शुक्रवार, सितम्बर 20, 2019

ब्लॉकबस्टर फिल्म “सिम्बा” की कामयाबी से भी क्यों संतुष्ट नहीं हैं रोहित शेट्टी?

Must Read

तिहाड़ में आत्महत्या की असफल कोशिश करने वाले कैदी की मौत

नई दिल्ली, 20 सितम्बर (आईएएनएस)। एशिया की सबसे सुरक्षित समझी जाने वाली तिहाड़ जेल में बंद उस कैदी की...

जरदारी के खिलाफ पार्क लेन मामले में 5 अक्टूबर को आरोप तय होंगे

इस्लामाबाद, 20 सितंबर (आईएएनएस)। इस्लामाबाद की जवाबदेही अदालत में पार्क लेन मामले में गुरुवार को पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति...

विरोधियों को कुचलने के लिए एजेंसी का इस्तेमाल कर रही सरकार : नवाज शरीफ

लाहौर, 20 सितम्बर (आईएएनएस)। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने गुरुवार को सरकार पर आरोप लगाया कि वह...
साक्षी बंसल
पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

रोहित शेट्टी की आखिरी रिलीज़ “सिम्बा” घरेलू बॉक्स ऑफ़िस पर उनकी सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फ़िल्म बनी। फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर 240 करोड़ रुपये से अधिक की कमाई की लेकिन रोहित शेट्टी ने FICCI 2019 सम्मेलन में कहा कि यह जिस तरह से था उससे अधिक हो सकता था। ग्राहकों की संख्या के बारे में बात करते हुए, रोहित ने कहा कि फिल्म के ग्राहकों की संख्या सिर्फ 2 करोड़ हैं और सबसे बड़ी बॉलीवुड हिट ‘दंगल‘ की शायद 4 करोड़ थी जो कि देश की आबादी की तुलना में कम है।

उन्होंने कहा-“हमारे पास अधिक सिनेमाघर होने चाहिए और हमें सरकार से मदद चाहिए। हमारे पास छोटे शहरों में सिनेमाघर होने चाहिए। ‘सिम्बा’ इतनी बड़ी हिट रही है, आज अगर हम ग्राहकों की संख्या की गिनती करें तो यह 2 करोड़ है। ‘दंगल’ की करोड़ होनी चाहिए। इससे ज्यादा नहीं। 135 करोड़ लोगों की आबादी में सिनेमाघरों में जाने वाले अधिकतम लोगों की संख्या 4 करोड़ है, जो 10 प्रतिशत भी नहीं है।”

View this post on Instagram

Lokmat Maharashtrian of the Year Award…Honoured ?

A post shared by Rohit Shetty (@itsrohitshetty) on

View this post on Instagram

BLESSED ❤️

A post shared by Rohit Shetty (@itsrohitshetty) on

उन्होंने इस बारे में भी बात की कि भारत में 10 हजार से अधिक सिनेमाघर क्यों नहीं हैं, उन्होंने तर्क दिया-“सिनेमाघर मालिकों के पास रखरखाव, बिल, भूमि, भुगतान, ओवरहेड्स के अपने मुद्दे हैं। मुझे लगता है कि हमें सरकार के साथ आने की जरूरत है और देखें कि कैसे हम सिनेमाघर मालिकों की मदद कर सकते हैं और एक तरीका खोज सकते हैं कि अधिक स्क्रीन हों। ”

उन्होंने फिल्मों के व्यवसाय को प्रभावित करने वाली पायरेसी (चोरी) के बारे में भी बात की। उन्होंने कहा-“लोग अपने मोबाइल पर फिल्में देखना पसंद करते हैं क्योंकि मुंबई जैसे शहरी इलाके में कोई भी फिल्म देखने के लिए घंटों ट्रैफिक में नहीं फंसना चाहता। अपने फ़ोन पर किसी फिल्म का पायरेटेड वर्जन देखना उनके लिए सुविधाजनक है। हम कहते रहते हैं कि पायरेसी हो रही है, लेकिन उन्हें कौन देख रहा है? हमें एक स्टैंड लेना होगा और उस तरह की फिल्में देखना बंद करना होगा। जब तक हम ऐसा नहीं करेंगे, केवल सरकार की पहल से काम नहीं चलेगा।”

 

 

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

तिहाड़ में आत्महत्या की असफल कोशिश करने वाले कैदी की मौत

नई दिल्ली, 20 सितम्बर (आईएएनएस)। एशिया की सबसे सुरक्षित समझी जाने वाली तिहाड़ जेल में बंद उस कैदी की...

जरदारी के खिलाफ पार्क लेन मामले में 5 अक्टूबर को आरोप तय होंगे

इस्लामाबाद, 20 सितंबर (आईएएनएस)। इस्लामाबाद की जवाबदेही अदालत में पार्क लेन मामले में गुरुवार को पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी, उनकी बहन...

विरोधियों को कुचलने के लिए एजेंसी का इस्तेमाल कर रही सरकार : नवाज शरीफ

लाहौर, 20 सितम्बर (आईएएनएस)। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने गुरुवार को सरकार पर आरोप लगाया कि वह अपने विरोधियों को कुचलने के...

अब बच्चों के लिए आ रही है फुकरे का एनीमेटेड संस्करण

मुंबई, 20 सितम्बर (आईएएनएस)। बॉलीवुड फिल्म फ्रेंचाइजी फुकरे का अब एक एनीमेटेड संस्करण भी आ रहा है जिसका नाम फुकरे बॉयज है।डिस्कवरी किड्स पर...

पीकेएल-7 के होम लेग के लिए तैयार है हरियाणा स्टीलर्स

पंचकुला, 20 सितम्बर (आईएएनएस)। जेएसडब्ल्यू स्पोटर्स के स्वामित्व वाली फ्रेंचाइजी हरियाणा स्टीलर्स प्रो कबड्डी लीग के सातवें सीजन में शनिवार से 28 सितम्बर से...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -