Fri. Jun 21st, 2024
    मीटू अभियान: फिल्म "दे दे प्यार दे" में आलोक नाथ के होने से अजय देवगन को लगी ट्विटर पर लताड़

    आज बॉलीवुड सुपरस्टार अजय देवगन की आगामी फिल्म “दे दे प्यार दे” का ट्रेलर लांच हुआ है। उस फिल्म में अजय, तब्बू और रकुल प्रीत सिंह के अलावा, बॉलीवुड के मशहूर बाबु जी आलोक नाथ भी नज़र आये। बाकी सब सितारों के प्रदर्शन को सराहना मिली लेकिन जब बात आलोक नाथ की आई तो दर्शक भड़क उठे।

    ये तो सब जानते हैं कि आलोक पर मीटू अभियान के तहत यौन उत्पीड़न का आरोप लगा था। मंगलवार को इस इलज़ाम के ऊपर, अजय बोलने से भी कतराते दिखाई दिए थे। जब निर्माता लव रंजन से पूछा गया तो अजय ने बीच में टोक के बोला-“ये इस बारे में बात करने के लिए सही जगह नहीं है। जिनकी आप बात कर रहे हैं वो फिल्म उसके पहले खत्म हुई है।”

    अजय जिनका आज जन्मदिन भी है, उन्हें फिल्म में आलोक की मौजूदगी पर कुछ टिपण्णी ना करने के कारण, ट्विटर पर कड़ी आलोचना का सामना भी करना पड़ा। एक सोशल मीडिया यूजर ने लिखा-“आलोक नाथ का बचाव करने के लिए अजय देवगन पर शर्म है। आरोप और एफआईआर के बाद वे उसे निकाल सकते थे। मुझे नफरत है जब सेलेब्स कहते हैं कि ‘यह चर्चा करने का सही मंच नहीं है’। इस तरह के मुद्दे हर मंच पर चर्चा के पात्र थे।”

    दूसरे ने लिखा-“आलोक नाथ इस फिल्म में क्या कर रहा है। अजय तुमने मीटू आरोपी व्यक्ति के साथ कभी काम ना करने का वादा किया था, अब ये क्या है।” किसी और ने लिखा-“अन्य गंजे और संस्कारी पुरुष जिन पर बलात्कार का आरोप नहीं लगा है, वह भी अजय देवगन और भूषण कुमार की फिल्म में कास्ट हो सकते थे, आलोक नाथ के अलावा। लेकिन बलात्कार समर्थक / महिला विरोधी पक्षपात अब दिखता है।”

    जब IANS ने आलोक नाथ से बात की, उन्होंने कहा-“मैं ‘दे दे प्यार दे’ के बारे में कुछ भी बात नहीं करना चाहता।” अकिव अली द्वारा निर्देशित फिल्म एक रोमांटिक कॉमेडी है जिसका लेखन और सह-निर्माण लव रंजन ने किया है।

    लेखक-निर्देशक विंता नंदा ने पिछले साल आलोक नाथ पर लगभग 19 साल पुराने बलात्कार का इलज़ाम लगाया था जब दोनों साथ काम करते थे। उन्होंने अपने ऊपर लगे इल्जामो को खारिज कर दिया।

     

    By साक्षी बंसल

    पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *