दा इंडियन वायर » अर्थशास्त्र » आधुनिक पोर्टफोलियो सिद्धांत क्या है ?
अर्थशास्त्र

आधुनिक पोर्टफोलियो सिद्धांत क्या है ?

modern portfolio theory in hindi आधुनिक पोर्टफोलियो सिद्धांत

आधुनिक पोर्टफोलियो सिद्धांत की परिभाषा (modern portfolio theory in hindi)

आधुनिक पोर्टफोलियो सिद्धांत एक ऐसा सिद्धांत है जोकि बताता है की ऐसे निवेशक जो जोखिम नहीं उठाना चाहते हैं वे दिए गए बाज़ार के जोखिम स्तर के आधार पर एक पोर्टफोलियो का निर्माण करके अपेक्षित रिटर्न को बढ़ा सकते हैं। यह सिद्धांत इस तथ्य पर जोर देता है की जोखिम बाज़ार का एक अहम् हिस्सा है।

इस सिद्धांत के अनुसार एक ऐसा पोर्टफोलियो तैयार करना संभव है जो बाज़ार की वर्तमान जोखिम के स्तर पर अधिकतम रिटर्न दे सकता है।

आधुनिक पोर्टफोलियो सिद्धांत का तर्क है कि एक निवेश के जोखिम और वापसी की विशेषताओं को अकेले नहीं देखा जाना चाहिए, लेकिन यह मूल्यांकन करना चाहिए कि निवेश पूरे पोर्टफोलियो के जोखिम और वापसी को कैसे प्रभावित करता है।

ज्यादा जोखिम ज्यादा फायदा (more risk, more profit)

यह सिद्धांत बताता है की एक निवेशक चाहे तो इस सिद्धांत से कई परिसम्पतियों के पोर्टफोलियो का निर्माण कर सकता है। यह एक ऐसा पोर्टफोलियो होगा जो किसी वर्तमान स्तर के जोखिम के लिए अधिकतम रिटर्न देने में सक्षम होगा।

इसके साथ ही यदि निवेशक चाहे तो न्यूनतम जोखिम के साथ भी पोर्टफोलियो तैयार कर सकता है लेकिन इस पोर्टफोलियो में जोखिम के अनुसार रिटर्न भी न्यूनतम होंगे। अतः यदि एक निवेशक बड़ा जोखिम उठाने में सक्षम है तो उसे पोर्टफोलियो से अधिक लाभ भी मिल सकता है।

पोर्टफोलियो जोखिम और अपेक्षित रिटर्न (portfolio risk and expected return in hindi)

यह सिद्धांत इस अवधारणा पर काम करता है की एक निवेशक जोखिम नहीं लेना चाहता एवं न्यूनतम जोखिम रखना चाहता है जिससे उसके रिटर्न का स्टार भी कम होगा। इसका यह अभिप्राय है की एक निवेशक तभी बड़ा जोखिक्म लेगा जब वह बड़े फायदे की आशा करेगा।

उदाहरण :

इस पोर्टफोलियो के अनुसार किसी भी परिसंपत्ति का पोर्टफोलियो तैयार किया जा सकता है। उदाहरण के तोर पर हम यह लेते हैं : यदि हमारे पास दो पोर्टफोलियो हैं जिनमे से एक कमें 10 प्रतिशत डेविएशन है लेकिन रेतुर्न 20 प्रतिशत है एवं दूसरा पोर्टफोलियो है जिसमे डेविएशन 10 प्रतिशत है लेकिन रिटर्न 28 प्रतिशत है तो हम दूसरा पोर्टफोलियो चुनेंगे क्योंकि समान स्तर के जोखिम पर वह हमें ज्यादा बड़ा रिटर्न दे रहा है।

इस लेख से सम्बंधित यदि आपका कोई भी सवाल या सुझाव है, तो आप उसे नीचे कमेंट में लिख सकते हैं।

अर्थशास्त्र से सम्बंधित अन्य लेख:

About the author

विकास सिंह

विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!

Want to work with us? Looking to share some feedback or suggestion? Have a business opportunity to discuss?

You can reach out to us at [email protected]