दा इंडियन वायर » धर्म » Page 3

Category - धर्म

धर्म

भजन: हे दुःख भंजन, मारुती नंदन

हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन, सुन लो मेरी पुकार । पवनसुत विनती बारम्बार ॥ अष्ट सिद्धि, नव निद्दी के दाता, दुखिओं के तुम भाग्यविदाता । सियाराम के काज सवारे, मेरा...

धर्म

संकट मोचन हनुमानाष्टक

बाल समय रवि भक्षि लियो तब तीनहुं लोक भयो अंधियारों ताहि सो त्रास भयो जग को यह संकट काहु सों जात न टारो (देवन आनि करी विनती तब) (छाड़ि दियो रवि कष्ट निवारो) को...

धर्म

आरती: माँ सरस्वती जी

ॐ जय सरस्वती माता, जय जय सरस्वती माता सदगुण वैभव शालिनी, सदगुण वैभव शालिनी त्रिभुवन विख्याता, जय जय सरस्वती माता ॐ जय सरस्वती माता, जय जय सरस्वती माता सदगुण...

धर्म

भजन: शिव शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धार हुआ

शिव शंकर को जिसने पूजा, उसका ही उद्धार हुआ । अंत काल को भवसागर में, उसका बेडा पार हुआ ॥ भोले शंकर की पूजा करो, ध्यान चरणों में इसके धरो । हर हर महादेव शिव...

धर्म

भजन: माँ शारदे वंदना, हे शारदे माँ

हे शारदे माँ, हे शारदे माँ अज्ञानता से हमें तार दे माँ । हे शारदे माँ, हे शारदे माँ अज्ञानता से हमें तार दे माँ । तू स्वर की देवी, ये संगीत तुझसे, हर शब्द तेरा...

धर्म

वैष्णव जनातो

वैष्णव जन तो हिन्दू भजन है, जिसे 15 वीं शताब्दी में गुजराती भाषा में कवि नरसिंह मेहता ने लिखा था। कविता एक वैष्णव जन (वैष्णववाद का अनुयायी) के जीवन, आदर्श और...

धर्म

शिव तांडव

शिव तांडव (Shiv Tandav) जटाटवीगलज्जल प्रवाहपावितस्थले गलेऽवलम्ब्य लम्बितां भुजंगतुंगमालिकाम्‌। डमड्डमड्डमड्डमनिनादवड्डमर्वयं चकार चंडतांडवं तनोतु नः शिवः शिवम...

धर्म

मधुराष्टकम्

मधुराष्टकं में श्रीकृष्ण के बालरूप को मधुरता से माधुरतम रूप का वर्णन किया गया है। श्रीकृष्ण के प्रत्येक अंग, गतिविधि एवं क्रिया-कलाप मधुर है, और उनके संयोग से...

धर्म

श्री राम रक्षा स्तोत्रम्

विनियोग: अस्य श्रीरामरक्षास्त्रोतमन्त्रस्य बुधकौशिक ऋषिः । श्री सीतारामचंद्रो देवता । अनुष्टुप छंदः। सीता शक्तिः । श्रीमान हनुमान कीलकम । श्री...

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!