Sun. Jul 14th, 2024
    रेल मंत्री पीयूष गोयल

    रेलवे ने लोकल ट्रेन की टिकट या अनारक्षित टिकट के लिए लगने वाली लंबी लाइनों से लोगों को छुटकारा दिलवाने के लिए एक बेहद जरूरी कदम उठाया है।

    पीयूष गोयल की अध्यक्षता वाले रेल मंत्रालय ने फैसला किया है कि अब लोग रेलवे की लोकल ट्रेन व अनारक्षित टिकटों को यूटीएस मोबाइल एप के माध्यम से खरीद सकेंगे। यह सुविधा 1 नवंबर 2018 से पूरे भारत में एक साथ लागू हो जाएगी।

    यह भी पढ़ें: वेटिंग टिकट कन्फर्म कैसे करे?

    हालाँकि इस सुविधा को पहले भी बड़े स्तर पर लॉंच किया जा चुका है, लेकिन तब मुंबई के अलावा यह सुविधा कहीं भी नहीं टिक पायी थी। मालूम हो कि मुंबई की अधिकांश जनता अभी भी लोकल ट्रेनों में ही सफर करती है। मुंबई के बाद इसे दिल्ली व चेन्नई में लागू किया गया था। अब इसे पूरे भारत में लागू किया जाएगा।

    भारतीय रेलवे ने अपनी इस सुविधा को पहले ही 15 ज़ोन में लागू कर रखा है। यह सुविधा अभी पश्चिम मध्य रेलवे और उत्तर पूर्वी रेलवे जोनों में लागू की जानी बाकी है।

    यह भी पढ़ें: प्रीमियम तत्काल टिकट क्या है?

    रेलवे अधिकारियों ने इस बाबत जानकारी देते हुए कहा है कि लोगों को इससे बेहद फायदा पहुंचेगा, लोगों को समय की बचत होगी व टिकट खरीदने के लिए उन्हे लाइनों से भी छुटकारा मिल जाएगा।

    रेलवे के द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार फिलहाल यूटीएस एप के तहत 45 लोग पंजीकृत हैं तथा इसके जरिये फिलहाल 87 हज़ार टिकटें प्रति दिन खरीदी जा रहीं हैं। यूटीएस एप द्वारा टिकट खरीदने के लिए यात्री को रेलवे स्टेशन के 25 से 30 मीटर के दायरे में रहना होगा। वहीं यूटीएस एप के जरिये यात्री एक बार में 4 टिकट ही बुक कर सकते हैं।

    यह भी पढ़ें: तत्काल टिकट कितने दिन पहले बुक कर सकते हैं?

    इस सुविधा के तहत यात्री न सिर्फ यात्रा टिकट ले सकेंगे, बल्कि वे प्लैटफ़ार्म टिकट या मासिक पास भी ले सकेंगे। रेलवे के अधिकारियों के अनुसार यूटीएस एप के जरिये अनारक्षित टिकटों की बिक्री से रेलवे रोजाना 45 लाख रुपये की कमाई कर रहा है।

    यह भी पढ़ें: तत्काल टिकट कैसे बुक करें?

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *