दा इंडियन वायर » मनोरंजन » इमरान हाशमी ने फिल्म ‘चीट इंडिया’ के नए शीर्षक को बुलाया ‘बेतुका’, ट्विटर के जरिये किया शांति से विरोध
मनोरंजन

इमरान हाशमी ने फिल्म ‘चीट इंडिया’ के नए शीर्षक को बुलाया ‘बेतुका’, ट्विटर के जरिये किया शांति से विरोध

इमरान हाशमी ने फिल्म 'चीट इंडिया' के नए शीर्षक को बुलाया 'बेतुका'

इमरान हाश्मी की फिल्म “चीट इंडिया” जल्द सिनेमाघरों में दस्तक देने वाली है मगर रिलीज़ के कुछ ही दिन पहले सीबीएफसी ने बड़ी सिफारिश की है। उन्होंने मेकर्स से फिल्म के शीर्षक में बदलाव करने के लिए कहा है। और अब मेकर्स ने फिल्म का नाम बदल कर-“व्हाई चीट इंडिया” कर दिया है। मगर फिल्म के अभिनेता और निर्माता इमरान हाश्मी का कहना है कि नाम बदलने का फैसला ‘बेतुका’ और ‘हास्यास्पद’ है।

भारतीय शिक्षा प्रणाली के आधार पर बनी फिल्म से इमरान बतौर निर्माता डेब्यू कर रहे हैं।

जब उनसे आखिर वक़्त पर शीर्षक बदलने के बारे में पूछा गया तो इमरान ने IANS को बताया-“सीबीएफसी के सदस्यों ने शीर्षक को भ्रामक पाया। उनके मुताबिक, हमारी फिल्म भारत को नकारात्मक रूप में दिखा रही है। लेकिन यह वही है, जो हम दिखा रहे हैं वह व्यवस्था का दर्पण है, उन्हें इसे समझना चाहिए।”

अभिनेता ने इस कदम के ऊपर खुलकर तो आलोचना नहीं की है मगर उन्होंने शांति से विरोध कर अपना ट्विटर अकाउंट भी बदलकर[email protected]व्हाईइमरानहाशमी कर दिया है।

उन्होंने कहा कि दिन के अंत में, सब कुछ शिक्षा प्रणाली पर आकर ही रुक जाता है।

उनके मुताबिक, “मौलिक रूप से, यदि प्रणाली में एक खुली और विश्लेषणात्मक सोच है, तो आप ऐसी अतार्किक बातें नहीं करेंगे। आखिरी समय पर फिल्म का शीर्षक बदलने का कोई मतलब नहीं है। ‘चीट इंडिया’ का शीर्षक एक साल के लिए रहा है, सीबीएफसी ने पहले हमारे सभी प्रोमो को मंजूरी दी, लेकिन अब, उन्होंने जो किया है वह बिल्कुल अतार्किक है। इसमें कोई तर्क नहीं है।”

हालांकि उनका कहना है कि शीर्षक बदलने से फिल्म के उद्देश्य का प्रभाव कम नहीं होगा।

“मैं खुश हूँ कि हमारे दर्शक इतने समझदार हैं कि वे किसी फिल्म को जज कर सकें। वे फिल्म कंटेंट के लिए देखते हैं, शीर्षक के लिए नहीं। मुझे यकीन है कि शीर्षक बदलने से फिल्म के व्यापार या उसके मकसद पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा।”

हाशमी की सह-कलाकार और डेब्यू श्रेया धनवंतरी भी नाम बदलने से बहुत खुश नहीं हैं।

उन्होंने कहा, “मुझे समझ में नहीं आता कि सेंसर बोर्ड किस तरह से आसानी से हिंसा और अश्लीलता दिखाने वाली फिल्मों को पास कर सकती है, लेकिन उन्हें चीट इंडिया जैसी सामाजिक मुद्दे पर आधारित फिल्म के साथ समस्या है।”

सौमिक सेन द्वारा निर्देशित, “व्हाई चीट इंडिया” 18 जनवरी को रिलीज होने वाली है।

About the author

साक्षी बंसल

पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!

Want to work with us? Looking to share some feedback or suggestion? Have a business opportunity to discuss?

You can reach out to us at [email protected]