शशांक व्यास: “रूप” महिला केंद्रित शो की भीड़ के बीच भी अलग से दिखाई दिया है

शशांक व्यास:
bitcoin trading

जहाँ एक तरफ बॉलीवुड में अभिनेत्री फिल्मो में अभिनता को मुख्य नायक की भूमिका मिलने की शिकायत करती रहती हैं वही हिंदी टीवी इंडस्ट्री में, सभी टीवी सीरियल महिलाओं को ही ध्यान में रख कर बनाये जाते हैं। सीरियल ज्यादातर महिलाएं देखती हैं इसलिए सभी सीरियल महिला-केंद्रित ही होते हैं। लेकिन अब चूँकि बॉलीवुड में महिलाओं के लिए भी बेहतर किरदार लिखे जा रहे हैं, टीवी इंडस्ट्री में भी सकारात्मक बदलाव देखने के लिए मिल रहा है।

कुछ समय पहले एक सीरियल शुरू हुआ था जिसका नाम है “रूप- मर्द का नया स्वरुप” और इसमें खास बात ये है कि महिला-केंद्रित शो से भरे इस माध्यम में एक ऐसा शो शुरू हुआ है जिसका मुख्य किरदार एक पुरुष अभिनेता है। अभिनेता शशांक व्यास का कहना है कि एक साल बाद टीवी पर वापसी करने के लिए उन्हें इससे बेहतर शो मिल ही नहीं सकता था। वह आखिरी बार सीरियल ‘जाना ना दिल से दूर’ में नज़र आये थे।

roop-mard ka naya swaroop

टाइम्स ऑफ़ इंडिया को दिए इंटरव्यू में, उन्होंने साझा किया-“रूप एक पुरुष-केंद्रित शो है जो टीवी पर दुर्लभ है और मैं इससे जुड़ कर गर्वित महसूस करता हूँ। महिला केंद्रित शो की भीड़ के बीच भी डेली सोप अलग से दिखाई दिया है।”

शो अगले महीने खत्म हो रहा है। शशांक ने पुष्टि करते हुए कहा-“हां, शो खत्म हो रहा है। हर अच्छी चीज़ खत्म होती है। जबतक ये था अच्छा चल रहा था। मैंने शीर्षक किरदार निभाया और अनुभव ने मुझे बहुत ज्यादा फायदा किया है। ये मेरे पिछले काम के मुकाबले बहुत अलग था और मैंने इसमें अपना सबसे अच्छा प्रदर्शन दिया। एक कलाकार होने के नाते, मैं ये सुनिश्चित करूँगा कि मैं अलग अलग किरदार निभाऊं।”
roop

उन्होंने आगे कहा-“रूप ने मुझे अलग प्रकाश में दिखाया और मेरे किरदार के लिए प्रतिक्रिया उत्साहजनक रही है। हर अभिनेता थोड़ा उदास महसूस करता है जब उसका प्रोजेक्ट खत्म होता है लेकिन वह कहते हैं ना, शो जारी रहना चाहिए। मैंने सीखा है कि एक कलाकार को अपने द्वारा लिए किरदार में अपना सबकुछ देना पड़ता है और कोई भी अभिनेता स्क्रिप्ट से बड़ा नहीं है।”

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here