खानपान

अमीनो एसिड के स्त्रोत, फायदे, प्रकार


प्रोटीन्स कोशिकाओं के निर्माण में सहायक होते हैं लेकिन प्रोटीन्स को ऐसा करने के लिए अमीनो एसिड्स प्रेरित करते हैं। इसका सीधा सा मतलब है कि अमीनो एसिड्स हमारे शरीर के विकास के लिए अत्यंत आवश्यक होते हैं।

अक्सर हम यह ख़याल नहीं रखते कि हम किस प्रकार का आहार ले रहे हैं और उसमें किस प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते हैं।

आइए आपको बताते हैं कि एक अमीनो एसिड से भरपूर आहार क्यों लेना चाहिए लेकिन उससे पहले देखते हैं कि अमीनो एसिड कितने प्रकार के होते हैं?

अमीनो एसिड के प्रकार

  • एजे़नशियल या आवश्यक अमीनो एसिड

यह अमीनो एसिड्स भोजन के द्वारा प्राप्त किए जाते हैं और इन्हें हमारी बॉडी स्वयं नहीं बना पाती है। यह अमीनो एसिड्स शरीर के लिए अत्यंत आवश्यक होते हैं क्योंकि ये प्रोटीन को सही प्रकार से कार्य करने के लिए प्रेरित करते हैं।

  • नॉन एजे़नशियल अमीनो एसिड

इस प्रकार के अमीनो एसिड्स का संचय बॉडी स्वयं करती है। तो इसका मतलब है कि नॉन एजे़नशियल अमीनो एसिड्स भोजन के द्वारा नहीं प्राप्त किए जाते हैं बल्कि शरीर में इनका निर्माण एजे़नशियल अमीनो एसिड्स के कारण होता है।

  • कंडीशनल अमीनो एसिड

कंडीशनल अमीनो एसिड्स की आवश्यकता तब तक नहीं पड़ती है जब तक कि हमारा शरीर रोगग्रस्त या तनावग्रस्त न हो जाए।

कंडीशनल अमीनो एसिड्स का निर्माण एजे़नशियल और नॉन एजे़नशियल अमीनो एसिड्स के कारण ही होता है।

एमिनो एसिड के फायदे

आइए अब बात करते है कि अमीनो एसिड्स हमारे स्वास्थ्य को क्या लाभ पहुँचाते हैं। 

1. थकान को कम करने में सहायता करते हैं अमीनो ऐसिड

अमीनो एसिड्स थकान के स्तर को चमत्कारिक रूप से काम करते हैं। स्वीडन में हुए एक शोध में इस बात का ख़ुलासा किया गया है कि अमीनो एसिड्स मेंटल और फिजिकल दोनों ही प्रकार की थकान के लेवल को कम करने में सहायक होते हैं।

सिर्फ़ इतना ही नहीं बल्कि ये शरीर को सही प्रकार से कार्य करने के लिए भी प्रेरित करते हैं।

इसी प्रकार एक और शोध में इस बात का ख़ुलासा किया गया है कि अमीनो एसिड्स तनाव के कारण उत्पन्न होने वाली थकान को ख़त्म कर देते हैं।

अमीनो एसिड्स सिर्फ़ तनाव को ही कम नहीं करते बल्कि यह सही प्रकार से सोने में भी हमारी मदद करते हैं। अमीनो एसिड्स हमारे शरीर में रिलैक्सिन हारमोन के स्तर को बढ़ा देते हैं जिस कारण हमें नींद अच्छी आती है।

2. मस्तिष्क के लिए फ़ायदेमंद होते हैं अमीनो ऐसिड

अमीनो एसिड्स मस्तिष्क को काफ़ी फ़ायदा पहुँचाते हैं।टायरोसाइन नामक अमीनो एसिड काग्निटिव परफॉर्मेंस के लिए जाना जाता है।

इतना ही नहीं बल्कि यह अमीनो एसिड्स स्ट्रेस लेवल को कम करता है। टायरोसाइन मस्तिष्क की कार्यप्रणाली को सुदृढ़ करता है।

