Sat. Jan 28th, 2023
    पीएम नरेंद्र मोदी: चुनाव आयोग पर शीर्ष अदालत का वार- पहले फिल्म देखो और फिर फैसला लो

    भारत के प्रधानमंत्री पर बनी बायोपिक “पीएम नरेंद्र मोदी” के रिलीज़ विवाद में एक और नया मोड़ आया है। चुनाव आयोग द्वारा फिल्म पर प्रतिबन्ध लगाने के बाद, सोमवार को शीर्ष अदालत ने आयोग से कहा कि वह पहले विवेक ओबेरॉय अभिनीत फिल्म देखे और फिर फैसला ले कि फिल्म पर प्रतिबन्ध लगना चाहिए या नहीं।

    मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने चुनाव आयोग को 22 अप्रैल तक एक बंद कवर में एक रिपोर्ट जमा करने के लिए कहा है और तब ही अदालत मामले की अगली सुनवाई करेगी।

    https://www.instagram.com/p/BwCkwhsBYcp/?utm_source=ig_web_copy_link

    ये फैसला तब आया जब बायोपिक के मेकर्स ने लोक सभा चुनाव तक फिल्म की रिलीज़ पर प्रतिबन्ध लगाने वाले चुनाव आयोग के फैसले को चुनौती देते हुए शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाया था।

    आयोग ने 10 अप्रैल को बायोपिक पर प्रतिबन्ध लगाते हुए कहा था कि कोई भी फिल्म जो राजनीतिक इकाई और व्यक्ति को बढ़ावा देती है, उसे चुनावी मौसम में किसी भी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर प्रसारित नहीं किया जाना चाहिए।

    दिलचस्प बात ये है कि चुनाव आयोग का ये फैसला तब आया जब पिछले मंगलवार को कांग्रेस कार्यकर्त्ता द्वारा फिल्म पर रोक लगाने की याचिका पर सुनवाई करते हुए, अदालत ने कहा था कि मामले पर फैसला लेने के लिए चुनाव आयोग सही मंच है।

    https://www.instagram.com/p/BwBu0S9hmOx/?utm_source=ig_web_copy_link

    आयोग ने प्रतिबन्ध लगाते हुए कहा था कि फिल्म से खेल मैदान के स्तर को परेशानी होगी और फिल्म तब तक नहीं रिलीज़ होगी जब तक लोक सभा चुनाव ना खत्म हो जाए। आयोग ने ये भी कहा है कि इस मामले में किसी भी शिकायत की जांच सेवानिवृत्त शीर्ष अदालत या उच्च अदालत के न्यायाधीशों वाली पीठ करेगी।

    ओमंग कुमार द्वारा निर्देशित फिल्म में पीएम मोदी के चाय बेचने से देश के पीएम बनने तक के सफ़र को दिखाया जाएगा।

    https://www.youtube.com/watch?v=7TKPUhIjBzI

    By साक्षी बंसल

    पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *