दा इंडियन वायर » विज्ञान » अंतरिक्ष से जुड़े 100 रोचक तथ्य और रहस्य
विज्ञान

अंतरिक्ष से जुड़े 100 रोचक तथ्य और रहस्य

अंतरिक्ष के तथ्य facts about space in hindi

अंतरिक्ष सदैव से ही इंसान को अपनी और आकर्षित करता रहा है। यही कारण है कि प्राचीन समय में ही हमारे पूर्वजों ने अंतरिक्ष से जुड़े कई रहस्य पता लगा लिए थे।
फिर धीरे-धीरे विज्ञान की मदद से मनुष्य का स्पेस में जाना भी सम्भव हो गया जिसके बाद अंतरिक्ष से जुड़े कई अन्य राज़ हमे पता चले।

अंतरिक्ष के रोचक तथ्य (facts about space in hindi)

यहां हम स्पेस से जुड़े कुछ प्रमुख तथ्यों के बारे में जानेंगे:

1. हमारे सौरमंडल में बुध व शुक्र ऐसे दो ग्रह हैं जिनका कोई भी उपग्रह नहीं है।
2. यदि कोई तारा ब्लैक होल के काफी पास से होकर गुजरता है तो वह बिखर सकता है।
3. हमारे सौरमंडल का सबसे गर्म ग्रह शुक्र है ज्यादातर लोग हमेशा सोचते हैं कि सबसे गर्म ग्रह बुद्ध होगा क्योंकि यह सूर्य के ज्यादा नजदीक है जबकि ऐसा नहीं है। शुक्र के वायुमंडल में कई प्रकार की गैसें पाई जाती हैं जो कि ‘ग्रीन हाउस इफेक्ट’ का कारण बनती हैं अतः शुक्र अधिक गर्म है।
4. हमारे सौरमंडल 4.6 बिलियन वर्ष पुराना है वैज्ञानिकों का अनुमान है कि यह 5000 मिलियन वर्ष और अस्तित्व में रहेगा।
5. शनि के छोटे उपग्रहों में एन्सेलाडस (enceladus) सूर्य से प्राप्त 90% प्रकाश को परावर्तित कर देता है।
6. हमारे सौरमंडल का सबसे ऊंचा पर्वत ओलंपस मॉन्स (Olympus mons) है जो कि मंगल पर स्थित हैै।
7. ओलंपस मॉन्स 25 किलोमीटर ऊंचा है जोकि  माउंट एवरेस्ट से लगभग 3 गुना है।
8. एक प्रकाश वर्ष, प्रकाश द्वारा 1 वर्ष  में चली गई दूरी होती है जो कि 9.5 ट्रिलियन किलोमीटर के बराबर है।
9. मिल्की वे की चौड़ाई लगभग 100000 प्रकाश वर्ष है।
10. सूर्य पृथ्वी से 300000 गुना बड़ा है।
11. अंतरिक्ष यात्रियों द्वारा छोड़े गए पैरों तथा टायर के निशान के निशान चंद्रमा से कभी भी गायब नहीं होंगे क्योंकि वहां पर ऐसा करने के लिए हवा नहीं है।
12. मंगल ग्रह पर कम गुरुत्व के कारण पृथ्वी पर 100 किलोग्राम वाले एक व्यक्ति का वजन वहां 38 किलोग्राम होगा।
13. वैज्ञानिकों का विश्वास है कि बृहस्पति ग्रह के 67 उपग्रह हैं जब कि 53 का ही नामकरण किया गया है।
14. बृहस्पति ही ऐसा ग्रह है जिसके सबसे ज्यादा उपग्रह हैं।
15. मंगल ग्रह पर 1 दिन 24 घंटे 39 मिनट और 35 सेकंड होता है।
16. नासा के क्रेटर निरीक्षण और सेंसिंग सैटेलाइट ने यह घोषित किया है कि उन्हें चंद्रमा पर जल के प्रमाण मिले हैं।
17. सूर्य एक पूरा रोटेशन 25-35 दिनों में पूरा करता है।
18. पृथ्वी एक ऐसा ग्रह है जिसका नाम किसी भी देवता के नाम पर नहीं रखा गया है।
19. गुरुत्वाकर्षण बल कभी-कभी धूमकेतु को भी तोड़ सकता है।
20. पृथ्वी पर ज्वार भाटा का कारण सूर्य तथा चंद्रमा का अपना गुरुत्वाकर्षण है।
21. प्लूटो चंद्रमा से भी छोटा है यहां तक कि व्यास में यह यूनाइटेड स्टेट अमेरिका से भी छोटा है।
22. गणितीय गणनाओं के आधार पर कहा जा सकता है कि व्हाइट होल्स (white holes) का होना संभव है जब तक कि कोई भी व्हाइट होल्स अभी तक ज्ञात नहीं है।
23. हमारा चंद्रमा लगभग 4.5 बिलियन वर्ष पुराना है।
24. हमारे सौरमंडल में सबसे ज्यादा ज्वालामुखी शुक्र ग्रह पर हैं।
25. अरुण ग्रह की नीली चमक का कारण उसके वायुमंडल में पाई जाने वाली मेथेन गैस है।
26. हमारे सौरमंडल में पाए जाने वाले चार ग्रह बृहस्पति,शनि,अरुण व वरुण ग्रह गैसीय दानव के रूप में जाने जाते हैं।
27. अरुण ग्रह के 27 उपग्रह है, इनमें से 5 बड़े उपग्रह,22 छोटे उपग्रह हैं। टाइटेनिया इन सभी उपग्रहों में से सबसे बड़ा है।
28. अपने अद्वितीय झुकाव के कारण अरुण ग्रह में एक रात्रि पृथ्वी के 21 वर्ष के बराबर होती है।
29. वरुण ग्रह का एक उपग्रह टाइटन धीरे-धीरे इस  के करीब आता जा रहा है।
30. अपने ग्रह की विपरीत दिशा में चक्कर लगाने वाला इकलौता बड़ा उपग्रह टाइटन है जो कि वरुण ग्रह का उपग्रह है।
31. वरुण ग्रह सूर्य की एक परिक्रमा लगाने में 164.79 वर्ष लेता है।
32. प्लूटो पर एक दिन पृथ्वी के 6 दिन और 9 घंटे के बराबर होता है।
33. हमारे सौरमंडल का दूसरा सबसे बड़ा ग्रह शनि है।
34. अंतरिक्ष में मुक्त रूप से फैला हुआ द्रव से फैला हुआ द्रव गोले (sphere) के आकार को धारण कर लेता है।
35. पृथ्वी,मंगल,बुध व शुक्र आंतरिक ग्रह (inner planets) कहलाते हैं क्योंकि यह सूर्य के अधिक नजदीक होते हैं।
36. हम अंतरिक्ष के बारे में समुद्र की गहराइयों से ज्यादा जानते हैं।
37. पहला सैटेलाइट ब्रिटेन ने लांच किया था जिसका नाम ब्लैक एरो (Black arrow) था। 38. प्रकाश को सूर्य से पृथ्वी तक आने में 8.3 मिनट का समय लगता है।
39. पृथ्वी का घूर्णन समय हर वर्ष 000.1 सैकेंड बढ़ जाता है।
40. चांद पर जाने वाला पहला व्यक्ति नील आर्मस्ट्रांग था जिसने 20 जुलाई 1969 को बाँया पैर सर्वप्रथम चंद्रमा पर रखा था।
41. स्पेस स्टेशन पृथ्वी का एक चक्कर 90 मिनट में पूरा करता है।
42. हम पृथ्वी पर कहीं भी चले जाएं परंतु हम केवल चंद्रमा का एक ही भाग देख पाते हैं।
43. मिल्की वे में 200 बिलियन तारे पाए जाते हैं।
44. शुक्र पर सल्फ्यूरिक एसिड की वर्षा होती है और धातु की बर्फबारी होती है।
45. उत्तरी आकाश मे हमें दो गैलेक्सी दिखती हैं- Andromeda और Triangulum
46. हमारे सबसे निकटतम गैलेक्सी Andromeda है जो कि लगभग 2.537 प्रकाश वर्ष की दूरी पर  है।
47. सूर्य और पृथ्वी के बीच की दूरी एस्ट्रोनॉमिकल यूनिट अथवा AU से प्रदर्शित करते हैं।
48. चांद पर कदम रखने वाला दूसरा व्यक्ति बज एल्द्रिन (buzz aldrin) था। उसकी माता का नाम मून था।
49. मरीनर 10 ही एक ऐसा एयरक्राफ्ट है जो बुध ग्रह पर गया।
50. अंतरिक्ष में हवा की अनुपस्थिति के कारण एक दूसरे की आवाज सुनाई नहीं देती है।

अंतरिक्ष से सम्बंधित कुछ और तथ्य (more facts about space in hindi)

51. अंतरिक्ष में जाने वाली पहली पेय पदार्थ कोका कोला था।
52. अंतरिक्ष पर गुरुत्व की अनुपस्थिति के कारण अंतरिक्ष यात्री लगभग 2 इंच ऊंचाई में बढ़ जाते हैं।
53. अंतरिक्ष में जाने वाली पहली महिला वैलेंटिना तेरेसकोवा (Valentina tereskova ) थी।
54. अगर शनि के चारों ओर के छल्ले 1 मीटर लंबे हो तो वे ब्लेड की तुलना में 10000 गुना पतले होंगे पतले होंगे।
55. स्पेस में भेजा गया पहला आर्टिफिशियल सैटेलाइट स्पुतनिक था।
56. पृथ्वी से सबसे दूर गैलेक्सी GRB 090423 है।
57. आप अंतरिक्ष में रो नहीं कर सकते क्योंकि आपके आँसू कभी नहीं गिरेंगे।
58. अंतरिक्ष यात्री के मुताबिक, अंतरिक्ष में स्टेक, गर्म धातु और वेल्डेंग फोम की तरह खुशबू आ रही है।
59. अंतरिक्ष सूट को बनाने में 12 मिलियन डाॅलर खर्च होते हैं।
60. मिल्की वे का का केंद्र रम (rum) की तरह महकता है।
61. हमारा चंद्रमा पृथ्वी से 4 सेंटीमीटर प्रति वर्ष की दर से दूर होता जा रहा है।
62. प्लूटो का नाम रोमन देवता के नाम पर रखा गया।
63. स्पेस स्टेशन पूरी तरह से बनने पर पृथ्वी से 90% जनसंख्या को दिखेगा।
64. अंतरिक्ष यात्री स्पेस में डकार नहीं ले सकते क्योंकि द्रव और गैस हमारे पेट में जीरो ग्रेविटी के कारण अलग नहीं हो पाते।
65. मंगल में सूर्यास्त नीला सूर्यास्त नीला होता है शनि का घनत्व इतना कम होता है कि वह पानी में तैर सकता।
66. चंद्रमा का द्रव्यमान पृथ्वी के द्रव्यमान का आठवां भाग होता है।
67. NASA का मतलब नैशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन होता है।
68. बुध ग्रह में कोई वायुमंडल नहीं पाया जाता अर्थात वहां ना हीं हवा है और ना ही मौसम।
69. चीन में मिल्की वे सिल्वर रिवर के रूप में जानी जाती है।
70. बुध ग्रह पृथ्वी केे 58 दिनों के तुल्य होता है ।
71. बुध ग्रह  पर एक साल पृथ्वी के 88 दिन के तुल्य होता है।
72. चूंकि स्पेस मे गुरुत्व नहीं होता है अतः वहां सामान्य रुप से पेन कार्य नहीं करता है।
73. औसत रुप से चंद्रमा से पृथ्वी तक प्रकाश आने में 1.3 सेकेण्ड लगता है।
74. धुमकेतू का केंद्र न्यूक्लियस कहलाता है।
75. 2006 में प्लूटो को ग्रह की श्रेणी से हटा दिया गया था।
76. 23 अप्रैल, 1967 को सोवियत कॉस्मोनॉटव्लादिमीर कोमारोव अंतरिक्ष की अपनी दूसरी यात्रा के दौरान वापसी में स्पेसक्राफ्ट के दुर्घटनाग्रस्त हो जाने पर मारे गए थे। अंतरिक्ष यात्रा में मरने वाले वे दुनिया के पहले व्यक्ति थे।
77. अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर अंतरिक्ष यात्री लगभग 15 सूर्योदय और 15 सूर्यास्त को हर रोज़ देखते हैं।
78. अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन कभी भी बनाया गया सबसे महंगी वस्तु है, 150 बिलियन अमरीकी डॉलर में।
79. अंतरिक्ष यात्री को सोने के लिए काफी मेहनत करनी होती है। उन्हें आंखों पर पट्टी बांध कर एक बंकर में सोना होता है ताकि वह तैरने और इधर-उधर टकाराने से बच सके।
80. अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर, मूत्र एक विशेष जल उपचार संयंत्र से गुजरता है जो इसे पीने के पानी में बदल देता है।
81. Astronauts” शब्द अमेरिका से आया हैं। जबकि रूस में अंतरिक्ष खोजकर्ता को “cosmonauts” कहा जाता है।
82. The Great Wall Of China‘ अंतरिक्ष से देखने पर नजर नही आती क्योकीं चीन में वायु प्रदूषण बहुत ज्यादा हैं।
83. अंतरिक्ष में पहली मानव निर्मित वस्तु जर्मन वी 2 रॉकेट थी।
84. स्पेससूट में सीटी बजाना असंभव है।
85. 10 अगस्त 2015 को, नासा के अंतरिक्ष यात्री ने खाना खाया जो पहली बार अंतरिक्ष में उगाया गया था।
86. नासा ने 3,200 ग्रहों की खोज की है, सभी की 99% निश्चितता के साथ पुष्टि की है।
87. लाइका नामक कुत्ते ने 13 नवंबर 1957 को स्पूतनिक 2nd यान में बैठकर धरती का चक्कर लगाया था। हालांकि वह पृथ्वी पर जीवित वापस नहीं आ पाई थी।
88. अमेरिका को अंतरिक्ष में पहला इंसान भेजने में कामयाबी 20 फरवरी, 1962 को मिली। अंतरिक्ष में पहले अमेरिकी जॉन ग्लेन ने बाद में, 1996 में 77 वर्ष की उम्र में स्पेस शटल डिस्कवरी पर जाकर सबसे बुजुर्ग अंतरिक्ष यात्री होने का रिकॉर्ड बनाया।
89. यदि आप स्पेस में बिना किसी सुरक्षा उपकरण के जाएंगे तो आपका शरीर फट जाएगा क्योंकि वहां पर हवा का दवाब नहीं है।
90. स्पेस में गुरुत्वाकर्षण न होने के कारण स्पेस यात्री भोजन पर नमक या मिर्च नहीं छिड़क सकते है। वे भोजन भी द्रव्य के रूप में लेते है, ऐसा इसलिए है क्योकीं सूखे भोजन हवा में तैरने लगेगें और इधर उधर टकराने के साथ ही स्पेस यात्री की आंख में भी घुस जाएगा।
91. सन् 1963 में अमेरिका ने अंतरिक्ष में एक हाइड्रोजन बम फेंका था जो कि हिरोशिमा में फेंके बम की अपेक्षा 100 गुणा ज्यादा शक्तिशाली था।
92. 1977 में गहरे अंतरिक्ष से 72 सेकेंड का सिग्नल प्राप्त हुआ था, पर अब तक यह पता नहीं लग पाया कि यह सिग्नल किसने भेजा था।
93. जितना पानी पृथ्वी के सभी महासागरों में उससे 140 ट्रिलियन अधिक पानी का जलाशय अंतरिक्ष में तैरता रहता है।
94. नासा ने अब अंतरिक्ष में अंतरिक्ष यात्रियों के लिए प्रिंटिड 3डी पिज़्ज़ा बनाने की भी तैयारी कर ली है।
95. कॉकरोज पृथ्वी की तुलना में अंतरिक्ष में ज्यादा तेजी से बड़े होते हैं।
96. इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन का आकार एक फुटबाॅल मैदान के जितना है।
97. अंतरिक्ष में अगर धातु के दो टुकड़े आपस में एक-दुसरे को छुए तो वो आपस में स्थायी रूप से जुड़ जाते है.
98. अंतरिक्ष में आपकी आवाज को एक स्थान से दुसरे स्थान तक पहुचाने का कोई माध्यम नहीं हैं। इसलिए  आप किसी के सामने खड़े रहकर भी तेज चिल्लाएंगे तो भी वह आपकी आवाज नहीं सुन पायेगा।
99. फ़रवरी 2006 से नासा का लक्ष्य वाक्य “भविष्य में अंतरिक्ष अन्वेषण, वैज्ञानिक खोज और एरोनॉटिक्स संशोधन को बढ़ाना” है।
100. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन, (संक्षेप में- ISRO) (अंग्रेज़ी: Indian Space Research Organisation, ISRO) भारत का राष्ट्रीय अंतरिक्ष संस्थान है जिसका मुख्यालय बेंगलूर में है।

आप अपने विचार और सवाल नीचे कमेंट में व्यक्त कर सकते हैं।

About the author

शुभम खरे

1 Comment

Click here to post a comment

  • Aisa Kya kaaran hai ki sabhi planets only sum ke chaaron or ghoomte Hain? Ye sabhi planets earth ke chaaron or Kyu nahi ghoomte?

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!

Want to work with us? Looking to share some feedback or suggestion? Have a business opportunity to discuss?

You can reach out to us at [email protected]