एक शोध में इस बात का ख़ुलासा किया गया है कि अमीनो एसिड्स से भरपूर पदार्थों का सेवन करने से ना सिर्फ़ तनाव कम होता है बल्कि बेचैनी में भी राहत मिलती है। इसके अलावा अमीनो ऐसिड्स याददाश्त को मज़बूत करते हैं जिससे कि हम चीज़ों को सही प्रकार से याद रखने में सक्षम होते हैं।

3. मांसपेशियों के लिए कार्य करते हैं अमीनो एसिड्स

प्रोटीन कोशिकाओं के निर्माण में

सहायक होते हैं और ये डैमेज हुई कोशिकाओं की फिर से मरम्मत करने के लिए भी कार्य करते हैं। प्रोटीन्स मांसपेशियों के लिए फ़ायदेमंद होते हैं लेकिन असल बात तो यह है कि प्रोटीन की कार्यविधि अमीनो एसिड्स के कारण होती है।

अमीनो एसिड्स प्रोटीन को सही प्रकार से कार्य करने के लिए प्रेरित करते हैं। शोध में इस बात का ख़ुलासा किया गया है कि आरजीनाइन नामक अमीनो एसिड मांसपेशियों को मज़बूत करके बॉडी मास बढ़ाता है।

आरजीनाइन मांसपेशियों में रक्त के संचालन को भी बढ़ाता है जिससे कि मांसपेशियां डैमेज होकर जल्दी रिकवर करने में सक्षम हो पाती हैं।

4. वज़न घटाने में सहायता करते हैं अमीनो एसिड्स

चूँकि अमीनो एसिड्स मांसपेशियों को मज़बूत करके बॉडी मास बढ़ाते हैं। यही कारण है कि अमीनो एसिड्स शरीर का वज़न घटाने में भी सहायता करते हैं।

दरअसल होता यह है कि अमीनो एसिड्स मांसपेशियों को मज़बूत करके बॉडी मास बढ़ाकर वसा को घटा देते हैं। इस तरह शरीर ना सिर्फ़ मज़बूत होता है बल्कि सही प्रकार से कार्य करने के लिए भी प्रेरित होता है।

शोधों में इस बात का दावा किया गया है कि अमीनो एसिड्स वसा के स्थान पर मांसपेशियों को प्रेफर करते हैं अर्थात् मांसपेशियों को मज़बूत करते हैं। इस तरह ये वसा को कम करके वज़न घटाने में सहायता करते हैं।

भूख को कम करने में भी अमीनो एसिड्स का एक महत्वपूर्ण योगदान होता है। यही कारण है कि हम फ़ालतू की चीज़ें जैसे तले भुने पदार्थ या जंक फ़ूड खाने से बच जाते हैं और हमारे शरीर का वज़न बढ़ने नहीं पाता है।

5. स्वस्थ वालों के लिए अमीनो एसिड्स का योगदान

बाल एक प्रकार की हड्डियाँ ही होते हैं। हम कह सकते हैं कि बालों का निर्माण मुलायम हड्डियों से होता है। लेकिन जो बात सच है वो यह है कि बाल अमीनो एसिड्स के बने होते हैं।

यही कारण है कि अमीनो एसिड्स बालों के लिए काफ़ी महत्वपूर्ण होते हैं। यदि आप चाहते हैं कि आपके बाल मज़बूत और घने हो जाएं तो ऐसे में यह ज़रूरी है कि आपके शरीर में अमीनो एसिड्स का स्तर संतुलित हो।

अमीनो एसिड्स के कारण ही बाल मज़बूत और घने होते हैं। इतना ही नहीं बल्कि अमीनो एसिड्स बालों को चमक देते हैं और उनका झड़ना रोकते हैं।

6. अमीनो एसिड्स के कारण बुढ़ापा देर से आता है

अमीनो एसिड्स एक एंटी एजिंग फैक्टर की तरह कार्य करते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि अमीनो एसिड्स शरीर में फ़्री रेडिकल्स को कंट्रोल करते हैं जिससे कि त्वचा चमकदार और झुर्रियां मुक्त बन जाती है। इस तरह बुढ़ापा देर से आता है।

आरजीनाइन और कार्टिंनाइन नामक अमीनो एसिड DNA को डैमेज होने से बचाते हैं। इतना ही नहीं बल्कि ये डैमेज हुए DNA को रिकवर करने में सहायता करते हैं जिससे कि त्वचा पर झुर्रियां नहीं पड़ती हैं।

ये तो हो गए अमीनो एसिड्स के फ़ायदे! आइए अब देखते हैं कि अमीनो एसिड्स को किन चीज़ों से प्राप्त किया जा सकता है?

अमीनो एसिड के स्रोत

  • अमीनो एसिड्स से भरपूर होते हैं अनाज

अगर आप चाहते हैं कि आपके शरीर में अमीनो एसिड्स की प्रचुर मात्रा हो तो आपको अनाजों का सेवन करना चाहिए।

गेहूं, चावल, दाल, चने आदि में भरपूर मात्रा में अमीनो एसिड पाया जाता है। आप अपने आहार में इन चीज़ों को शामिल करके अमीनो एसिड्स को प्राप्त कर सकते हैं।

  • मांस का सेवन करके पाएँ अमीनो एसिड्स

एनिमल प्रोटीन्स में अमीनो एसिड्स की प्रचुर मात्रा पाई जाती है। एनिमल प्रोटीन्स पाने के लिए आप मांस का सेवन कर सकते हैं।चिकन, बीफ, अंडे, पोर्क आदि में अमीनो एसिड्स की काफ़ी मात्रा पाई जाती है। इन चीज़ों को अपने आहार में शामिल करके आप अमीनो एसिड्स प्राप्त कर सकते हैं।

अमीनो एसिड्स के लिए सीफ़ूड का सेवन भी कर सकते हैं। अनेक प्रकार की मछलियों और केकड़ों के मांस में भी अमीनो एसिड पाया जाता है।

  • ड्राई फ्रूट्स का सेवन करें

ड्राई फ्रूट्स अनेक प्रकार के पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। यही कारण है कि हमें ड्राई फ्रूट्स का सेवन करने की सलाह दी जाती है। ड्राई फ्रूट्स में अमीनो एसिड्स की प्रचुर मात्रा पाई जाती है इसलिए हमें ड्राई फ्रूट्स का सेवन अवश्य करना चाहिए।

अमीनो एसिड्स स्वस्थ जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होते हैं इसलिए हमें चाहिए कि हम अपने शरीर के स्तर को संतुलित रखने की कोशिश करें।

इस लेख से सम्बंधित यदि आपका कोई भी सवाल या सुझाव है, तो आप उसे नीचे कमेंट में लिख सकते हैं।

नायला हाशमी

टिप्पणियां देखें

  • Mere baal bahut girte h pahle se kafi kam ho gye h meri umra abhi kewal 22years h
    To kya amino acid inj mere liye shi rahega

Share
लेखक
नायला हाशमी

Recent Posts

क्या होंगे आने वाले समय में भारत के लिए औकस (AUKUS) के मायने?

संयुक्त राज्य अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम और ऑस्ट्रेलिया के बीच एक नए सुरक्षा समझौते औकस (या…

September 25, 2021

वाइट हाउस में हुई प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन के बीच में द्विपक्षीय वार्ता

वाइट हाउस के ओवल कार्यालय में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन…

September 25, 2021

पर्यावरण मंत्रालय ने सर्दियों में वायु प्रदर्शन की रोकथाम के लिए दिल्ली और पड़ोसी राज्यों के साथ की बैठक

केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय ने गुरुवार को दिल्ली और पड़ोसी राज्यों के प्रतिनिधियों के साथ एक…

September 24, 2021

केंद्र सरकार का सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा: जातिगत जनगणना की प्रक्रिया प्रशासनिक रूप से कठिन और बोझिल

केंद्र सरकार ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट को बताया कि पिछड़े वर्ग की जाति जनगणना…

September 24, 2021

प्रधान मंत्री मोदी ने अमेरिकी दौरे के पहले दिन कमला हैरिस और अन्य नेताओं से की मुलाकात

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कल दो साल में अपनी पहली अमेरिका यात्रा की शुरुआत…

September 24, 2021

डब्ल्यूएचओ ने 2005 के बाद किये नए वायु गुणवत्ता दिशानिर्देश; कई निर्देश हुए सख्त

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने 2005 के बाद से अपने पहले ऐसे अपडेट में पिछले…

September 23, 2021