दा इंडियन वायर » विज्ञान » ब्लैक होल थ्योरी क्या है? जानकारी, प्रकार
विज्ञान

ब्लैक होल थ्योरी क्या है? जानकारी, प्रकार

ब्लैक होल black hole in hindi

ब्लैक होल क्या हैं (what is black hole in hindi)

ब्लैक होल ब्रह्माण्ड के सबसे रहस्यमयी, घातक और ताकतवर शक्तियों में से एक माना जाता है। एक ऐसा सतह जहाँ गुरुत्वाकर्षण बल इतना मजबूत हो जाता है कि वहां से किसी भी चीज का (यहाँ तक कि प्रकाश का भी) बाहर निकलना नामुमकिन हो जाये, उसे ब्लैक होल का नाम दिया गया है।

इसका सतह इतना सघन एवं घना होता है, कि उसमें कोई भी चीज जैसे कोई तारा या ग्रह उसमें जाके गुम हो जाते हैं। कुछ ब्लैक होल अपने धुरी पर घूमते हुए पाए गए हैं, जबकि कुछ नहीं घूमते।

ब्लैक होल कैसे बनते हैं? (how do black hole form in hindi)

सामान्य सापेक्षता के सिद्धांत यह कहते हैं कि कोई भी सघन भार के वस्तु स्पेस टाइम को नष्ट करके ब्लैक होल में परिवर्तित हो जाते हैं। उस क्षेत्र कि सीमा जहाँ से बाहर निकलना असंभव है, उसे इवेंट होराइजन कहा जाता है।

अगर इस जगह से कोई वस्तु निकलती है, उस वस्तु की विशेषताओं पर इस जगह पर अच्छा खासा असर पड़ता है, इनके स्थान का पता लगाना मुश्किल है।

ब्लैक होल की चुम्बकीय शक्ति इतनी मजबूत है कि इसके पास जो भी जाता है, उसके अंदर खींचा चला जाता है। ये एक तारामंडल के समूह को भी निगल जाने में सक्षम हैं। कोई भी ऐसी चीज नहीं है जो ब्लैक होल के गति से बच सके।

क्या ब्लैक होल दिखाई देते हैं? (are black hole visible in hindi)

ब्लैक होल पूरी तरह से अदृश्य होते हैं। प्रकाश जिनकी  गति पूरे ब्रह्माण्ड में सबसे तेज है, वे भी इनके प्रकोप से नहीं बच पाते। इस कारणवश हम ब्लैक होल को नहीं देख सकते हैं क्योंकि वे प्रकाश को प्रतिबिंबित करने में अक्षम हैं। खगोल वैज्ञानिक भी उनके बारे में तभी जान पाते हैं जब कोई वस्तु या प्रकाश किसी ब्लैक होल के आस पास होती हैं जिसके कारण उनमें अजीब प्रकार की हलचल होने लगती है।

ब्लैक होल के प्रकार (types of black hole in hindi)

भार के हिसाब से ये तीन प्रकार के होते हैं:

1. सुपरमैसिव ब्लैक होल (super-massive black hole in hindi)

तीनों प्रकारों में से ये विशालमय हैं। ये कई मिलियन सूर्य की शक्ति के बराबर होते हैं। हमारी आकाश गंगा जिसको मिल्की वे कहा जाता है उसके बीच भाग में इस प्रकार का ब्लैक होल मौजूद है जिसे वैज्ञानिकों ने Sagittarius A* का नाम दिया है।

क्योंकि इस प्रकार के ब्लैक होल आकाश गंगा के बीचों बीच पाए जाते हैं, जहाँ बहुत सारे तारों का झुण्ड एवं गैस के बादल होते हैं, इस कारण सुपरमैसिव ब्लैक होल हमेशा बढ़ते रहते हैं।

2. स्टेलर ब्लैक होल (stellar black hole in hindi)

ये सामान्य रूप से पाए जाने वाले ब्लैक होल हैं  जिनका भार सूर्य से लगभग  20 गुना ज्यादा रहता है। ये तब बनते हैं जब कोई बहुत बड़ा तारा टूट जाता है। इस प्रक्रिया को सुपरनोवा कहा जाता है।

3. मिनिएचर ब्लैक होल (miniature black hole in hindi)

इस प्रकार के ब्लैक होल की आजतक खोज नहीं हुई है। वैज्ञानिक ऐसा कहते हैं कि जब हमारा ब्रह्माण्ड बन रहा था तो इस प्रकार के ब्लैक होल उपस्थित हुआ करते थे। आज से 10 से 20 बिलियन वर्ष पहले सब पदार्थ एवं ऊर्जा एक बिंदु में परिवर्तित हो रहे थे। जब उस बिंदु से एक विस्फोट हुआ तो उस प्रक्रिया को बिग बंग थ्योरी कहा गया जोकि बढ़ता रहा। इसके कुछ अंश प्रेशर के कारण एक साथ मिलकर मिनिएचर ब्लैक होल बन गए।

ब्लैक होल को लेके ऐसा कहा जाता है कि इसके मदद से एक दिन टाइम ट्रेवल कि प्रक्रिया संभव हो सकेगी। उदहारण के लिए अगर कोई अंतरिक्ष यात्री ब्लैक होल में टाइम ट्रेवल के लिए गया, तो जब वह पृथ्वी पर अपनी इस छोटी यात्रा के बाद जब वापिस आएगा तो कई दशक या फिर कई सदी बीत चुके होंगे। इससे यह भी पता चल सकेगा कि भविष्य में सब चीजें कैसी होंगी।

ब्लैक होल विडियो (black hole video in hindi)

आप अपने सवाल एवं सुझाव नीचे कमेंट बॉक्स में व्यक्त कर सकते हैं।

About the author

गरिमा गुंजन

Content Writer

7 Comments

Click here to post a comment

  • black hole ki khoj kisne ki thi? please iske baare mein likhe? iska alava baaki jankari bahut acchi hai.

  • agar hum black hole ke aaspaas jaayenge to vah hamen andar kheench lega to uske andar jaane ke baad kyaa hogaa?

    • Hum uske ander nuhi jayege but hum ek putli tar ki turuh khich ne lugege or fir humare sare particals bikhur jayege or humara mass bhi black holl ke mass ke sath mix ho jayega

  • Agar El stellar black hole sun see bada hota hai to Kya vah sun ko apne andar attract kar sakta hai? Kya ye possible hai?

    • haan, aap kar sakte hain. video ke description mein aap is post ka link de sakte ho.




फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!