दा इंडियन वायर » लोग » स्नेहा उल्लाल की जीवनी
लोग

स्नेहा उल्लाल की जीवनी

Sneha Ullal biography in hindi

स्नेहा उल्लाल भारतीय फिल्म की अभिनेत्री हैं। उन्होंने हिंदी फिल्मो के अलावा तेलुगु, कन्नड़, बंगाली और अंग्रेजी फिल्मो में भी अपना डेब्यू कर लिया है। उन्होंने अपने अभिनय की शुरुआत साल 2005 से की थी। उनके द्वारा अभिनय किय गए फिल्मो की बात करे तो उन्होंने ‘लकी: नो टाइम फॉर लव’, ‘आर्यन’, ‘काश – मेरे होते’, ‘बेज़बान इश्क़’, ‘सिंहा’, ‘करंट’ जैसी फिल्मो में अभिनय किया है।

उन्हें अभिनेता सलमान खान के साथ बॉलीवुड में लॉन्च किया गया था। स्नेहा और ऐश्वर्या राय बच्चन की शकल में बहुत समानता है, जिसकी वजह से उन्हें अभिनेता सलमान खान के साथ अभिनय करने का मौका मिला था। स्नेहा उल्लाल को साल 2015 के बाद अभी तक किसी भी फिल्म या विज्ञापन में नहीं देखा गया है।

स्नेहा उल्लाल का प्रारंभिक जीवन

स्नेहा उल्लाल का जन्म 18 दिसंबर 1987 को मस्कट, ओमान में हुआ था। उनके पिता का नाम ‘नितिन उल्लाल’ है और माँ का नाम ‘उषा उल्लाल’ है। स्नेहा की एक बहन हैं, जिनका नाम ‘सौम्या’ उल्लाल है। स्नेहा ने अपने स्कूल की पढाई तीन अलग अलग स्कूलों से पूरी की थी। उन्होंने ‘इंडियन स्कूल’, मस्कट, ‘इंडियन स्कूल’, सलालाह और ‘दुरुएलो कान्वेंट हाई स्कूल, मुंबई से अपने स्कूल की पढाई पूरी की थी।

स्नेहा ने ‘एमएमके कॉलेज’, मुंबई से अपने ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की थी। स्नेहा की शकल अभिनेत्री ऐश्वर्या राय से मिलने की वजह से उन्हें सलमान खान के साथ फिल्म ‘लकी: नो टाइम फॉर लव’ में अभिनय करने का मौका मिला था।

स्नेहा उल्लाल का व्यवसायिक जीवन

स्नेहा उल्लाल ने अपने अभिनय के व्यवसाय की शुरुआत साल 2005 में की थी। उन्होंने सबसे पहल ‘राधिका राव’ और ‘विनय सप्रू’ द्वारा निर्देशित फिल्म ‘लकी: नो टाइम फॉर लव’ में अभिनय किया था। इस फिल्म में स्नेहा ने ‘लकी नेगी’ नाम का किरदार अभिनय किया था और फिल्म में उसके साथ मुख्य किरदार को दर्शाते हुए अभिनेता सलमान खान को देखा गया था।

इस फिल्म में स्नेहा को कास्ट करने की वजह एक यह भी थी की उनकी सकल सभिनेत्री ऐश्वर्या राय बच्चन से मिलती झूलती हैं। हालांकि यह बात फिल्म को सफल बनाने में बिलकुल भी शामिल नहीं हो पाई थी। फिल्म को ना तो क्रिटिक्स ने पसंद किया था और नाहीं दर्शको द्वारा फिल्म को पसंद किया गया था। फिल्म ने बॉक्स ऑफिस में अपना नाम फ्लॉप फिल्मो की लिस्ट में जारी किया था।

इसके बाद साल 2006 में स्नेहा को फिल्म ‘आर्यन’ में देखा गया था। इस फिल्म के निर्देशक ‘अभिषेक कपूर’ थे और फिल्म में स्नेहा ने ‘नेहा ए. वर्मा’ नाम का किरदार अभिनय किया था। इस फिल्म में उन्होंने अभिनेता सोहेल खान के साथ मुख्य किरदार को दर्शाया था। साल 2007 में भी स्नेहा ने संजय शर्मा द्वारा निर्देशित फिल्म ‘जाने भी दो यारों’ में एक कैमिओ किरदार को दर्शाया था।

साल 2008 में स्नेहा उल्लाल ने अपना डेब्यू तेलुगु फिल्मो में भी कर लिया था। उन्होंने सबसे पहले फिल्म ‘उल्लासमंग उत्साहमंग’ में अभिनय किया था। इस फिल्म को ‘ए. करुणाकरण’ द्वारा निर्देश किया गया था और साथ ही फिल्म में स्नेहा ने ‘धनलक्ष्मी’ नाम का किरदार अभिनय किया था। इस फिल्म में किए गए उनके अभिनय के लिए उन्हें तेलुगु अवार्ड शो में ‘बेस्ट डेब्यू एक्ट्रेस’ का अवार्ड्स भी मिला था। इस साल की स्नेहा की दूसरी फिल्म का नाम ‘नेनु मीकू तेलूसा….?’ था। यह भी तेलुगु फिल्म ही थी, जिसके निर्देशक ‘अजय शास्त्री’ थे। फिल्म में स्नेहा ने ‘अंजलि’ नाम का किरदार अभिनय किया था। इस साल की उनकी तीसरी फिल्म भी तेलुगु फिल्म थी जिसका नाम ‘किंग’ था। इस फिल्म में स्नेहा ने ‘नुव्वु’ गाने पर डांस किया था।

साल 2009 की बात करे तो इस साल स्नेहा ने एक बार फिर हिंदी फिल्म ‘काश – मेरे होते’ में अभिनय किया था। फिल्म के निर्देशक का नाम ‘तरुण कुमार’ था और फिल्म में स्नेहा ने ‘राधिका’ नाम का किरदार अभिनय किया था। इन फिल्म के बाद स्नेहा को तेलुगु फिल्म ‘करंट’ में देखा गया था। फिल्म के निर्देशक का नाम ‘पालनती सत्य प्रताप’ था और स्नेहा ने फिल्म में ‘स्नेहा’ नाम का ही किरदार अभिनय किया था।

साल 2010 में स्नेहा उल्लाल ने तीन फिल्मो में अभिनय किया था। उन्होंने सबसे पहले हिंदी फिल्म ‘क्लिक’ में अभिनय किया था। इस फिल्म के निर्देशक का नाम ‘संगीता सिवान’ था और फिल्म में स्नेहा ने ‘आरती कौशिक’ नाम का किरदार अभिनय किया था। इस साल की उनकी दूसरी फिल्म एक तेलुगु फिल्म थी, जिसका नाम ‘वरुडु’ था। इस फिल्म में स्नेहा ने कैमिओ किरदार को दर्शाया था। साल की स्नेहा की आखरी फिल्म का नाम ‘सिंहा’ थी जिसके निर्देशक ‘बोयापति श्रीनू’ थे। फिल्म में स्नेहा ने ‘जानकी’ नाम का किरदार अभिनय किया था।

साल 2011 में स्नेहा ने चार फिल्मो में अभिनय किया था, जिनमे से दो तेलुगु, एक कन्नड़ और एक अंग्रेजी फिल्म थी। उस साल की उनकी पहली तेलुगु फिल्म का नाम ‘अला मोडलैंडी’ था। फिल्म के निर्देशक का नाम ‘बी. वि. नंदिनी रेड्डी’ था और स्नेहा ने फिल्म में ‘काव्य’ नाम का किरदार दर्शाया था। इसी साल स्नेहा उल्लाल ने अपना डेब्यू पहले कन्नड़ फिल्मो में किया था और बाद में अंग्रेजी फिल्मो में भी किया था। उनकी कन्नड़ फिल्म का नाम ‘देवी’ था जिसके निर्देशक ‘ईश्वर’ थे। इसके बाद स्नेहा ने अंग्रेजी फिल्म में अभिनय किया था, जिसका नाम ‘गाँधी पार्क’ था। फिल्म के निर्देशक ‘टॉम जॉर्ज’ थे और स्नेहा के किरदार का नाम ‘प्रियंका फिलिप्स’ था। इसी साल की स्नेहा की आखरी फिल्म का नाम ‘मदथा क़ज़ा’ थी, जो तेलुगु फिल्म थी। फिल्म में स्नेहा ने ‘स्वप्ना’ नाम का किरदार अभिनय किया था।

साल 2012 में स्नेहा उल्लाल ने अपना डेब्यू बंगाली फिल्मो में भी किया था। उनकी पहली बंगाली फिल्म का नाम ‘मोस्ट वेलकम’ थी। इस फिल्म की निर्देशक ‘अनन्या मामून’ थी। फिल्म में स्नेहा ने एक छोटा सा कैमिओ किरदार दर्शाया था। साल 2013 में उन्होंने तेलुगु फिल्म ‘एक्शन 3 डी’ में अभिनय किया था। इस फिल्म के निर्देशक ‘अनिल सुनकरा’ थे और स्नेहा ने फिल्म में ‘समीरा’ नाम का किरदार अभिनय किया था।

अगले साल यानी साल 2014 में स्नेहा ने फिल्म ‘अन्था नी मायलोन’ में अभिनय किया था। यह भी तमिल फिल्म ही थी, जिसके निर्देशक ‘पीवी कृष्णा’ थे। इस साल भी स्नेहा ने केवल इसी फिल्म में अभिनय किया था। इसके बाद साल 2015 में स्नेहा को हिंदी फिल्म ‘बेज़ुबान इश्क़’ में देखा गया था। इस फिल्म में स्नेहा ने ‘रुमझुम’ नाम का किरदार अभिनय किया था। फिल्म के निर्देशक का नाम ‘जशवंत गंगानी’ था। इस फिल्म के बाद स्नेहा उल्लाल को अभी तक किसी फिल्म या विज्ञापन में अभिनय करते हुए नहीं देखा गया है।

स्नेहा उल्लाल का निजी जीवन

स्नेहा उल्लाल का नाम आज तक किसी के साथ नहीं जुड़ा है और नाही उन्हें कभी किसी के साथ देखा गया है। उनका नाम एक बार कंट्रोवर्सी में आया था, जब उनकी जीवनी पर ‘विकिपीडिया’ ने टिप्पड़ी लिखी थी की उनकी शादी किसी ‘योगेश पाटिल’ से हो गई है। इस बारे में स्नेहा ने बाद में कहा था की उनकी शादी ना तो किसी से हुई है और नाही वो अपने जीवन में शादी करना चाहती हैं।

स्नेहा उल्लाल के पसंदीदा चीज़ो की बात करे तो उन्हें खाने में मेक्सिकन खाना बहुत पसंद है। स्नेहा के पसंदीदा अभिनेता ‘अक्षय कुमार’ हैं। अभिनेत्रियों में उन्हें करीना कपूर और त्रिशा कृष्नान पसंद हैं। स्नेहा ही पसंदीदा फिल्म का नाम ‘जो जीता वही सिकंदर’ हैं। स्नेहा उल्लाल ने अपने एक इंटरव्यू में बताया था की उन्हें जानवरो से बहुत प्यार है और इसी वजह से उनका सपना है की वो जानवरो के लिए एक हॉस्पिटल बनवाना चाहती हैं।

आप अपने सवाल और सुझाव नीचे कमेंट में लिख सकते हैं।

यह लेख आपको कैसा लगा?

नीचे रेटिंग देकर हमें बताइये, ताकि इसे और बेहतर बनाया जा सके

औसत रेटिंग 4.7 / 5. कुल रेटिंग : 86

कोई रेटिंग नहीं, कृपया रेटिंग दीजिये

यदि यह लेख आपको पसंद आया,

सोशल मीडिया पर हमारे साथ जुड़ें

हमें खेद है की यह लेख आपको पसंद नहीं आया,

हमें इसे और बेहतर बनाने के लिए आपके सुझाव चाहिए

कृपया हमें बताएं हम इसमें क्या सुधार कर सकते है?

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!