Sun. May 19th, 2024
    भुने चने खाने के फायदे

    वज़न घटाने का अर्थ भूखा रहना नहीं होता है अपितु बिना भूखे रहे ऐसे पदार्थों का सेवन करना होता है जिनसे वज़न घट सके।

    वजन घटाने का सबसे अच्छा तरीका ऐसे स्नैक्स का सेवन करना होता है जिसमें फाइबर की मात्रा अत्यधिक हो। ऐसे स्नैक्स न सिर्फ वज़न को नियंत्रित करते हैं बल्कि उसे कम करने में भी उपयोगी होते हैं।

    भुना हुआ चना भारत में खाए जाने वाले सबसे लोकप्रिय स्नैक्स में से एक है। यह प्रोटीन, फाइबर, खनिज, फोलेट और फैटी एसिड का एक अद्भुत स्रोत है जो कई तरीकों से अच्छे स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है।

    भुने चने कैलोरी में भी बहुत कम है और भूख को थोड़ी सी खपत से संतुष्ट कर सकता है।

    आइये आपको बताते हैं इससे होने वाले लाभ।

    विषय-सूचि

    भुने हुए चने के गुण

    • प्रोटीन और फाइबर से भरपूर

    चने प्रोटीन और डाइटरी फाइबर का प्रचुर स्रोत होते हैं जो वजन और संतुलित करने और कम करने में उपयोगी होते हैं।

    भुने चने के एक कप में 15 ग्राम प्रोटीन और 13 ग्राम डाइटरी फाइबर होती है जो आपकी दैनिक ज़रुरत की आधी मात्रा होती है। यह फाइबर पाचन सम्बन्धी समस्याएं दूर रखती हैं।

    • भुने चने कैलोरी में कम होते हैं

    शरीर में कैलोरीज की मात्रा कम होने से वज़न अपने आप ही नियंत्रित हो जाता है। अपने द्वारा ली जाने वाली कैलोरीज की मात्रा से ही आपके वज़न में घटोतरी हो सकती है।

    यदि आप हर दिन 1 से 2 पाउंड वज़न कम करना चाहते हैं, तो आपको एक दिन में कुल कैलोरी की तुलना में 500-100 और कैलोरी जला देना चाहिए।

    यदि आप हर दिन भुना हुआ चना का मुट्ठी भर खाते हैं, तो आप केवल 46-50 कैलोरी का उपभोग करेंगे। इस तरह, आप भुना हुआ चना की खपत के माध्यम से कम कैलोरी खपत करके अपनी भूख को संतुष्ट कर सकते हैं।

    • कम ग्लाइसेमिक सूचकांक

    काबुली चने में बहुत कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स होता है जो इसे दालचीनी के लिए सबसे अच्छा नाश्ता बनाता है, जैसे कि दालचीनी का इस्तेमाल होता है।

    यह रक्त प्रवाह में ग्लूकोज रिलीज को सीमित करके रक्त ग्लूकोज के स्तर को बनाए रखने में सक्रिय रूप से मदद करता है।

    भुने चने में पोषक तत्व

    1. फ़ाइबर – 6 ग्राम
    2. शुगर – 4.2 ग्राम
    3. सोडियम – 6 मिलीग्राम
    4. पोटैशियम – 240 मिलीग्राम
    5. कोलेस्ट्रॉल – 0 मिलीग्राम
    6. फ़ैट – 2.5 ग्राम
    7. सोडियम – 6 मिलीग्राम
    8. कार्बोहाइड्रेट – 22 ग्राम
    9. प्रोटीन – 7 ग्राम

    भुने चने कैसे खाएं?

    आइये आपको भुने हुए चने खाने की कुछ विधि बताते हैं।

    भुने हुए काले चने

    काले चना के सेवन से वजन कम करने का सबसे प्रभावी तरीका इसे भुना हुआ रूप में खाना होता है। भारत में, हम इसे भुना चना भी कहते हैं। इसे बनाने की विधि यहाँ दी गयी है।

    • सूखे हुए चने लेकर उन्हें 6 घंटे या इससे अधिक समय के लिए पानी में भिगो दें।
    • इन्हें 15 मिनट के लिए उबाल लें ताकि यह नरम हो जायें।
    • इन्हें छान लें और तौलिये से सुखा लें।
    • अपने ओवन को 400 फ़ारेनहाइट तक गरम कर लें।
    • इन्हें 20 मिनट के लिए भून लें।
    • कुछ देर के लिये ठंडा कर लें।
    • इन्हें इसी तापमान पर 15-20 मिनट के लिए भून लें ताकि ये सुन्हेरे रंग के और करारे हो जायें।

    भुने चने खाने का तरीका सत्तू

    वज़न घटाने का बहुत ही अच्छा तरीका सत्तू का सेवन करना भी होता है। इसे बनाने की विधि दी गयी है।

    • भुने हुए काले चने लें और उन्हें आटा बनाने के लिए पीस लें। इस आटे को सट्टू कहा जाता है।
    • कुछ पुदीने की पत्तियां लें और उन्हें पीस लें।
    • ठंडे पानी में चने का आटा मिलाएं।
    • नमक, पुदीने के पत्ते, काली मिर्च, और नमक जोड़ें।
    • उन्हें अच्छी तरह मिलाएं और आपका सट्टू पेय तैयार है।

    लौकी के रस की तरह सत्तू को दिन में 2-3 बार पीयें जिससे आपका वज़न कम हो जायेगा।

    उबला हुआ चना

    उबले हुए चने का सेवन करके भी वज़न कम किया जा सकता है। इसे बनाने के लिए काले चने रातभर पानी में भिगो दें।

    फिर इन्हें 20-30 मिनट के लिए उबाल लें। इन्हें उबालते समय इसमें थोडा नमक डाल लें। इन्हें ठंडा होने दें और आपके उबले चने तैयार हैं।

    अंकुरित चने

    वसा कम करने के लिए अंकुरित चने का सेवन करना भी एक बहुत अच्छा उपाय होता है। इन्हें बनाने के लिए विधि दी गयी है।

    • काले चने रातभर पानी में भिगोकर रख दें।
    • इनका पानी पूर्णतः निकाल लें।
    • एक सूती कपडे या तौलिये से इन्हें बाँध दें।
    • इन्हें 1-2 दिन के लिए किसी बंद जगह में बंधा हुआ रखा रहने दें।
    • 1-2 दिन बाद आपके चने तैयार हो जायेंगे।

    भुने चने के फायदे

    • भुने चने उर्जा और इम्युनिटी बढाएं

    बंगाली चने थोड़े मैंगनीज के साथ-साथ थियामिन, मैग्नीशियम और फास्फोरस जैसे अन्य आवश्यक पोषक तत्वों के साथ पैक किया जाता है।

    ये खनिज आपकी प्रतिरक्षा को बढ़ाने और बीमारियों के खिलाफ आपको मजबूत बनाने के लिए जाने जाते हैं। मैंगनीज भी आपकी ऊर्जा को बढ़ाने और आपको पूरे दिन सक्रिय रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। (पढ़ें: मैंगनीज के स्त्रोत – manganese foods)

    • भुने हुए चने रक्त शर्करा को नियंत्रित करे

    भुने हुए चने कम ग्लाइसेमिसिन्डेक्स के लिए जाने जाते हैं, जो रक्त में ग्लूकोज जारी करने के लिए जिम्मेदार है।

    कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स के साथ, ये चने ग्लूकोज रिलीज को कम करके इसे कम करके और स्वस्थ रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखने में मदद करते हैं।

    • भुने चने महिलाओं के हॉर्मोन के स्तर को नियंत्रित करें

    ब्लैक बंगाल ग्राम फाइटो-ऑस्ट्रोजेन और एंटी-ऑक्सीडेंट्स जैसे फाइटोन्यूट्रिएंट्स का समृद्ध स्रोत हैं। इसलिए, वे एस्ट्रोजन के रक्त स्तर को विनियमित करने में मदद करते हैं।

    यह भुना हुआ काला चना महिलाओं में स्तन कैंसर के खतरे को कम करने और ऑस्टियोपोरोसिस के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करने में बहुत प्रभावी बनाता है।

    • भुने चने एनीमिया से लड़े

    मासिक धर्म और गर्भवती महिलाओं के लिए भुना हुआ काला चना अत्यधिक अनुशंसा की जाती है क्योंकि वे लौह का एक उत्कृष्ट आहार स्रोत हैं और रोकथाम और उपचार में मदद करते हैं।

    • भुना हुआ चना ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करे

    भुने चने उच्च रक्तचाप के इलाज में बहुत प्रभावी पाए जाते हैं क्योंकि वे रक्त वाहिकाओं में होने वाले परिवर्तनों को उलटकर और एक अच्छा इलेक्ट्रोलाइट संतुलन बनाए रखने से आपके रक्तचाप को कम करने में मदद कर सकते हैं।

    • भुने चने हृदय स्वस्थ रखे

    कई अध्ययनों से पता चला है कि काले भुना हुआ चने का दैनिक सेवन आपके दिल के लिए बेहद स्वस्थ है और यह कई कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों को रोकने में मदद कर सकता है।

    भुना हुआ चना फोलेट और मैग्नीशियम में समृद्ध है जो रक्त वाहिकाओं को मजबूत करने में सहायक होता है।

    चना भूनने का तरीका

    1. सबसे पहले कच्चे या सूखे चने लें और इसे 6 घंटे या रात भर के लिए पानी में भिगो दें।
    2. इसके बाद इन चनों को पानी से निकाल लें और उसे 15 मिनट तक उबालें।
    3. आपको उबालने के बाद यह चेक करना है कि चने मुलायम हुए हैं या नहीं!
    4. उबालने के बाद चने से पानी को अच्छे से अलग कर दीजिए।
    5. अब इन चनों को एक ओवन में रखें और 400 डिग्री फॉरेनहाइट पर ओवन को सेट कर दें।
    6. 400 डिग्री फॉरेनहाइट पर चने को बीस मिनट तक के लिए भूनना है।
    7. इसके बाद चने को ठंडा करने के लिए छोड़ दीजिए।
    8. जब चना ठंडा हो जाए तो उसे पुनः ओवन में 20 मिनट के लिए रख दें और जब तक कि चना क्रिस्पी न हो जाए तब तक यह प्रक्रिया करते रहें।
    9. जब चना हल्का गोल्डन कलर का हो जाए तो उसे ठंडा होने के लिए छोड़ दें।
    10. ठंडा होने के बाद आप भुने चने का आनंद ले सकते हैं

    भुने चने खाने के नुकसान

    भुने चने खाने से कई फायदे है, तो कई नुकसान भी हैं।

    • भुने चने खाने से खांसी की समस्या हो सकती है

    जब आप चने भून कर खाते हैं, तो इसमें से जरूरी गुण ख़त्म हो जाते हैं और इसकी सतह चिकनी हो जाती है।

    इस चिकनाहट की वजह से आपको खांसी हो सकती है। यह अक्सर देखा गया है जब छोटे बच्चे भुने चने खाते हैं, तब उन्हें खांसी की समस्या हो जाती है।

    ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इनमे मौजूद कण आपके गले में फंस जाते हैं, जिससे खांसी की समस्या हो जाती है।

    इस लेख में हमनें भुने चने खाने के फायदे और नुकसान के बारे में चर्चा की है।

    यदि इस विषय से सम्बंधित आपके मन में कोई सवाल या सुझाव है, तो आप उसे नीचे कमेंट में लिख सकते हैं।

    16 thoughts on “भुने चने खाने के फायदे, लाभ, नुकसान, गुण”
    1. chana bhunkar nahi khana chahiye. chane ko bhigokar hi khana chhiye. bhunkar chana jal jata hai.

    2. चने भुनकर कैसे खाएं? चने कैसे भूनते हैं?

    3. कब,कितने खानेका प्रमाण भी उम्र,सेहतकी तासीर-मिजाज( पेटका हजम करनेका सामर्थ्य) ,स्वभाव-प्रकुति(वात,पित्त,कफ)इन सब बातोँ का खयाल रखना भी जरूरी है ना?ये प्रयोगात्मक स्वकीय प्रेक्टीस हो थोड़े प्रमाणसे शुरू करें,चेक भी करते रहें।अन्य आदतोंका भी जरूरी ख़्याल रखें.

    4. भुने चने के साथ बादाम गिरि पीस कर उसका आटा बना कर खाने से क्या फायदे हैं?

    5. kya likh rahe ho bhai… upper pura mahima mandan… aur niche aake likh diya ki chane ko bhun ne ke baad sabhi tatav nashat ho jate hain. Jab Sare tatav hi nashat ho gye to fayda kaise karega.

    6. मै रोज खाने लगा हूं भुना हुआ चना .अभी और फायदे तो पता नहीं चले पर पेट कम होने लगा है और पेट साफ़ भी बहुत अच्छे से होने लगा है …..15दिन से

    7. Kya bazaar mein milney Waley chana khaney mein aur bheega hua chana khaney se kya iskey fayede mein jyada fark hota hi kya? Kripa kar ke bateyaiga.

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *