दा इंडियन वायर » खानपान » एलोवेरा जूस के फायदे और बनाने की विधि
खानपान

एलोवेरा जूस के फायदे और बनाने की विधि

एलोवेरा जूस

एलोवेरा को घृतकुमारी के नाम से भी जाना जाता है। एलोवेरा एक ऐसी प्राकृतिक औषधि है जिसका उपयोग सीधे तौर पर फ़ायदा लेने के लिए किया जा सकता है।

हमारा कहने का मतलब है कि अक्सर वनस्पतियों को कई प्रकार की चीज़ों में मिलाकर उन्हें उपयोग करने लायक बनाया जाता है लेकिन एलोवेरा जेल को हम यूँ ही समूचा प्रयोग कर सकते हैं।

एलोवेरा के बहुत अधिक फ़ायदे हैं। एलोवेरा ना सिर्फ़ सौंदर्य को निखारता है बल्कि हमारे स्वास्थ्य को चमत्कारिक रूप से फ़ायदा पहुँचाता है। 

एलोवेरा के जूस में अनेक प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते हैं जो कि हमारे स्वास्थ्य के लिए फ़ायदेमंद होते हैं।

इस लेख में हम एलोवेरा जूस के फ़ायदे और उसके नुक़सानों के विषय में चर्चा करेंगे।

एलोवेरा जूस के फ़ायदे और नुक़सान के विषय में चर्चा करने से पहले ये जानना बहुत ज़रूरी है कि एलोवेरा जूस बनाया कैसे जाता है? आइए हम आपको इसको बनाने की आसान सी विधि बताते हैं।

एलोवेरा जूस बनाने की विधि

  1. सबसे पहले एलोवेरा की कुछ पत्तियाँ लें।इन पत्तियों को छोटे छोटे भागों में काट दें। 
  2. अब सावधानीपूर्वक इन पत्तियों के ऊपर वाले भाग को हटाएं। ऊपर वाले भाग को हटाने के बाद आपको अंदर मौजूद सफ़ेद या पारदर्शी रंग का जेल निकालना है।
  3. इस बात का ध्यान रखें कि आप एलोवेरा की पत्ती से ऊपर वाला हरा भाग हटाने के साथ साथ पत्ती के अंदर मौजूद पीला वाला भाग भी काटकर निकाल दें।
  4. दरअसल यह पीला वाला भाग हानिकारक होता है। एलोवेरा वातावरण को शुद्ध करने के लिए वातावरण में मौजूद हानिकारक कणों को अपने अंदर खींच लेता है। ये हानिकारक कण एलोवेरा के अंदर इसी पीले वाले भाग के रूप में मौजूद होते हैं।
  5. अब पत्ती के अंदर से निकाले गए पारदर्शी भाग को एक मिक्सर में डाले और उसे कुछ सेकंड्स के लिए उसमें चलायें। इससे पारदर्शी गाढ़ा पदार्थ एक जूस के रूप में बदल जाएगा।
  6. जूस को थोड़ा स्वादिष्ट बनाने के लिए आप इसमें कुछ अनुपात में शहद भी मिला सकते हैं।
  7. यदि आप जूस में शहद मिला रहे हैं तो शहद और एलोवेरा जेल को एक साथ मिक्सर में डालकर चला दें।
  8. आप 10 दिन तक प्रतिदिन एक टेबलस्पून इस मिश्रण या जूस का सेवन कर सकते हैं। 10 दिनों के बाद 10 दिनों का गैप लें और उसके बाद दोबारा इस प्रक्रिया को 10 दिनों तक करें।

एलोवेरा जूस के फायदे

1. प्रतिरक्षा तंत्र के लिए एलोवेरा जूस

पोलैंड में हुए एक शोध में इस बात का दावा किया गया कि एलोवेरा जूस हमारी प्रतिरक्षा तंत्र को मज़बूत बनाने में सहायक होता है।

शोध में इस बात का ख़ुलासा हुआ कि एलोवेरा जूस हमारे शरीर में सेलुलर और हार्मोनल फ्ल्यूड का एक निश्चित संतुलन बनाए रखता है।

इसी तरह नेशनल कैंसर इंस्टिट्यूट की रिपोर्ट के अनुसार यह कहा गया कि एलोवेरा जूस इम्यून सिस्टम की कार्यप्रणाली को इन्हांस अर्थात बढ़ावा देने में सहायक होता है।

एलोवेरा जूस का फ़ायदा लेने के लिए इसका सेवन सोने से पहले करना चाहिए। यदि प्रतिदिन निश्चित मात्रा में एलोवेरा जूस का सेवन बेड पर जाने से ठीक पहले किया जाए तो हमारा प्रतिरक्षा तंत्र काफ़ी सुदृढ़ बनता है।

इस कारण हम बुखार, जुकाम, वायरल इंफेक्शन या किसी भी अन्य प्रकार के संक्रमण से आसानी से बचने में समर्थ हो पाते हैं।

2. ओरल या मुँह से संबंधित समस्याओं का समाधान करता है एलोवेरा का जूस

शायद आपको नहीं पता होगा कि एलोवेरा जूस ओरल कैविटीस के लिए फ़ायदेमंद होता है। हम सभी जानते हैं कि एलोवेरा से बने हुए फेसवाश हमारे चेहरे के लिए बहुत फ़ायदेमंद होते हैं लेकिन शायद ही किसी को पता हो कि एलोवेरा जूस एक माउथ फ्रेशनर की तरह भी कार्य करता है!

जी हाँ यह सच है कि एलोवेरा का प्रयोग ओरल या मुँह से संबंधित समस्याओं के समाधान में किया जाता है।

एलोवेरा ओरल कैविटीस में मौजूद हानिकारक बैक्टीरिया को ख़त्म करने में सहायक होता है। यह दांतों को सड़न से बचाता है। इतना ही नहीं एलोवेरा जूस दांतों में कीड़े लगने की समस्या का भी समाधान करता है।

यदि आप के मुँह से बदबू आने की समस्या है तो आपको एलोवेरा जूस का प्रयोग करना चाहिए।

3. पाचन क्रिया में सहायक है एलोवेरा जूस

पेट में भोजन के अच्छे पाचन के लिए पेट की दीवारें एक क्रिया करती है जिसे कि क्रमाकुंचन गति कहते हैं। पेट की दीवारों की मांसपेशियां तेज़ी से सिकुड़ती और फैलती है जिससे पेट में मौजूद भोजन आपस में मथने लगता है। इस तरह पेट में पाचन क्रिया होती है।

एलोवेरा जूस में लैक्सेटिव प्रॉपर्टीज़ पाई जाती हैं जो कि क्रमाकुंचन गति के लिए फ़ायदेमंद होती हैं।

लैक्सेटिव प्रॉपर्टीज़ के कारण आमाशय की मांसपेशियां मज़बूत बनती हैं। इतना ही नहीं एलोवेरा जूस पेट में मौजूद भोजन के ठोस कणों को मुलायम कणों में बदलने में सहायक होता है।

एलोवेरा जूस ना सिर्फ़ भोजन के सही पाचन में सहायक होता है बल्कि यह पेट में हो रही दर्द का भी बेहतरीन इलाज करता है।

ईरान में हुए एक अध्ययन में इस बात का ख़ुलासा किया गया कि एलोवेरा जूस पेट में हो रही दर्द या किसी प्रकार की समस्या के समाधान में सहायक होता है।

एलोवेरा में पाई जाने वाली लैक्सेटिव प्रॉपर्टीज़ के कारण एलोवेरा कब्ज की समस्या से निजात देता है। ये प्रॉपर्टीज़ आंतों की दीवारों को चिकना कर देती हैं। इस तरह भोजन आंतों से बाहर आसानी से निकलने में सक्षम हो पाता है।

भारत में हुए एक अध्ययन में इस बात का दावा किया गया कि एलोवेरा पेट में होने वाले किसी भी प्रकार के अल्सर या घाव का उपचार करता है।

एलोवेरा में एंटी बैक्टीरियल प्रॉपर्टीज़ पाई जाती है। इन प्रॉपर्टीज़ के कारण एलोवेरा एच पाईलोरी नामक बैक्टीरिया का ख़ात्मा करने में सक्षम होता है। एच पाईलोरी बैक्टीरिया पेट में अल्सर और गैस्ट्रिक इंफेक्शन पैदा करता है।

एलोवेरा पाचन में और किस किस तरह से फ़ायदा पहुँचाता है इस विषय पर अभी अनेक शोध जारी हैं। एलोवेरा हमारी आंतों को साफ़ करने का भी कार्य करता है।

4. त्वचा के लिए एलोवेरा जूस के फायदे

एलोवेरा हमारी त्वचा के लिए बहुत फ़ायदेमंद होता है। एलोवेरा जेल को चेहरे की त्वचा पर लगाने से त्वचा में निखार आता है।

एलोवेरा त्वचा पर मौजूद घावों का भी उपचार करता है। यदि आपकी त्वचा टैन या सनबर्न हो रही है तो आपको एलोवेरा जेल का प्रयोग करना चाहिए। यह ना सिर्फ़ समस्याओं का उपचार करेगा बल्कि आपकी त्वचा को एक बेहतरीन नमी और निखार भी देगा।

एलोवेरा जेल का प्रयोग मुंहासों के विरुद्ध भी किया जाता है। एलोवेरा में आक्सिंन और जिबरेलिन नामक दो हॉर्मोन्स पाए जाते हैं। ये दोनों हार्मोन्स त्वचा को मुहांसों से बचाने में सहायक होते हैं।

एलोवेरा नई कोशिकाओं की वृद्धि की दर को बढ़ाने में सक्षम होता है। इस तरह यह त्वचा को हानिकारक UV किरणों से बचाने में सहायता करता है।

कुछ शोधों में इस बात का दावा किया गया है कि एलोवेरा त्वचा को झुर्रियों से बचाने में सहायक होता है।

ईरान में हुए एक शोध में इस बात का ख़ुलासा किया गया कि एलोवेरा जेल त्वचा को अनेक प्रकार की समस्याओं जैसे सूखापन, झुर्रियां, मुँहासे आदि से बचाने में मदद करता है।

यदि आप मेकअप को कैमिकल युक्त रिमूवर से नहीं हटाना चाहती हैं तो आप इसके लिए एलोवेरा जेल का प्रयोग कर सकती हैं। मेकअप को हटाने के लिए आप एलोवेरा से युक्त फेसवॉश का उपयोग कर सकती हैं।

आप चाहें तो घर पर एलोवेरा फेसवाश बना सकती हैं। इसके लिए आपको एक टीस्पून बादाम के दूध और एक टीस्पून नीबू के रस को एलोवेरा जेल में मिलाना है।

इस मिश्रण को अपने चेहरे पर लगाएं और थोड़ी देर के लिए इसे छोड़ दें। उसके बाद आप सामान्य पानी से अपना मुँह धो सकती हैं।

5. वज़न घटाने में सहायक

हम जानते हैं कि एलोवेरा जेल में लैक्सेटिव प्रॉपर्टीज़ पाई जाती हैं। इन प्रॉपर्टीज़ के कारण एलोवेरा जेल पाचन क्रिया को सुदृढ़ बनाता है।

जब हमारा पाचन ठीक हो जाता है तो हमारे वज़न बढ़ने की लगभग 50 प्रतिशत संभावनाएं कम हो जाती हैं। जब हमारे शरीर की पाचन प्रक्रिया ठीक नहीं होती है तो शरीर में इन्फ्लामेशन का ख़तरा बना रहता है।

भोजन से अलग किए गए हानिकारक कण जब शरीर से बाहर नहीं निकल पाते हैं तो वे शरीर में सूजन पैदा करते हैं।

ऐसे में हमें एक ऐसे पदार्थ की आवश्यकता होती है जो कि हमारे शरीर की सफ़ाई कर सके। एलोवेरा जेल में एंटीइन्फ्लामेटरी गुण पाए जाते हैं अतः इस मामले में हम एलोवेरा जूस का प्रयोग कर सकते हैं।

नियमित रूप से एलोवेरा जूस का सेवन वज़न घटाने में सहायता करता है।

चूहे पर किए गए एक शोध में यह देखा गया कि एलोवेरा जूस चूहे की फ़ैट कोशिकाओं के स्तर को काफ़ी कम कर रहा है।

शोध में चूहे को 35 दिनों के ऑब्जर्वेशन में रखा गया और ये पाया गया कि इन 35 दिनों में एलोवेरा जूस चूहे के शरीर में वसा के स्तर को काफ़ी कम कर रहा है।

इस तरह यह अनुमान लगाया गया है कि एलोवेरा जूस मानव शरीर पर भी इसी तरह का असर दिखा सकता है। 

हालाँकि हम कह सकते हैं कि इसका ठोस सबूत नहीं है लेकिन इस बात को साबित करने के लिए अनेक अध्ययन अभी चल रहे हैं।

6. बालों के लिए

एलोवेरा जेल बालों को नमी देने का कार्य करता है। एलोवेरा जेल से बालों की मसाज करने पर बालों को चमत्कारिक रूप से फ़ायदा मिलता है।

यदि आपको अपने बालों का PH संतुलित करना है तो इसके लिए आपको एलोवेरा जेल और नींबू के रस का प्रयोग करना चाहिए।

एलोवेरा जेल की दो पत्तियां लें और इसमें आधा नींबू का रस मिलाएँ। इस मिश्रण को अच्छे से आपस में मिला लें और फिर इसे अपने बालों पर लगाएं।

मिश्रण को अपने बालों में लगाने के लिए आपको अपने बालों को हल्का सा गीला रखना है। इस हेयर मास्क को बालो में लगाने के बाद आपको अपने बालों को 15-20 मिनट के लिए एक गर्म तौलिए से ढकना है।

उसके बाद आप बालों को माइल्ड शैंपू से धो सकते हैं। आप हफ़्ते में एक या दो बार इस प्रक्रिया को दोहरा सकते हैं। आप अपने बालों में स्वयं फ़र्क महसूस करेंगे।

यदि आपको सीधे बाल अच्छे लगते हैं और आप अपने बालों में स्ट्रेटनर का प्रयोग करते हैं तो आपको एलोवेरा जेल का प्रयोग करना चाहिए।

अपने बालों को डैमेज होने से बचाने और चमक देने के लिए उन पर स्ट्रेटनर अप्लाई करने से पहले एलोवेरा जेल लगा लें। उसके बाद आप अपने बालों को स्ट्रेट कर सकते हैं।

7. जोड़ों के दर्द से राहत

एलोवेरा जूस का नियमित रूप से सेवन करने पर जोड़ों के दर्द से राहत मिलती है।

यदि आप गठिया और जोड़ों के दर्द व सूजन से पीड़ित हैं तो आपको 2 हफ़्तों तक नियमित रूप से एलोवेरा जूस पीना चाहिए। यह आपको इन समस्याओं से पूर्णता मुक्त कर देगा।

8. कैंसर से बचाव

शोधों में इस बात का दावा किया है कि एलोवेरा जूस कैंसर और ट्यूमर कोशिकाओं को ख़त्म करने में सहायता करता है। एलोवेरा जूस शरीर में कैंसर बनाने वाली कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है। 

यूनाइटेड अरब अमीरात में हुए एक शोध में इस बात का ख़ुलासा किया गया कि एलोवेरा जूस कैंसर कोशिकाओं की वृद्धि की दर को प्रभावित करता है। यह किसी मेडिकल दवाई से ज़्यादा फ़ायदा पहुँचाता है।

9. कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करना

एलोवेरा जूस शरीर में मौजूद हानिकारक कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है। इतना ही नहीं यह रक़्त में मौजूद हानिकारक पदार्थों को रक्त से निकालने का भी कार्य करता है।

एक शोध में इस बात का ख़ुलासा किया गया है कि एलोवेरा जूस का नियमित रूप से सेवन हानिकारक कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को 30% तक कम करता है।

10. एमिनो एसिड्स के स्तर को संतुलित करना

हमारे शरीर की कोशिकाओं को विकास करने के लिए अमीनो एसिड्स की आवश्यकता होती है। यदि शरीर में आवश्यक अमीनो एसिड्स की कमी हो जाती है तो शरीर की कोशिकाओं पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

एलोवेरा जूस शरीर को एमिनो ऐसिड की प्रचुर मात्रा प्रदान करने में सहायक होता है। इस तरह यह शरीर में नई कोशिकाओं के विकास और मांसपेशियों को मज़बूत करने में समर्थ होता है।

इस तरह हम देख सकते हैं कि एलोवेरा जूस हमारे स्वास्थ्य के लिए कितना फ़ायदेमंद होता है। आइए अब बात करते हैं कि एलोवेरा जूस के अधिक सेवन से शरीर पर क्या क्या साइड इफेक्ट्स पड़ते हैं।

एलोवेरा जूस के कुछ नुकसान

  • टाइप टू डायबिटीज़ को बढ़ावा

एलोवेरा जूस रक्त में मौजूद शुगर के स्तर को गिरा देता है। यह काफ़ी मात्रा में रक्त में मौजूद शुगर को कम कर देता है।

कभी कभी यदि एलोवेरा जूस का अधिक सेवन कर लिया जाए तो रक्त में आवश्यक शुगर की मात्रा भी ख़त्म हो जाती है। ऐसे में टाइप टू डायबिटीज़ का ख़तरा बढ़ जाता है।

  • गर्भपात के लिए ज़िम्मेदार

गर्भवती महिलाओं को एलोवेरा जूस का सेवन नहीं करना चाहिए। यह गर्भवती महिला को नुक़सान पहुँचा सकता है। एक रिपोर्ट में यह बात कही गई है कि एलोवेरा जूस का सेवन करने से गर्भपात की संभावनाएं बढ़ जाती हैं।

गर्भावस्था के दौरान एलोवेरा जूस का सेवन प्रसव प्रक्रिया को काफ़ी मुश्किल बना सकता है। यह बच्चे को भी नुक़सान पहुँचाता है।

  • किडनी या गुर्दे की समस्या

पहली बात तो यदि आप किसी भी प्रकार का मेडिकल ट्रीटमेंट ले रहे हैं तो आपको बिना डॉक्टर की सलाह लिए एलोवेरा जूस का सेवन नहीं करना चाहिए।

यदि आप इस बात को अनदेखा करके एलोवेरा जूस का सेवन करते हैं तो आपकी किडनी फेल्योर के चांसेस काफ़ी मात्रा में बढ़ जाते हैं।

  • पोटैशियम की कमी

एलोवेरा में पाई जाने वाली लैक्सेटिव प्रॉपर्टीज़ हमारी पाचन के लिए फ़ायदेमंद होती है लेकिन यह शरीर में पोटेशियम के स्तर को कम कर देती हैं।

इस तरह एलोवेरा जेल रक्त और हड्डियों से संबंधित काफ़ी समस्याएं पैदा कर सकता है।

इस तरह हम देख सकते हैं कि एलोवेरा जूस हमारे स्वास्थ्य को किस प्रकार से फ़ायदा और नुक़सान पहुँचाता है। 

हम आशा करते हैं कि यह लेख आपको एलोवेरा जूस से संबंधित जानकारियां उपलब्ध कराने में सहायक होगा। 

यदि आपका इस लेख से संबंधित कोई भी सवाल या सुझाव है तो आप उसे कमेंट पेटिका में लिख सकते हैं।

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!