Tue. Oct 4th, 2022
    बिल्ली का रोना

    बिल्ली का रोना एक सामान्य बात भी हो सकती है या फिर एक बेहद गंभीर स्थिति भी। बिल्लियाँ अकसर रात में रोती हैं। दरअसल, बिल्ली बहुत गंभीर स्थिति में ही रोती है, और यदि वह रो रही है, तो इसके पीछे गंभीर कारण हो सकते हैं।

    बिल्ली के रोने पर देश-विदेश में बहुत से विचार हैं। कई लोग इसे अंध-विश्वास बताते हैं, वहीँ कई लोग इसके शुभ या अशुभ होने पर चर्चा करते हैं।

    बिल्ली का रोना शुभ या अशुभ

    जैसा कि हमने जाना कि बिल्ली के रोने पर लोगों के बहुत से मत हैं। लोग इसे कई कारणों से शुभ और अशुभ मानते हैं।

    बिल्ली के रोने पर एक सबसे बड़ा विश्वास यह है कि यदि किसी घर में कोई बीमार व्यक्ति है और उस घर के बाहर बिल्ली रो रही है, तो उस व्यक्ति के मरने की आशंकाए बढ़ जाती हैं।

    इसी के उलट इस बात पर यह भी एक मत है, कि यदि किसी घर के बाहर बिल्ली रो रही है, तो घर में नया सदस्य जुड़ सकता है।

    ऐसे में यह कहना सही होगा कि बिल्ली के रोने का शुभ या अशुभ होना लोगों के निजी विचार पर निर्भर करता है।

    बिल्ली के रोने के कारण

    यहाँ हमनें ऐसे कुछ कारणों का जिक्र किया है, जो बिल्ली के रोने को स्पष्ट करते हैं।

    1. तनाव

    जब कोई बिल्ली घर में नयी होती है, तो उसका रोना निश्चित है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि बिल्ली को नए वातावरण में अनुकूल होने में समय लगता है।

    इसके अलावा जब बिल्ली अपने परिवार से अलग होती है, तो उसे सामान्य होने में भी कुछ समय लगता है।

    इन्हीं कारणों की वजह से बिल्ली तनाव में रहती है।

    बिल्ली के तनाव में रहने के अन्य कारण बिल्ली के स्वास्थ्य से भी जुड़े होते हैं।

    2. बीमारी या किसी प्रकार का दर्द

    बिल्ली के रोने का एक कारण यह भी हो सकता है कि बिल्ली किसी बीमारी या दर्द से जूझ रही हो।

    ऐसा कहा जाता है कि जब बिल्ली को कोई बीमारी होती है तो उसे भूख और प्यास काफी लगती है। इस कारण से भी बिल्लियाँ अकसर रोती हैं।

    जब आपकी बिल्ली ज्यादातर समय रोती हो, तो आप उसे डॉक्टर से चेक जरूर कराएं। ऐसा हो सकता है कि बिल्ली किसी गंभीर बिमारी से पीड़ित हो।

    3. बढ़ती उम्र

    यह स्वाभाविक है कि जब बिल्ली बूढ़ी होती है तो उसके शरीर पर कई प्रकार के बदलाव आते हैं। इन्हीं कारणों से बिल्लियाँ अकसर परेशान रहती हैं और रोती हैं।

    बिल्ली जब बूढ़ी हो जाती है तो वह ज्यादातर समय सोती है और कई बार रोती भी है।

    बिल्ली के बूढ़े होने पर यह जरूरी है कि आप बिल्ली का ख्याल रखें। बिल्ली को समय पर खाना खिलायें और उसे समय समय पर डॉक्टर को चेक कराएं।

    4. गर्भावस्था के दौरान

    जब बिल्ली गर्भावस्था से गुजर रही होती है तो उसके शरीर में काफी बड़े बदलाव होते हैं। इन्हीं कारणों से बिल्ली अकसर तनाव में रहती है और वह रोती रहती है।

    इसके अलावा जब बिल्ली गर्भ से होती है तो वह कई प्रकार के सन्देश आपको देती है:

    • बिल्ली जमीन पर लौटने लगती है
    • बिल्ली अजीब से आवाजें निकालने लगती है
    • बिल्ली अपने आप को दिवार और अन्य चीजों से रगड़ती है

    इसके लिए भी यह जरूरी है कि आप बिल्ली की देखभाल करें और उसे डॉक्टर को दिखाएं।

    5. आपका ध्यान चाहने के लिए

    कई बार ऐसा होता है कि बिल्ली को लोगों का साथ पसंद हो, लेकिन आप उसे समय नहीं दे पा रहे हों।

    यदि बिल्ली अपने आप को अकेला महसूस करती है, तो वह रोना शुरू कर देती है। इसके अलावा बिल्ली अकसर रात में सोती नहीं है और घर के बाहर जाकर रोती है।

    ऐसे में यह जरूरी है कि आप बिल्ली के साथ समय बिताएं।

    आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि बिल्ली भी एक जीव है और एक बच्चे की तरह उसे भी आपका साथ चाहिए।

    6. भूख की वजह से

    बिल्ली के रोने का सबसे महत्वपूर्ण कारण यह हो सकता है कि बिल्ली भूखी हो।

    जब बिल्ली को भूख लगती है तो वह कई तरीकों से आपको यह बताने की कोशिश करती है। यदि आप उसकी बात पर ध्यान नहीं देते हैं तो वह रोती है।

    इस बात का ध्यान रखने के लिए यह जरूरी है कि आप बिल्ली को निश्चित समय पर खाना खिलाएं।

    बिल्लियाँ अकसर रात में दूध पीने पसंद करती हैं। ऐसे में आप बिल्ली को दूध के साथ बिस्कुट या रोती खिला सकते हैं।

    बिल्ली के रोने को रोकने के उपाय

    जब आपकी बिल्ली रोती है तो निश्चित रूप से आप चिंतित हो जाते हैं। लोगों को अपने बच्चों की तरह ही बिल्ली से भी लगाव होता है।

    ऐसे में आप घर पर ऐसे उपाय कर सकते हैं, जिससे बिल्ली का रोना रोका जा सके।

    • बिल्ली का बिस्तर अच्छा बनाएं जिससे वह उसके साथ व्यस्त रह सके।
    • बिल्ली के सोने जाने से पहले उसके साथ किसी प्रकार का खेल खेलें। इससे बिल्ली थक जायेगी और जल्दी सो जायेगी। आप बिल्ली के साथ चीजें उठाने का खेल खेल सकते हैं।
    • मधुर संगीत बजाएं। ऐसा कहा जाता है कि जिस प्रकार मनुष्य संगीत की धुन में खो जाते हैं, उसी प्रकार बिल्लियाँ भी संगीत सुनकर शांत हो जाती हैं।
    • बिल्ली के साथ समय बिताएं, जिससे बिल्ली खुश रह सके।
    • बिल्ली को अपने साथ बाहर ले जाएँ जिससे बिल्ली के वातावरण में कुछ बदलाव आ सकें।
    • बिल्ली को घर में बंद ना रखें। यदि बिल्ली अपने आप को घर में जकड़ा पाएगी, तो उसका रोना स्वाभाविक है।

    सम्बंधित लेख:

    1. बिल्ली का घर में मरना

    By विकास सिंह

    विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

    5 thoughts on “बिल्ली का रोना : कारण और उपाय”

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.