Wed. Apr 24th, 2024
    शशांक व्यास: मैंने बॉलीवुड में अपनी किस्मत आजमाने के लिए अपने सिक्स पैक एब्स नहीं बनाये हैं

    टीवी शो ‘रूप‘ से सभी का दिल जीतने वाले शशांक व्यास का कहना है कि उनकी एब्स उन्हें बॉलीवुड पहुँचाने के लिए काफी नहीं है और न ही इससे साबित होता है कि वह बॉलीवुड में प्रवेश करना चाहते हैं। उनके मुताबिक, “मैंने बॉलीवुड में अपनी किस्मत आजमाने के लिए अपने सिक्स पैक एब्स को विकसित नहीं किया। मेरे पास एक साल था जब मैं फ्री था और इसलिए मैंने वर्क-आउट करने के लिए खुद को समर्पित किया। इसके अलावा, सिक्स-पैक एब्स और फिल्म में भूमिका पाने के बीच कोई संबंध नहीं है, यह सब आपके अभिनय कौशल पर है। यह इसपर निर्भर है कि आप कैसा प्रदर्शन करते हैं और अपना 100 प्रतिशत देते हैं।”

    उन्होंने यह भी कहा कि फिल्में महत्वपूर्ण हैं, लेकिन अभी यह उनका माध्यमिक ध्यान है, प्राथमिक नहीं। उनके मुताबिक, “टेलीविजन पर एक किरदार निभाने में जितनी ऊर्जा मुझे लगती है, उतनी ही ऊर्जा मुझे बॉलीवुड की भूमिका में लगेगी। ऐसा नहीं है कि मैं 75 मिमी स्क्रीन के लिए कुछ ऊर्जा या शिल्प बचा रहा हूँ। मैं नहीं करना चाहता।”

    shashank

    “मेरे पास इस बात पर जोर देने का समय नहीं है कि यह किस माध्यम का है, मुझे इस बात की कोई परवाह नहीं है कि यह वेब सीरीज है, टेलीविजन है या फिल्म है। आज मैं जो कुछ भी हूँ वो टेलीविजन के कारण हूँ, लोग मुझे मेरे शो और मेरे शिल्प के कारण जानते हैं और लोग मुझसे बात करते हैं क्योंकि मैं एक टेलीविजन अभिनेता हूँ, यह मेरी उपजीविका है।”

    “मैं टेलीविज़न का सम्मान करता हूँ और टीवी एक ऐसा माध्यम है, जिससे हर बॉलीवुड अभिनेता अपने आप को जोड़ना चाहता है, चाहे वो फिल्म प्रचार हो, रियलिटी शो में भाग लेना हो, रियलिटी शो में जज बनना हो या टीवी पर विज्ञापनों में दिखना हो इसलिए टीवी को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है, नीचा दिखाना तो भूल ही जाओ। यह कहते हुए, मैं फिल्में करना चाहता हूँ, विशेष रूप से क्योंकि विभिन्न प्रकार का कंटेंट बनाया जा रहा है और टीवी अभिनेताओं के लिए गुंजाइश है। टीवी एक ऐसा माध्यम है जो आपको दबाव में काम करने और गुणवत्ता प्रदान करने में सक्षम बनाता है।”

    शशांक व्यास:

    इस दौरान, वह खुद को फिर से जीवंत करने के लिए एक विश्राम पर जाने की योजना भी बना रहे हैं। उन्होंने कहा-“व्यक्तित्व से व्यक्तित्व पर निर्भर करता है, लेकिन मुझे लगता है कि एक अभिनेता के जीवन में एक ब्रेक होना बहुत जरूरी है। मुझे अपने साथ रहने का समय चाहिए क्योंकि एक साल का व्यस्त कार्यक्रम रहा है।”

    शाहरुख़ खान शुरुआत से ही करोड़ो लोगो के लिए प्रेरणा रहे हैं और शशांक भी अलग नहीं है। उन्होंने खुलासा किया-“ड्रीमर, बिलीवर और अचीवर ये तीन शब्द एसआरके का वर्णन करते हैं और यही कारण है कि मैं उन्हें मानता हूँ। इंसान को सपने में विश्वास करना चाहिए और उसे हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत करनी चाहिए। एसआरके मेरी प्रेरणा हैं।”

    By साक्षी बंसल

    पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *