Fri. Sep 30th, 2022
    anupam-kher

    अभिनेता अनुपम खेर का कहना है कि वह पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के जीवन पर आधारित अपनी नवीनतम फिल्म “द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर” की बेकार समीक्षा के बारे में कम ही परवाह कर सकते हैं।

    तीन महीने की विदेश यात्रा पर निकलने से पहले अनुपम ने कहा-“तुम कुछ भी करो, कुछ लोग तुम्हे नीचे गिराने की कोशिश करेंगे ही। आलोचना हमेशा से ही समय बिताने का एक पसंदीदा राष्ट्रीय खेल रहा है। अब फिल्म आलोचना भी भारतीयों के लिए स्व-मनोरंजन का एक बड़ा स्रोत बन गई है। मैं आलोचना या फिल्म आलोचना को दिल से नहीं लगाता। अंत में, यह सिर्फ एक पुरुष या महिला की राय है। और मैंने अपने करियर में दोनों को लेने के लिए इतनी बेहतर समीक्षा तो हासिल की ही हैं।”

    मनमोहन सिंह के किरदार में अनुपम ने जिस तरह की आलोचना सुनी है, वह काफी हैरान करने वाली है।

    “ऐसा लगता है कि कुछ समीक्षकों का राजनीतिक एजेंडा बहुत बड़ा है, जो मेरे पास होना चाहिए। टिप्पणियां असंबद्ध और अप्रासंगिक हैं। मैं डॉक्टर मनमोहन सिंह को उस गरिमा और अनुग्रह के साथ चित्रित करना चाहता था जिसके वे हकदार हैं। और मुझे लगता है कि मैं इसमें सफल रहा हूँ। मुझे अभिनेता के रूप में कम से कम अनुभव और वह ज्ञान लेने दे।”

    वे तीन महीने तक अमेरिका में अपने वेब सीरीज ‘न्यू एम्स्टर्डम’ के नए सीजन की शूटिंग करेंगे। उन्होंने कहा-“मैं विजय कपूर नाम के भारतीय डॉक्टर का मुख्य किरदार निभाउंगा। ये दुनिया में चलने वाला मशहूर सीरियल में से एक है। मैं अपने तीन महीने पूरी तरह से इसी सीरीज को देने वाला हूँ।”

    अनुपम के “द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर” की समीक्षाओं पर विचार? “हम एक ऐसे नायक की कहानी बताने के लिए तैयार हुए, जो एक राजनेता था, जो आवश्यकता के हिसाब से कम राजनीतिक था। यह फिल्म डॉक्टर सिंह के राजनीतिक सलाहकार द्वारा लिखी गई पुस्तक पर आधारित है। लेकिन यह डॉक्टर सिंह की बायोपिक नहीं है। इसमें भारत की राजनीति के जीवन के 10 महत्वपूर्ण वर्षों को दर्शाया गया है। आप फिल्म के बारे में भले ही ज्यादा ना सोचे। मगर देश की फिल्म देखने जाने वाले दर्शकों की बुद्धिमता को कम ना आंकिये।”

    फिल्म ने शुक्रवार को अपने पहले दिन 4.5 करोड़ रुपये की कमाई की और शनिवार को इसने 5.45 करोड़ रुपये की कमाई की।

    जब उनसे पुछा गया कि इतनी खराब समीक्षा के बाद भी फिल्म को मिली शानदार शुरुआत पर उनका क्या कहना है तो उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा-“आप अच्छी समीक्षाओं के बावजूद इतनी सारी फ़िल्मों की ख़राब शुरुआत के बारे में कैसे समझाते हैं? भारतीय राजनीतिक रूप से बहुत ही समझदार लोग हैं। दर्शक राजनीतिक आंकड़ों के बारे में सच्चाई जानना पसंद करते हैं खासकर के डॉक्टर मनमोहन सिंह जी जैसे लोगों के बारे में।”

    By साक्षी बंसल

    पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.