना होता है।

इस तरह अलसी के तेल का इस्तेमाल करने से पेट और आंतों में चिकनाहट पैदा होती है और उसमें मौजूद हानिकारक पदार्थ आसानी से फिसलकर शरीर से बाहर निकल जाता है। इस तरह क़ब्ज़ की समस्या से पूरी तरह राहत मिल जाती है।

इसके अलावा अलसी का तेल कोलोन कैंसर की संभावनाओं को भी कम करता है। चूँकि इसमें ओमेगा थ्री फैटी एसिड्स कॉपर और फॉस्फोरस, फोलेट, मैग्नीशियम, मैंगनीज़ (manganese) की प्रचुर मात्रा पाई जाती है अतः यह पाचन से संबंधित समस्याओं का भरपूर इलाज करने में सहायक होता है।

4. बालों के लिए वरदान है अलसी का तेल

अगर आपके बाल बेहद ड्राई और बेजान हो रहे हों तो ऐसे में अलसी का जेल या अलसी का तेल आपके लिए किसी वरदान से कम नहीं है।

अलसी के तेल का इस्तेमाल करने से बालों में एक नई चमक आती है और वे एक जगह पर स्थिर नज़र आते हैं।

आप अलसी का तेल घर पर भी निकाल सकते हैं। इसके लिए आपको अलसी के बीजों की आवश्यकता होगी।

कुछ मात्रा में अलसी के बीज लें और उसमें थोड़ा सा पानी डालें। अब अलसी के बीजों को पानी के साथ उबलने के लिए रख दें।

थोड़ी देर तक उबालते रहें और जब देखें कि पानी काफ़ी गाढ़ा हो गया हो तो छन्नी की सहायता से पानी को अलग छान लें।

अब इसमें थोड़ा सा एलोवेरा जेल और नारियल का तेल मिला लें। इन तीनों चीज़ों को आपस में अच्छे से मिलाकर आप अपने बालों पर लगा सकते हैं।

यह आपके बालों को सिल्की एंड शाइनी बना देगा।

5. वज़न घटाने में सहायक है अलसी का तेल

वज़न घटाने में अलसी का तेल एक चमत्कारिक योगदान देता है। अगर आपको अपने पेट, जांघों या कमर का फ़ैट घटाना हो तो ऐसे में आपको अलसी के तेल का सेवन करना चाहिए।

आप चाहें तो अलसी के पाउडर का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

अलसी में डाइट्री फाइबर्स पाए जाते हैं जो पाचन क्रिया को सुदृढ़ करते हैं। इस तरह कोशिकाएं भोजन से वसा के अतिरिक्त कणों को नहीं लेती हैं और शरीर में एक्स्ट्रा फ़ैट नहीं बढ़ने पाता है।

6. कैंसर से सुरक्षा प्रदान करता है अलसी का तेल

अलसी में पाए जाने वाले मिनरल्ज और फोलेट कोशिकाओं के चेक पॉइंट्स पर नज़र रखते हैं। इसका मतलब है कि ये कोशिकाओं को एक निश्चित क्रम में ही बढ़ने के लिए प्रेरित करते हैं जिससे कि कोशिकाएं बढ़कर एक्स्ट्रा नहीं होने पाती। इस तरह कैंसर की समस्या नहीं होती।

शोधों में इस बात को सिद्ध किया गया है कि अलसी का तेल अनेक प्रकार के कैंसर जैसे ब्रेस्ट कैंसर, लंग्स कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर, कोलोन कैंसर आदि से सुरक्षा प्रदान करता है।

अलसी के तेल के और भी कई ऐसे गुण हैं जिनका कि हम लाभ उठा सकते हैं। आइए अब हम देखते हैं कि अलसी के तेल को कब प्रयोग में नहीं लाना चाहिए या कब उसके सेवन से बचना चाहिए?

अलसी के तेल के नुकसान (side effects of alsi oil in hindi)

  1. अगर आपको हार्मोनल समस्याएं हैं या आप डायबिटीज़ के मरीज़ हैं और आपका इलाज चल रहा है तो ऐसे में आप को अलसी के तेल का प्रयोग नहीं करना चाहिए। आप अपने डॉक्टर से इसके प्रयोग या सेवन के बारे में पूछ कर ही इसका लाभ ले सकते हैं।
  2. गर्भवती महिलाओं को अलसी के तेल के सेवन से बचना चाहिए क्योंकि यह काफ़ी गरम होता है। कुछ शोधों में इस बात का दावा किया गया है कि अलसी के तेल का सेवन करने से जन्म से पूर्व प्रसव की समस्या हो जाती है। यहाँ तक कि ये बात भी कही गई है कि अलसी के तेल का प्रयोग करने से महिलाओं में गर्भपात भी हो जाता है।
  3. जिन लोगों में विटामिन की कमी है और जिन को चोट लगने पर खून का थक्का आसानी से नहीं बन पाता है उन्हें भी अलसी के तेल का सेवन या प्रयोग नहीं करना चाहिए। अगर आप ऐसा करते हैं तो आपको गम्भीर ब्लीडिंग की समस्या हो सकती है। बेहतर है कि आप पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें। उसके बाद ही अलसी के तेल का लाभ लेने की सोचें।

इस तरह आपने देखा कि अलसी का तेल हमें कितना फ़ायदा पहुँचाता है और कब हमें उसके सेवन से बचना चाहिए। आशा है कि आपको अलसी के तेल से संबंधित काफ़ी जानकारियां प्राप्त हो गई होंगी।

यदि लेख से संबंधित आपके मन में कोई भी सवाल यह सुझाव है तो आप उसे नीचे कमेंट में लिख सकते हैं।

- Advertisement -

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

बैडमिंटन : सायना की संघर्षपूर्ण जीत, कश्यप, श्रीकांत और समीर पहले दौर में बाहर (लीड-1)

पेरिस, 23 अक्टूबर (आईएएनएस)। सायना नेहवाल ने यहां जारी फ्रेंच ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट के पहले दौर में मिली संघर्षपूर्ण...

उत्तराखंड पंचायत चुनाव में रावत व योगी के गृह जनपद में भाजपा पर भारी पड़ी कांग्रेस

देहरादून 23 अक्टूबर, (आईएएनएस)। उत्तराखंड में हुए पंचायत चुनाव में सबसे चौंकाने वाला नतीजा पौड़ी जिले का रहा है। यहां जिला पंचायत सीटों के...

गैर-तेल क्षेत्र की कंपनियों के लिए भी खुला पेट्रोल, डीजल की बिक्री का द्वार

नई दिल्ली, 23 अक्टूबर (आईएएनएस)। केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल की खुदरा बिक्री के नियमों को सरल बनाते हुए बुधवार को सभी कंपनियों...

रविदास मंदिर पर ओछी राजनीति कर रही कांग्रेस और आप : भाजपा

नई दिल्ली, 23 अक्टूबर,(आईएएनएस)। दिल्ली के तुगलकाबाद में रविदास मंदिर के मुद्दे पर भाजपा ने आम आदमी पार्टी और कांग्रेस पर ओछी राजनीति करने...

रविदास मंदिर पर ओछी राजनीति कर रही कांग्रेस और आप : भाजपा

नई दिल्ली, 23 अक्टूबर,(आईएएनएस)। दिल्ली के तुगलकाबाद में रविदास मंदिर के मुद्दे पर भाजपा ने आम आदमी पार्टी और कांग्रेस पर ओछी राजनीति करने...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -