मंगलवार, अक्टूबर 15, 2019

क्यों यश और रूही का सिंगल पैरेंट होना डराता है करण जौहर को? फिल्ममेकर ने साझा की अपनी चिंता

Must Read

उप्र उपचुनाव में बसपा ने सर्वाधिक पूंजीपतियों, अपराधियों को दिए टिकट : एडीआर

लखनऊ, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में 11 सीटों पर हो रहे उपचुनाव में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने...

उप्र : बांदा जिले में ट्रक से कुचल कर देवर-भाभी की मौत, 1 घायल

बांदा, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में बांदा जिले के तिंदवारी कस्बे में सोमवार रात एक ट्रक से कुचल...

भारतीय तेल कारोबारियों ने रोकी मलेशिया से पाम ऑयल की खरीद (लीड-1)

नई दिल्ली, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। कश्मीर मसले को लेकर मलेशिया के प्रधानमंत्री महाथिर मोहम्मद द्वारा भारत की आलोचना से...
साक्षी बंसल
पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

करण जौहर जो यश और रूही के सिंगल पैरेंट हैं, उन्होंने बताया कि अकेले इतनी बड़ी ज़िम्मेदारी संभालना कितना मुश्किल है। उन्होंने कहा कि उन्हें बच्चो को माँ और पिता दोनों का प्यार देना पड़ता है और लगातार ये सुनिश्चित करना कि उनके पास किसी चीज़ की कमी ना ही, काफी ‘डरावना’ और ‘चुनौतीपूर्ण’ कार्य है।

करण जौहर हाल ही में रणवीर सिंह के साथ एक चैट शो पर उपस्थित हुए, वही उन्होंने परवरिश की चिंता के बारे में बात की। उन्होंने कहा-“सिंगल पैरेंट होना काफी डरावना और चुनौतीपूर्ण है क्योंकि मुझे लगता है कि एक बच्चे की परवरिश में दोनों माता और पिता का सहयोग चाहिए होता है। कई मायने में आप कह सकते हैं कि यश और रूही को लेना बहुत ही प्यारा मगर स्वार्थपूर्ण निर्णय भी था। ये है क्योंकि मुझे खुद के लिए वो प्यार चाहिए था। मेरी ज़िन्दगी में बड़ा रिक्त स्थान था जो बच्चों से भरना था।”

“विचित्र रूप से, वो मुझे डैड कहते हैं और मेरी माँ को मामा। वो उन्हें दादी नहीं कहते। क्योंकि मुझे लगता है कि हम मिलकर उनकी परवरिश कर रहे हैं। इसलिए मैं बहुत कोशिश कर रहा हूँ कि हम दोनों पूरी तरह से माता और पिता का किरदार अदा कर सकें।”

करण ने यह भी खुलासा किया कि कैसे वह अपने बच्चों को किसी भी मायने में अधूरा महसूस नहीं करने के लिए हर दिन सुनिश्चित कर रहे हैं।

 

उनके मुताबिक, “ये कठिन है क्योंकि मेरी माँ के बाद, और वो विचार मुझे हर दिन डराता है। मैं बस यही आशा करता हूँ कि मेरे दिल में उन्हें देने के लिए बहुत सारा प्यार हो ताकि उन्हें किसी भी मायने में अधूरा महसूस ना हो। उन्हें ये महसूस नहीं कराना चाहता कि वे परवरिश की प्रक्रिया में किसी चीज़ से वंचित हो रहे हैं।”

“मैं बस इतना कर सकता हूँ कि मैं उन्हें पूरे दिल से प्यार करूं। और यह भी सुनिश्चित करूँ कि वे सही काम करे क्योंकि मैं अपने माता-पिता द्वारा सही और गलत की बहुत मजबूत भावना के साथ बहुत दृढ़ता से बड़ा हुआ हूँ। और मैं चाहता हूँ कि यश और रूही में भी वह आए।”

 

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

उप्र उपचुनाव में बसपा ने सर्वाधिक पूंजीपतियों, अपराधियों को दिए टिकट : एडीआर

लखनऊ, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में 11 सीटों पर हो रहे उपचुनाव में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने...

उप्र : बांदा जिले में ट्रक से कुचल कर देवर-भाभी की मौत, 1 घायल

बांदा, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में बांदा जिले के तिंदवारी कस्बे में सोमवार रात एक ट्रक से कुचल कर मोटरसाइकिल सवार एक महिला...

भारतीय तेल कारोबारियों ने रोकी मलेशिया से पाम ऑयल की खरीद (लीड-1)

नई दिल्ली, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। कश्मीर मसले को लेकर मलेशिया के प्रधानमंत्री महाथिर मोहम्मद द्वारा भारत की आलोचना से नाराज भारतीय कारोबारियों ने मलेशिया...

जूनियर हॉकी : जोहोर कप में जापान से 3-4 से हारा भारत

जोहोर बाहरू (मलेशिया), 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। भारतीय जूनियर पुरुष हॉकी टीम को यहां जारी नौवें सुल्तान जोहोर कप के अपने तीसरे मुकाबले में मंगलवार...

बैडमिंटन : सिंधु और प्रणीत जीते, सौरभ तथा कश्यप डेनमार्क ओपन से बाहर (लीड-1)

ओडिंसे, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। विश्व चैम्पियनशिप में स्वर्ण जीतने वाली पी. वी. सिंधु और कांस्य पदक विजेता बी. साई. प्रणीत ने मंगलवार को डेनमार्क...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -