Thu. Feb 2nd, 2023
    डोनाल्ड ट्रम्प नोबेल प्राइज

    अमेरिकी कांग्रेस के अठारह रिपब्लिकन सदस्यों ने वर्त्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को 2019 में दिए जाने वाले नोबेल पीस प्राइज के नामनिर्देशित किया हैं।

    इंडिआना से रिपब्लिकन सदस्य ल्युक मेस्सर के नेतृत्व में रिपब्लिकन सदस्यों ने नार्वेजियन नोबेल कमिटी को पत्र लिखा हैं। रिपब्लिकन सदस्यों के अनुसार दोनों कोरियाई देशों के बीच सालों से चल रही लड़ाई का अंत करने और कोरियाई प्रायद्वीप को परमाणु मुक्त करने में डोनाल्ड ट्रम्प का अहम योगदान रहा हैं और विश्व शांति के लिए उनके द्वारा किये प्रयासों के लिए उन्हें नोबेल पीस प्राइज से नवाज़ा जाना चाहिए।

    आपको बतादे, इससे पूर्व बराक ओबामा, थियोडोर रूज़वेल्ट, वूड्रो विल्सन और जिमी कार्टर इन अमेरिकी राष्ट्रपतियों को नोबेल पीस प्राइज से नवाजा जा चूका हैं

    नोबेल पीस प्राइज, नार्वेजियन नोबेल कमिटी द्वारा हर साल दिया जाता हैं। पीस प्राइज के कोई सक्त नियम नहीं हैं। लेकिन देश की विधान संस्थायें जैसे भारतीय लोकसभा, अमेरिकी कांग्रेस, पीस प्राइज के पूर्व विजेता, प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय भी नोबेल पीस प्राइज के लिए योग्य उम्मीदवारों के नामनिर्देशित कर सकते हैं

    2018 के नोबेल पीस प्राइज के लिए कुल 330 लोगों को विश्व की विविध संस्थाए नामनिर्देशित कर चुकी है। नोबेल पीस प्राइज का वितरण दिसंबर में ओस्लो में किया जाता हैं, 2018 के विजेता का नाम उसी समय घोषित किया जाएगा। पिछले साल का नोबेल पीस प्राइज इंटरनेशनल कैम्पेन टू अबोलिश न्यूक्लियर वेपन्स इस गैर सरकारी संस्था को दिया गया था।

    अमेरिकी सिनेट के लिए इस साल चुनाव होने वाले हैं, अपने पद को बरक़रार रखेने के लिए कुछ रिपब्लिकन कांग्रेस सदस्य राष्ट्रपति ट्रम्प का नाम नोबेल प्राइज के लिए नामनिर्देशित कर रहे हैं ,  ऐसा कुछ लोग मानते हैं। अमेरिकन कांग्रेस में सभी सत्ताधारी रिपब्लिकन सदस्य भी नोबेल पीस प्राइज के लिए ट्रम्प के नाम को सुझाये जाने को लेकर खुश नहीं हैं।

    अमेरिका में कई विशेषज्ञ मानते हैं की, राष्ट्रापति डोनाल्ड ट्रम्प की सरकार को आये हुए अभी सिर्फ एक साल से कुछ ज्यादा वक्त हुआ हैं ऐसे में उनके कार्यो की समीक्षा करना जरुरी हैं और वैसा न करते हुए अगर उनको नामनिर्देशित किया जाता हैं तो वो गलत हैं।

    जहा तक विश्व राजनीती की बात हैं, डोनाल्ड ट्रम्प में इस क्षेत्र के अनुभव की कमी हैं। इसने पूर्व के राष्ट्रपति इस पद को ग्रहण करने से पहले राजनीती में लंबा समय बिता चुके हैं और राजनीती, कूटनीति की गहरी समझ रखते थे। इसलिए डोनाल्ड ट्रम्प की तुलना अन्य अमेरिकी राष्ट्रपतियों से करना अनुचित होगा।

    रिपब्लिकन सदस्यों द्वारा राष्ट्रपति ट्रम्प का नाम नोबेल पुरस्कार सुझाये जाने की कड़ी आलोचना की जा रही हैं। डोनाल्ड ट्रम्प और उत्तर कोरियाई तानाशाह किम जोंग उन के बीच प्रस्तावित वार्ता अभी हई नहीं हैं, और उत्तर कोरियाई सरकार के इतिहास को देखते हुए परमाणु निरस्तता के लिए उनकी कटिबद्धता पर प्रश्नचिन्ह है।

    By प्रशांत पंद्री

    प्रशांत, पुणे विश्वविद्यालय में बीबीए(कंप्यूटर एप्लीकेशन्स) के तृतीय वर्ष के छात्र हैं। वे अन्तर्राष्ट्रीय राजनीती, रक्षा और प्रोग्रामिंग लैंग्वेजेज में रूचि रखते हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *