Tue. Jun 18th, 2024
    विधानवाचक वाक्य

    विषय-सूचि

    इस लेख में हम वाक्य के भेद विधानवाचक वाक्य के बारे में चर्चा करेंगे।

    विधानवाचक वाक्य की परिभाषा

    • ऐसे वाक्य जिनसे किसी काम के होने या किसी के अस्तित्व का बोध हो, वह वाक्य विधानवाचक वाक्य कहलाता है।
    • विधानवाचक वाक्यों को विधिवाचक वाक्य भी कहा जाता है।

    विधानवाचक वाक्य के उदाहरण

    • ममता ने खाना खा लिया। 

    जैसा की आप ऊपर दिए गए उदाहरण में देख सकते हैं, इससे हमें पता चल रहा है की ममता ने खाना खा लिया है। यानी हमें किसी काम के होने का बोध हो रहा है। अतः यह उदारहण विधानवाचक वाक्य के अंतर्गत आएगा

    • हिंदी हमारी राष्ट्रभाषा है। 

    ऊपर दिए गए उदाहरण में जैसा कि आप देख सकते हैं, हमें पता चल रहा है की हिंदी हमारी राष्ट्रभाषा है। यानी हमें किसी वस्तु के अस्तित्व का बोध हो रहा है। अतः यह उदाहरण विधानवाचक वाक्य के अंतर्गत आएगा।

    • हिमालय भारत के उत्तर में स्थित है।

    जैसा कि आप ऊपर दिए गए उदाहरण में देख सकते हैं, हमें हिमालय पर्वत के भारत का उत्तर में स्थित होने का बोध हो रहा है। यानी यह हमें किसी चीज़ का अस्तित्व बता रहा है। अतः यह उदाहरण विधानवाचक वाक्य के अंतर्गत आएगा।

    • वह एक लड़का है। 

    ऊपर दिए गए उदाहरण में जैसा कि आप देख सकते हैं, हमें इस चीज़ का बोध या इस चीज़ की निश्चितता हो रही है की जिसे हम देख रहे हैं, वह लड़का है। अतः यह उदाहरण विधानवाचक वाक्य के अंतर्गत आएगा।

    विधानवाचक वाक्य के कुछ अन्य उदाहरण

    • भारत हमारा देश है। 
    • राम ने खाना खा लिया। 
    • राम के पिता का नाम दशरथ है। 
    • राधा स्कूल चली गयी। 
    • मनीष ने पानी पी लिया।
    • अयोध्या के राजा का नाम दशरथ है।

    इस लेख से सम्बंधित यदि आपका कोई भी सवाल या सुझाव है, तो आप उसे नीचे कमेंट में लिख सकते हैं

    सम्बंधित लेख:

    1. सरल वाक्य – उदाहरण, परिभाषा
    2. मिश्र वाक्य – उदाहरण, परिभाषा
    3. संयुक्त वाक्य – उदाहरण, परिभाषा
    4. इच्छावाचक वाक्य – उदाहरण, परिभाषा
    5. निषेधवाचक वाक्य – उदाहरण, परिभाषा
    6. आज्ञावाचक वाक्य – उदाहरण, परिभाषा
    7. प्रश्नवाचक वाक्य – उदाहरण, परिभाषा
    8. संकेतवाचक वाक्य – उदाहरण, परिभाषा
    9. संदेहवाचक वाक्य – उदाहरण, परिभाषा
    10. विस्मयादिबोधक वाक्य – उदाहरण, परिभाषा

    By विकास सिंह

    विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *