दा इंडियन वायर » खानपान » अलसी का सेवन कैसे करें? अलसी खाने का तरीका
खानपान

अलसी का सेवन कैसे करें? अलसी खाने का तरीका

अलसी फाइबर का अच्छा स्रोत होता है जो आपके पाचन को सुधारता है और कोलेस्ट्रोल को नियंत्रित रखता है। इसके एक बड़े चम्मच बीज में 55 कैलोरीज, 3 ग्राम फाइबर, 2 ग्राम प्रोटीन और लगभग 2300 ग्राम अल्फा लिनोलिक एसिड मौजूद होता है।

अलसी के बीज मैग्नीशियम, मैंगनीज, थायमिन और सेलेनियम का बहुत अच्छा स्रोत होते हैं। इसमें लिग्नन जैसे एंटीओक्सीडैन्ट पाए जाते हैं जो कई प्रकार की स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं से निजात दिलाते हैं।

ये एलडीएल कोलेस्ट्रोल के उत्पादन को रोकता है और रक्त शर्करा को नियंत्रित रखते हुए मधुमेह के खतरे को कम करता है।

अलसी खाने का कोई सही समय नहीं है। आप इसका सेवन दिन में कभी भी कर सकते हैं। खाली पेट अलसी खाने से इसमें मौजूद फाइबर ढंग से अपना काम कर सकता है। अलसी खाने का सही तरीका है, इसके बीज को पीसकर अन्य किसी भोजन में उसे मिलाकर खाना।

आइये हम आपको यहाँ बताते हैं कि आप अलसी का सेवन कैसे कर सकते हैं?

अलसी का सेवन कैसे करें?

  • रोटी के साथ अलसी का सेवन

ब्रेड से बनने वाले व्यंजनों में कुछ भाग या फिर सम्पूर्ण आटे के स्थान पर आप अलसी के बीज का प्रयोग कर सकते हैं। आप अलसी के बीज को पिसे हुए बादाम या अखरोट के साथ भी मिला सकते हैं।

  • अलसी का सेवन सूप के रूप में

सूप बनाने के बाद आप उन्हें अलसी के बीज से सजा सकते हैं। इससे उसमें हल्का कुरकुरा स्वाद आ जाएगा। आप इसे टोस्टर या ओवन में रखकर भून सकते हैं फिर इसे अपने सूप पर डाल दें। ध्यान रखें कि आप इन्हें जला न दें।

  • अलसी खाने का तरीका कैसेरोल, मिर्च और स्ट्यू में मिलाकर

कैसेरोल, मिर्च और स्ट्यू में अलसी के बीज मिलाकर आप प्रचुर मात्रा में फाइबर और ओमेगा-3 का लाभ ले सकते हैं

  • ग्राउंड मीट के व्यंजन

मीटबॉल, टाकोस और मीटलोफ जैसे ग्राउंड मीट के व्यंजनों में आप ब्रेड के टुकड़ों के स्थान पर अलसी के बीज का प्रयोग कर सकते हैं। ये अत्यधिक फायदेमंद होंगे।

  • बेक्ड व्यंजन

ब्रेड, मफिन, बिस्कुट, केक आदि में आप अलसी के बीज डाल सकते हैं। इसके लिए आप इन व्यंजनों में उपयोग किये जाने वाले बैटर में ये बीज डाल सकते हैं। ऐसा करने से आपके व्यंजन कार्बोहायड्रेट की मात्रा कम हो जाती है और फाइबर की मात्रा बढ़ जाती है।

  • सुबह का अनाज

सुबह के नाश्ते में जब आप ओटमील आदि अनाज लेते हैं तो उनमें अलसी के बीज को जोड़ना आपके सुबह के नाश्ते को अत्यधिक स्वास्थवर्धक बना देता है

लो फैट योगर्ट या शुगर फ्री अनाज के साथ अलसी के बीज मिलाने से यह सर्वोत्तम होता है

  • अलसी खाने का तरीका स्मूथी में मिलाकर

अलसी के बीज को चीजों में डालने से उनमें क्रंची स्वाद आ जाता है। अपने सुबह के नाश्ते की स्मूथी में अलसी के बीज डालकर आप अतिरिक्त 2 ग्राम प्रोटीन ले सकते हैं।

इसे अपनी स्मूथी में डालने से पहले इसे पानी में भिगोकर रख दें जिससे यह नर्म हो जाती हैं। 

  • पैराफैट

योगर्ट, फल और अलसी के बीज मिलाकर आप सुबह के नाश्ते के लिए स्वादिष्ट पैराफैट तैयार कर सकते हैं

  • अलसी सेवन का तरीका हरा सलाद

ओमेगा-3 से भरपूर अलसी का तेल सलाद में डालने से इसकी गुणवत्ता बढ़ जाती है। इसके अतिरिक्त, यदि आप सलाद में अलसी के बीज डालते हैं तो उसमें क्रंच आने के साथ ही फाइबर की मात्रा भी बढ़ जाती है।

  • अलसी खाने का सही तरीका प्रोटीन सलाद के रूप में

जब आप टूना, चिकन या अंडे का सलाद बनाते हैं, तो उसमें अलसी के बीज डालकर आप उसकी उपयोगिता बढ़ा सकते हैं। ऐसा करने से सलाद में प्रोटीन की मात्रा बढ़ जाती है।

अलसी का सेवन क्यों करें?

पोषकता के मामले में अलसी सबसे फायदेमंद भोजनों में से एक है। अलसी में नियंत्रित मात्रा में सभी पोषक तत्व मौजूद होते हैं। इसका निरंतर सेवन सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है।

  • वजन कम करने में सहायक

अलसी में मौजूद फाइबर घुल जाती है और इंसान में अत्यधिक भूख मिटाती है जिसके कारण इसमें वज़न को कम करने की क्षमता आती है। यदि नियमित रूप से इसका सेवन किया जाये तो ये फाइबर पेट को भर देती है और मस्तिष्क तक यह सन्देश भेज देती है कि अब खाने की ज़रुरत खत्म हो चुकी है इसलिए अब खाना रोक दिया जाये।

  • पाचन तंत्र मजबूत

अलसी में मौजूद फाइबर पाचन क्रिया को संयमित रखती है और एक प्राकृतिक लैक्सेटिव (रेचक) है। इसके लिए भुनी हुई अलसी को पानी में डाल दें। इससे अलसी में मौजूद मोटी हो जाती है।

  • त्वचा के लिए फायदेमंद

त्वचा में चमक और मजबूत बालों के लिए अलसी का नियमित रूप से सेवन करें। रोजाना लगभग 2 चम्मच अलसी नाश्ते में लें। इसके अलावा आप एक से दो चम्मच अलसी का तेल का भी सेवन कर सकते हैं। अलसी का तेल त्वचा को नमी पहुंचाने में मदद करेगा और इसे प्राकृतिक चमक पहुंचाएगा।

यह भी पढ़ें : अलसी के औषधीय गुण

About the author

दिव्या

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!