गुरूवार, अक्टूबर 17, 2019

फोटोग्राफ मूवी रिव्यु: यदि आप मेनस्ट्रीम सिनेमा देखकर बोर हो गए हैं तो यह फिल्म आपको जरूर देखनी चाहिए

Must Read

देवोलीना भट्टाचार्जी का जीवन परिचय

हिंदी सीरियल में आज्ञाकारी बहु के किरदार को दर्शाने वाली 'गोपी बहु' यानि 'देवोलीना भट्टाचार्जी' जिनके अभिनय को स्टार...

दिल्ली : फिर गिरा शेर के पिंजरे में युवक, उसके बाद क्या हुआ तमाशा?

नई दिल्ली, 17 अक्टूबर (आईएएनएस)। दिल्ली स्थित चिड़िया घर में एक युवक गुरुवार को शेर के पिंजरे में जा...

स्कंदगुप्त को इतिहास के पन्नों पर स्थापित करने की जरूरत : अमित शाह (लीड-1)

वाराणसी, 17 अक्टूबर (आईएएनएस)। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने गुरुवार को कहा कि सम्राट स्कंदगुप्त के पराक्रम और उनके...
साक्षी सिंह
Writer, Theatre Artist and Bellydancer

मिलोनी (सान्या मल्होत्रा) एक उदासीन बोलचाल की लड़की है जो अपनी सीए परीक्षा के लिए तैयारी कर रही है। वह अपने परिवार के साथ मुंबई के गेटवे ऑफ़ इंडिया पर एक ब्रेक लेती है और रफ़ी (नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी) से मिलती है, जो एक स्ट्रीट फ़ोटोग्राफ़र है।

वह पर्यटकों को पोलरॉइड स्नैक्स पेश करता है। वह कुछ अन्य प्रवासी श्रमिकों के साथ एक झोंपड़ी में रहता है और न केवल अपने कमरे में रहता है, बल्कि पूरे इलाके को पता चलता है कि उसकी दादी (फारुख जाफर), जो दूसरे शहर में रहती है, ने उसकी दवाइयां लेना बंद कर दिया है क्योंकि वह शादी नहीं कर रहा है।

अपनी दादी को शांत करने के लिए, वह उसे एक पत्र लिखता है जिसमें उसने कहा है कि उसे कोई मिल गया है और इसमें मिलोनी की तस्वीर भी शामिल है, जिसका नाम वह नूरी बताता है।

जब उसकी दादी मुंबई में लड़की से मिलने के लिए आती हैं तो वह हिम्मत जुटाकर मिलोनी को एक बार दादी से मिलने और उसकी खातिर झूठ बोलने के लिए कहता है।

फिल्म वास्तविक गंतव्य से अधिक यात्रा पर केंद्रित है। ज्यादातर चीजें अनसुनी रह जाती हैं। जहाँ मिलोनी ने बैठक के लिए हाँ कहा वह एक्सचेंज ऑफ कैमरा होता है। हम उसके निरंतर दुःख का कारण भी नहीं जानते।

यह किसी प्रकार की त्रासदी के कारण माना जाता है, हालांकि अगर वह इसके बारे में रफी को बताती है तो उसे भी नहीं दिखाया जाता है। एक गवाह को खुशी होती है कि दो व्यक्ति, उम्र और वर्ग दोनों  में ही अलग हैं। एक अजीब साहचर्य पाते हैं, जिसे एक भाषा में आत्माओं का साथ आना कह सकते हैं।

सान्या मल्होत्रा ने शानदार अभिनय किया है। गीतांजलि कुलकर्णी और सान्या को स्क्रीन पर एक साथ देखना वाकई में मनोहारी है। नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने भी अच्छा प्रदर्शन किया है पर कहीं-कहीं वह चूक गए हैं।

जो किरदार याद रह जाता है वह है दादी के रूप में फारुख ज़फर का। खुलकर बोलने वाला उनका यह किरदार आपके चेहरे पर बरबस ही हंसी ले आता है।

कुल मिलाकर यह एक कोमल सी फिल्म है जिसमें कोई मेलोड्रामा नहीं है। यदि आप मेनस्ट्रीम सिनेमा देखकर बोर हो गए हैं और सिनेमाघरों से एक अच्छे अनुभव के साथ निकलना चाहते हैं तो यह फिल्म आपको जरूर देखनी चाहिए।

यह भी पढ़ें: इन पांच कारणों की वजह से जरूर देखनी चाहिए ‘मेरे प्यारे प्राइम मिनिस्टर’

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

देवोलीना भट्टाचार्जी का जीवन परिचय

हिंदी सीरियल में आज्ञाकारी बहु के किरदार को दर्शाने वाली 'गोपी बहु' यानि 'देवोलीना भट्टाचार्जी' जिनके अभिनय को स्टार...

दिल्ली : फिर गिरा शेर के पिंजरे में युवक, उसके बाद क्या हुआ तमाशा?

नई दिल्ली, 17 अक्टूबर (आईएएनएस)। दिल्ली स्थित चिड़िया घर में एक युवक गुरुवार को शेर के पिंजरे में जा गिरा। शेर के सामने युवक...

स्कंदगुप्त को इतिहास के पन्नों पर स्थापित करने की जरूरत : अमित शाह (लीड-1)

वाराणसी, 17 अक्टूबर (आईएएनएस)। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने गुरुवार को कहा कि सम्राट स्कंदगुप्त के पराक्रम और उनके शासन चलाने की कला पर...

मुझे अपने सिवाय कुछ और साबित करने की जरूरत नहीं : जेजे

नई दिल्ली, 17 अक्टूबर (आईएएनएस)। स्ट्राइकर जेजे लालपेखलुवा भारतीय फुटबाल में एक बड़ा नाम हैं। वह हालांकि अभी सर्जरी के बाद रीहैब पर हैं...

मोजरबियर बैंक घोटाला मामले में ईडी ने आरोप पत्र दाखिल किया

नई दिल्ली, 17 अक्टूबर (आईएएनएस)। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गुरुवार को मोजरबियर बैंक घोटाला मामले में आरोप पत्र दाखिल किया।--आईएएनएस
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -