सोमवार, जनवरी 20, 2020

भारत की तारीफ में बोले मालदीव के पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल गयूम, बताया लोकतंत्र का रक्षक

Must Read

छत्तीसगढ़ : बीजापुर के जंगलों में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ में एक महिला नक्सली ढेर

छत्तीसगढ़ में बीजापुर के जंगली इलाके में पुलिस और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) ने एक मुठभेड़ में एक...

केरल : मंत्रीमंडल ने राज्य में एनपीआर और एनआरसी को लागू नहीं करने को मंजूरी दी

नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ अपना रुख सख्त करते हुए केरल मंत्रिमंडल ने सोमवार को विशेष बैठक करने...

लीबिया : पाइपलाइन बंद होनें से प्रभावित हुई कच्चे तेल की आपूर्ति, 10 दिनों की ऊंचाई पर पहुंची कीमत

तनावग्रस्त लीबिया से कच्चे तेल की आपूर्ति प्रभावित होने से सोमवार को तेल के दाम में एक फीसदी से...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

मालदीव में राष्ट्रपति चुनावों के बाद घिरे राजनीतिक संकट के काले बादल अब छंटते जा रहे हैं।

मालदीव के पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल गयूम ने भारत की सराहना करते हुए कहा कि सत्तासीन सरकार पर दबाव बनाकर मालदीव में लोकतंत्र की रक्षा भारत ने की है। अब्दुल गयूम ने कहा कि मालदीव की नवनिर्वाचित सरकार का रुख भारत के प्रति नरम है।

पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल गयूम तीन दशक 2008 तक सत्ता पर काबिज थे और एक माह पूर्व ही उन्हें कैद से रिहा कर दिया था। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन के कार्यकाल में लोकतंत्र को बहुत नुकसान हुआ है। हालांकि लोकतान्त्रिक ताकतों ने दुश्मनों को धुल चटा दी थी।

मालदीव में 23 सितम्बर को हुए राष्ट्रपति चुनावों में विपक्षी दल के साझा उम्मीदवार इब्राहीम सोलिह को जीत मिली थीमालदीव में राजनीतिक संकट का दौर फ़रवरी में शुरू हुआ था। राष्ट्रपति यामीन ने अब्दुल सहित अन्य विपक्षी नेताओं को जेल में डाल दिया था

हाल ही में अब्दुल्ला यामीन ने चुनावों के नतीजों को चुनौती दी थी। उन्होंने आरोप लगाए कि चुनावी प्रक्रिया में हेराफेरी हुई थी लेकिन शीर्ष अदालत ने उनकी याचिका को खारिज कर दिया था। राष्ट्रपति यामीन 17 नवम्बर को विजेता दल को सत्ता की कमान सौंप देंगे।

यह भी पढ़ें: मालदीव में सोलिह की जीत भारत के लिए कितनी मददगार?

अब्दुल गयूम ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में मालदीव की संवेधानिक संस्थाओं और राज्यों से मालदीव की जनता का विश्वास डगमगाया है। बहरहाल जनता ने चुनाव में अपना सही फैसला सुनाया था।

उन्होंने यकीन दिलाया कि नवनिर्वाचित गठबंधन की सरकार में संविधान, संवैधानिक संस्था, और संविधान में दिये नागरिकों के अधिकार को मज़बूत और सुरक्षित बनाया जायेगा।

यह भी पढ़ें: क्या भारत और मालदीव के बीच मज़बूत रिश्तों की होगी शुरुआत?

चीन के अब्दुल्ला यामीन को समर्थन के बाबत अब्दुल गयूम ने उम्मीद जताई कि चीन मालदीव की जनता की इच्छा का सम्मान करेगा। उन्होंने कहा कि मालदीव में आपातकाल के दौरान भारत ने एक सकारात्मक किरदार निभाया है। साथ ही अन्य देशों ने लोकतंत्र की साख को बचाए रखने के लिए विरोधी दलों पर दबाव बनाकर रखा था।

अब्दुल गयूम ने कहा कि बीते कुछ वर्षों में भारत और मालदीव के मध्य द्विपक्षीय समझौतों में कोई तल्खी नहीं देखी है और मुझे नहीं लगता कि दशकों की हमारी इंडिया फर्स्ट पालिसी पर इस राजनीतिक संकट का कोई प्रभाव पड़ेगा। उन्होंने कहा कि भारत मालदीव का सबसे नजदीकी और विश्वसनीय साझेदार है।

यह भी पढ़ें: जानें, मालदीव के चुनाव आयोग के अधिकारी देश क्यों छोड़ रहे हैं?

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

छत्तीसगढ़ : बीजापुर के जंगलों में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ में एक महिला नक्सली ढेर

छत्तीसगढ़ में बीजापुर के जंगली इलाके में पुलिस और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) ने एक मुठभेड़ में एक...

केरल : मंत्रीमंडल ने राज्य में एनपीआर और एनआरसी को लागू नहीं करने को मंजूरी दी

नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ अपना रुख सख्त करते हुए केरल मंत्रिमंडल ने सोमवार को विशेष बैठक करने के बाद जनगणना आयुक्त को...

लीबिया : पाइपलाइन बंद होनें से प्रभावित हुई कच्चे तेल की आपूर्ति, 10 दिनों की ऊंचाई पर पहुंची कीमत

तनावग्रस्त लीबिया से कच्चे तेल की आपूर्ति प्रभावित होने से सोमवार को तेल के दाम में एक फीसदी से ज्यादा की तेजी आई। अंतर्राष्ट्रीय...

मौसम की जानकारी : हिमाचल प्रदेश में कड़ाके की ठंड जारी, अधिक बर्फबारी की संभावना

हिमाचल प्रदेश के अधिकांश हिस्सों में सोमवार को शीतलहर और कड़ाके की ठंड जारी है। मौसम विभाग ने अपने अनुमान में राज्यभर में और...

हवाई : होनोलुलु में गोलीबारी, दो पुलिस अधिकारियों की मौत

हवाई की राजधानी होनोलुलु में गोलीबारी की घटना में दो पुलिस अधिकारी मारे गए। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, हवाई न्यूज नाउ के हवाले...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -