Sat. Feb 4th, 2023
    राजकुमार हिरानी मीटू, विंता नंदा

    मीटू आंदोलन के अंतर्गत एक और चौंकाने वाला नाम उजागर हुआ है। यह राजकुमार हिरानी है, जिस पर ‘संजू’ बनाने के दौरान एक महिला का यौन उत्पीड़न करने का आरोप है।

    मार्च और सितंबर 2018 के बीच कथित तौर पर हिरानी ने 6 महीनों तक लगातार ऐसा किया था।

    एक बयान में, फिल्म निर्माता ने आरोपों को खारिज करते हुए कहा है कि,”मुझे पूरी तरह से झटका लगा जब ये आरोप मेरे संज्ञान में लगभग दो महीने पहले आए थे।

    मैंने तुरंत सुझाव दिया था कि इस मामले को किसी भी समिति या कानूनी निकाय में ले जाना आवश्यक है। शिकायतकर्ता ने इसके बजाय मीडिया में जाने के लिए चुना है।

    मैं बहुत दृढ़ता से कहना चाहता हूं कि यह एक झूठी दुर्भावनापूर्ण और शरारती कहानी है जो मेरी प्रतिष्ठा को नष्ट करने के एकमात्र उद्देश्य से फैलाई जा रही है। ”

    हालांकि, आरोपों का हिरानी के काम पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है। एक दैनिक रिपोर्ट में कहा गया है कि ‘मुन्ना भाई 3’ को तब तक रोक दिया जाएगा, जब तक हिरानी को क्लीन चिट नहीं मिल जाती। एक सूत्र ने टैब्लॉइड को बताया, “दिसंबर के अंत में एक बैठक में यह निर्णय लिया गया था कि अगर हिरानी को दोषी पाया गया तो फॉक्स ‘मुन्ना भाई 3’ से हाथ खीच लेगा।

    यह भी पढ़ें: तीन सालों से लापता हैं मुन्ना भाई एम्बीबीएस के अभिनेता विशाल ठक्कर

    महिला ने 3 नवंबर, 2018 को हिरानी के संजू सह-निर्माता विधु विनोद चोपड़ा को एक ईमेल में अपने आरोपों को विस्तृत रूप से बताया था। उन्होंने हफपोस्ट इंडिया के लेख में यह भी बताया कि विधु की पत्नी और फिल्म पत्रकार अनुपमा चोपड़ा के साथ ही हिरानी के सह-लेखक अभिजीत जोशी को मेल भी लिखा था।

    महिला ने कहा कि 9 अप्रैल, 2018 को, निर्देशक ने पहले उसके साथ अश्लील टिप्पणी की और बाद में उसके घर कार्यालय में यौन उत्पीड़न किया।

    उसने लिखा कि,”मेरे मन, शरीर और दिल का उस रात और अगले 6 महीनों तक घोर उल्लंघन किया गया था।” उसने बताया कि वह हिरानी को  पिता के रूप में देखती थी।

    महिला ने प्रकाशन को बताया कि यद्यपि वह हिरानी के व्यवहार से दंग थी, लेकिन वह नौकरी जाने नहीं दे सकती थी क्योंकि उसके पिता एक लाइलाज बीमारी से पीड़ित थे। उसे यह भी डर था कि फिल्म निर्माता उद्योग में उसकी प्रतिष्ठा को बर्बाद कर सकता है।

    उसने कहा कि,”मेरे पास उनके प्रति विनम्र होने के अलावा कोई विकल्प नहीं था। यह असहनीय था लेकिन मैंने यह सब सहन किया, क्योंकि मैं नहीं चाहती थी कि मेरा काम छिन जाए और पूछताछ शुरू हो जाए।

    “मुझे चिंता थी कि अगर मैंने बीच में छोड़ दिया, तो इस उद्योग में दूसरी नौकरी खोजना असंभव होगा। और यदि हिरानी ने मेरे काम की आलोचना कर दी तो मेरे भविष्य खतरे में पड़ सकता है।”

    जब प्रकाशन प्रतिक्रिया के लिए हिरानी के पास पहुंचा, तो उसने छह महीने की अवधि में पीड़ित के साथ अपने संदेश और ईमेल पत्राचार की प्रतियां साझा कीं, ताकि यह साबित हो सके कि उनका रिश्ता पूरी तरह से पेशेवर था।

    यह भी पढ़ें: ठाकरे फिल्म के हिंदी वर्जन को केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) ने किया पास

    By साक्षी सिंह

    Writer, Theatre Artist and Bellydancer

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *