मंगलवार, दिसम्बर 10, 2019

क्यों यश और रूही का सिंगल पैरेंट होना डराता है करण जौहर को? फिल्ममेकर ने साझा की अपनी चिंता

Must Read

दिल्ली अनाज मंडी अग्निकांड : सीबीआई जांच, न्यायिक जांच की याचिका खारिज

दिल्ली उच्च न्यायालय ने मंगलवार को अनाज मंडी अग्निकांड की न्यायिक और सीबीआई जांच की मांग वाली याचिका खारिज...

मध्य प्रदेश भाजपा नेता प्रहलाद लोधी की विधानसभा सदस्यता बहाल

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक प्रहलाद लोधी की विधानसभा सदस्यता बहाल कर दी गई है। विधानसभाध्यक्ष एन. पी....

‘कुंग फू पांडा’ के निर्देशक जॉन स्टीवेन्सन भारत में काम करने को हैं तैयार

ऑस्कर के लिए नामांकित फिल्म निर्माता और अनुभवी एनिमेटर जॉन स्टीवेन्सन 'कुंग फू पांडा' और 'शरलॉक गोम्स' जैसी अपनी...
साक्षी बंसल
पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

करण जौहर जो यश और रूही के सिंगल पैरेंट हैं, उन्होंने बताया कि अकेले इतनी बड़ी ज़िम्मेदारी संभालना कितना मुश्किल है। उन्होंने कहा कि उन्हें बच्चो को माँ और पिता दोनों का प्यार देना पड़ता है और लगातार ये सुनिश्चित करना कि उनके पास किसी चीज़ की कमी ना ही, काफी ‘डरावना’ और ‘चुनौतीपूर्ण’ कार्य है।

करण जौहर हाल ही में रणवीर सिंह के साथ एक चैट शो पर उपस्थित हुए, वही उन्होंने परवरिश की चिंता के बारे में बात की। उन्होंने कहा-“सिंगल पैरेंट होना काफी डरावना और चुनौतीपूर्ण है क्योंकि मुझे लगता है कि एक बच्चे की परवरिश में दोनों माता और पिता का सहयोग चाहिए होता है। कई मायने में आप कह सकते हैं कि यश और रूही को लेना बहुत ही प्यारा मगर स्वार्थपूर्ण निर्णय भी था। ये है क्योंकि मुझे खुद के लिए वो प्यार चाहिए था। मेरी ज़िन्दगी में बड़ा रिक्त स्थान था जो बच्चों से भरना था।”

“विचित्र रूप से, वो मुझे डैड कहते हैं और मेरी माँ को मामा। वो उन्हें दादी नहीं कहते। क्योंकि मुझे लगता है कि हम मिलकर उनकी परवरिश कर रहे हैं। इसलिए मैं बहुत कोशिश कर रहा हूँ कि हम दोनों पूरी तरह से माता और पिता का किरदार अदा कर सकें।”

करण ने यह भी खुलासा किया कि कैसे वह अपने बच्चों को किसी भी मायने में अधूरा महसूस नहीं करने के लिए हर दिन सुनिश्चित कर रहे हैं।

 

उनके मुताबिक, “ये कठिन है क्योंकि मेरी माँ के बाद, और वो विचार मुझे हर दिन डराता है। मैं बस यही आशा करता हूँ कि मेरे दिल में उन्हें देने के लिए बहुत सारा प्यार हो ताकि उन्हें किसी भी मायने में अधूरा महसूस ना हो। उन्हें ये महसूस नहीं कराना चाहता कि वे परवरिश की प्रक्रिया में किसी चीज़ से वंचित हो रहे हैं।”

“मैं बस इतना कर सकता हूँ कि मैं उन्हें पूरे दिल से प्यार करूं। और यह भी सुनिश्चित करूँ कि वे सही काम करे क्योंकि मैं अपने माता-पिता द्वारा सही और गलत की बहुत मजबूत भावना के साथ बहुत दृढ़ता से बड़ा हुआ हूँ। और मैं चाहता हूँ कि यश और रूही में भी वह आए।”

 

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

दिल्ली अनाज मंडी अग्निकांड : सीबीआई जांच, न्यायिक जांच की याचिका खारिज

दिल्ली उच्च न्यायालय ने मंगलवार को अनाज मंडी अग्निकांड की न्यायिक और सीबीआई जांच की मांग वाली याचिका खारिज...

मध्य प्रदेश भाजपा नेता प्रहलाद लोधी की विधानसभा सदस्यता बहाल

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक प्रहलाद लोधी की विधानसभा सदस्यता बहाल कर दी गई है। विधानसभाध्यक्ष एन. पी. प्रजापति ने लोधी को उच्च...

‘कुंग फू पांडा’ के निर्देशक जॉन स्टीवेन्सन भारत में काम करने को हैं तैयार

ऑस्कर के लिए नामांकित फिल्म निर्माता और अनुभवी एनिमेटर जॉन स्टीवेन्सन 'कुंग फू पांडा' और 'शरलॉक गोम्स' जैसी अपनी फिल्मों के लिए जाने जाते...

चिली का सैन्य विमान लापता, 38 लोग थे सवार

अंटार्कटिका जा रहा चिली का एक सैन्य विमान सोमवार को लापता हो गया। विमान में 38 लोग सवार थे। देश की वायु सेना ने...

लोकसभा में 311 मतों के समर्थन के साथ पारित हुआ नागरिकता संशोधन विधेयक

लोकसभा में आखिरकार सोमवार की आधी रात के बाद नागरिकता संशोधन विधेयक पारित कर दिया। जिसमें पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आने वाले गैर-मुस्लिम...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -