मंगलवार, नवम्बर 19, 2019

वेनेजुएला में रूस के बाद अब पंहुची चीनी सेना

Must Read

अभिनेत्री कृति खरबंदा ने पुलकित सम्राट के साथ रिश्ते का दिया स्पष्टिकरण, कहा ये अफवाह नहीं है, हम डेट कर रहे हैं

अभिनेत्री कृति खरबंदा और अभिनेता पुलकित सम्राट के बीच रिश्ते को लेकर अफवाहें पिछले काफी समय से सुर्खियों में...

चिली में विरोध प्रदर्शन के पहले महीने के पूरा होने पर हजारों लोग सकड़ पर उतरे

चिली में विरोध प्रदर्शन व सबसे गंभीर नागरिक अशांति के पहले महीने के पूरा होने पर देशभर में हजारों...

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019: भाजपा से मैदान में उतरे सार्वाधिक करोड़पति उम्मीदवार

झारखंड में 30 नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव के पहले चरण में सबसे अधिक 'करोड़पति' उम्मीदवार सत्तारूढ़ भारतीय...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

वेनेजुएला इस वक्त बुरे आर्थिक और राजनीतिक दौर से गुजर रहा है। चीनी सैनिकों का एक समूह रविवार को वेनेजुएला की सरजमीं पर पंहुच गया है। यह बीजिंग और कराकास के बीच सहयोग के तहत किया गया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक चीन की पीपल्स लिब्रेशन आर्मी के 120 सैनिक वेनेजुएला के मार्गरिटा द्वीप पर मानवीय सहायता और सैन्य उपकरणों को लेकर पंहुचे थे।

हाल ही में रूस सैनिकों का एक समूह वेनेजुएला की सरजमीं पर सैन्य हेलीकाप्टर प्रशिक्षण सुविधा की स्थापना के लिए तैनात हुआ था। अमेरिकी सांसदों और डोनाल्ड ट्रम्प के प्रशासन ने रूस की काफी आलोचनाएं की थी और तत्काल सैनिकों को वेनेजुएला से हटाने की मांग की थी।

अमेरिकी राज्य सचिव माइक पोम्पिओ ने 28 मार्च को ट्वीट कर कहा कि “मादुरो ने #वेनेजुएला से दूर रहने की नसीयत दी थी जबकि वह खुद क्यूबा और रूस से सैनिकों की टुकड़ी मंगवा रहा है, ताकि वह और उसके सहयोगी वेनुजुएला को लूटते रहे। वेनेजुएला के संस्थानों के लिए अब अपनी सम्प्रभुता को बचाने के लिए खड़े होने का वक्त है। रूस और क्यूबा, #हैंड्स ऑफ वेनुजुएला, यानी वेनुजुएला से दूर रहे रूस और क्यूबा।”

रुसी और चीनी सेना की तैनाती अमेरिकी प्रशासन के खिलाफ एकजुट होकर ताकत का दम भरते दिखेंगे। वेनुजुएला के राष्ट्रपति निकोलस मादुरो को अमेरिका सत्ता बर्खास्त करना चाहता है और विपक्षी नेता जुआन गुइदो को सत्ता पर बैठना चाहता है।

राष्ट्रपति मादुरो को सेना, रूस, चीन व दर्जनों अन्य राष्ट्रों का समर्थन प्राप्त है। वेनेजुएला आधुनिक दौर के सबसे बड़े आर्थिक संकट के दौर से गुजर रहा है। यह महंगाई ने रिकॉर्ड तोड़ एक करोड़ फीसदी उछाल मारी है। हाल ही में राष्ट्रपति निकोलस मादुरो ने कोलंबिया और ब्राज़ील से आने वाली मदद को रोकने के लिए सीमा पर के नजदीक शहरों पर नाकेबंदी कर दी थी।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

अभिनेत्री कृति खरबंदा ने पुलकित सम्राट के साथ रिश्ते का दिया स्पष्टिकरण, कहा ये अफवाह नहीं है, हम डेट कर रहे हैं

अभिनेत्री कृति खरबंदा और अभिनेता पुलकित सम्राट के बीच रिश्ते को लेकर अफवाहें पिछले काफी समय से सुर्खियों में...

चिली में विरोध प्रदर्शन के पहले महीने के पूरा होने पर हजारों लोग सकड़ पर उतरे

चिली में विरोध प्रदर्शन व सबसे गंभीर नागरिक अशांति के पहले महीने के पूरा होने पर देशभर में हजारों लोग सड़कों पर उतरे और...

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019: भाजपा से मैदान में उतरे सार्वाधिक करोड़पति उम्मीदवार

झारखंड में 30 नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव के पहले चरण में सबसे अधिक 'करोड़पति' उम्मीदवार सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के हैं। पहले...

दिल्ली में पानी की गुणवत्ता को लेकर आप का पलटवार, वरिष्ठ नेता संजय सिंह ने कहा किसी तटस्थ एजेंसी से पानी जंचवाएं पासवान

दिल्ली में पीने के पानी को लेकर एक केंद्रीय एजेंसी की रिपोर्ट पर संदेह जताते हुए आम आदमी पार्टी(आप) के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा...

कबूल हुई प्रशंसकों की दुआएं, लता मंगेशकर की तबीयत में काफी सुधार

स्वर कोकिला लता मंगेशकर को पिछले सोमवार सांस लेने में दिक्कत आने के बाद मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती कराया गया था...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -