बुधवार, जनवरी 22, 2020

भारत के मिशन शक्ति पर नासा नें जताया विरोध: कहा इससे अंतरिक्ष में ‘कचरा’ बढ़ेगा

Must Read

जल संरक्षण का महत्व

जल संरक्षण क्यों जरूरी है? स्वच्छ, ताजा पानी एक सीमित संसाधन है। दुनिया में हो रहे सभी गंभीर सूखे के...

भारत में रियलमी करेगा स्नैपड्रैगन की 720जी चिप के साथ फोन लॉन्च

चीन की स्मार्टफोन निर्माता रियलमी के सीईओ माधव शेठ ने मंगलवार को भारत में नए स्नैपड्रैगन 720जी एसओजी (सिस्टम-ऑन-चिप)...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

नासा ने मंगलवार को भारत की एसैट सैटेलाइट के परिक्षण को भयावह करार दिया और कहा कि इससे अंतरिक्ष पर मलबे के 400 टुकड़े उत्पन्न हुए हैं। यह इंटरनेशनल स्पेस सिस्टम के नए अंतरिक्ष यात्रियों के लिए नए खतरे की तरफ इशारा कर रहा है। हाल ही में भारत ने मिशन शक्ति का सफल परिक्षण किया जिसके बाद अंतर्राष्ट्रीय जगत जुली प्रतिक्रिया आयी हैं।

नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन के कर्मचारियों को जिम ब्रेडिस्टिन सम्बोधित कर रहे थे। भारत ने मिशन शक्ति का सफलतापूर्ण परिक्षण कर भारत को वैश्विक ताकतों में शुमार कर दिया था। भारत की एंटी सैटेलाइट हथियार ए-सैट ने सफलतापूर्वक धरती की निम्न कक्षा पर मौजूद सैटेलाइट को ध्वस्त कर दिया था। अब तक इसे ताकतवर देश जैसे अमेरिका, रूस और चीन ने ही यह कारनामा किया है।

गार्डियन के मुताबिक उन्होंने कहा कि “सभी टुकड़े बड़े नहीं है जिन्हे ट्रैक किया जा सके। बड़े मलबों को ट्रैक किया जा सकता है। हम 10 सेंटीमीटर और उससे बड़े 60 टुकड़ों को ट्रैक कर चुके हैं। लेकिन 24 टुकड़े इंटरनेशनल स्पेस सिस्टम की पराकाष्ठा से ऊपर जा रहे हैं।”

उन्होंने कहा कि “यह बेहद भयावह है। एक ऐसे कार्यक्रम का सृजन करना जिससे मलबा आईएसएस के पराकाष्ठा से भी ऊपर मलबा चला जाए, ये बेहद डरावना है। इस तरीके की गतिविधियां मानव स्पेसफ्लाइट के भविष्य के साथ अनुकूल नहीं है। यह अस्वीकृत है और नासा को प्रभाव के बाबत पूर्ण तरीके से स्पष्ट होने की जरुरत है।”

अमेरिका की सेना आईएसइस और सैटेलाइट से मलबे के टकराव के खतरे के कारण टुकड़ों को ढूंढ रही है। वह अभी 10 सेंटीमीटर से ऊपर के 23000 टुकड़ों को ट्रैक कर रही है। इसमें अंतरिक्ष मलबे के 10 हज़ार टुकड़े भी शामिल है और इसमें 3000 तो चीनी एंटी सैटेलाइट परिक्षण के दौरान उत्पन्न हुए थे।

उन्होंने बताया कि “भारत के परिक्षण से आईएसएस से 10 दिनों में टकराव की सम्भावना 44 फीसद बढ़ गयी है। लेकिन खतरे का अंदाजा समय के बीतने के दौरान मालूम होगा। जितना मलबा जलेगा वह पर्यावरण में प्रवेश करेगा।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

जल संरक्षण का महत्व

जल संरक्षण क्यों जरूरी है? स्वच्छ, ताजा पानी एक सीमित संसाधन है। दुनिया में हो रहे सभी गंभीर सूखे के...

भारत में रियलमी करेगा स्नैपड्रैगन की 720जी चिप के साथ फोन लॉन्च

चीन की स्मार्टफोन निर्माता रियलमी के सीईओ माधव शेठ ने मंगलवार को भारत में नए स्नैपड्रैगन 720जी एसओजी (सिस्टम-ऑन-चिप) के साथ स्मार्टफोन लॉन्च करने...

झारखंड : नई सरकार के शपथ ग्रहण के 24 दिनों बाद भी नहीं हुआ मंत्रिमंडल विस्तार, गैरों के साथ अपने भी कस रहे तंज!

झारखंड में नई सरकार का शपथ ग्रहण 29 दिसंबर को हुआ था। अबतक 24 दिन बीत चुके हैं, लेकिन अभी भी मंत्रिमंडल का विस्तार...

त्रिपुरा, मणिपुर और मेघालय ने मनाया 48 वां राज्य दिवस

त्रिपुरा, मणिपुर और मेघालय ने मंगलवार को अलग-अलग अपना 48वां राज्य दिवस मनाया। इस मौके पर कई रंगा-रंग कार्यक्रम पेश किए गए। राष्ट्रपति रामनाथ...

महाराष्ट्र : भाजपा ने राकांपा के मंत्री के बयान पर आपत्ति जताई, बताया हिंदू विरोधी

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के नेता और महाराष्ट्र के मंत्री जितेंद्र अवध के बायन पर मंगलवार को कड़ी आपत्ति...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -