Sun. Jul 21st, 2024
    INDvsNZ Semifinal 2023

    ICC ODI Cricket World Cup 2023 का पहले सेमीफाइनल मुक़ाबले (INDvsNZ) में रोहित शर्मा की अगुवाई वाली भारत की टीम मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में टूर्नामेंट के लीग सचरण की चौथे नंबर की टीम न्यूज़ीलैंड के सामने जब उतरेगी तो भारत के पास पिछले विश्वकप का बदला चुकाने के सुनहरा मौका होगा।

    इस बहुप्रतीक्षित मुक़ाबले के लिए दोनों टीम मुम्बई पहुँच चुकी है और सबको बेसब्री से कल के मुक़ाबले का इंतजार है। भारत बनाम न्यूजीलैंड (INDvsNZ) के इस मुक़ाबले में जो भी टीम जीतेगी वह 19 नवंबर को अहमदाबाद में फाइनल खेलेगी जहाँ उसका मुकाबला 16 नवंबर को कोलकाता में ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के बीच खेले जाने वाले दूसरे सेमीफाइनल के विजेता टीम से होगा।

    INDvsNZ Semifinal: पिछले विश्व कप के सेमीफाइनल में भी भिड़ीं थीं दोनों टीमें

    INDvsNZ Semifinal 2019
    इंग्लैंड में खेले गए 2019 विश्वकप में सेमीफाइनल भारत को न्यूजीलैंड के हाँथो शिकस्त झेलनी पड़ी थी। महेंद्र सिंह धोनी के रनआउट होने पर तब पूरे भारत का दिल टूटा था। (Image Source: ICC Cricket World Cup)

    इंग्लैंड में खेले गए 2019 विश्वकप में भी भारत और न्यूजीलैंड की टीम सेमीफाइनल में आमने सामने थीं। तब भारत की टीम को न्यूजीलैंड के हाँथो शिकस्त झेलनी पड़ी थी और भारत का सफ़र उस विश्वकप में वहीं थम गया था।

    बारिश से बाधित इस मुक़ाबले में न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाजों ने भारत को रोहित, राहुल और कोहली के रूप में शुरुआती झटके देकर सनसनी मचा दी थी। फिर महेंद्र सिंह धोनी का रन आउट होना पूरे भारत का दिल तोड़ दिया था। यह दृश्य शायद ही कोई भारतीय क्रिकेट प्रेमी भूल पाया होगा।

    इस बार रोहित शर्मा की कप्तानी में भारतीय टीम का मिज़ाज थोड़ा बदला-बदला सा है। टीम के भीतर एकदम बेहतरीन माहौल है। सभी खिलाडियों को अपना किरदार बखूबी मालूम है। लीग मुक़ाबले में अपने 09 के 09 मैच जीतकर टीम प्रचंड लय में भी नज़र आ रही है। लीग स्टेज में पहले एक बार न्यूजीलैंड को हरा भी चुकी है।

    इसे देखते हुए यह कहा जा सकता है इस बार भारत के पास एक बेहतरीन मौका है कि वह न्यूजीलैंड को हराकर अपना हिसाब चुकता करे और फाइनल में कदम बढ़ाए।

    INDvsNZ Semifinal: भारतीय टीम पर होगा अतिरिक्त दवाब

    Mood in Team Ind
    (Image Source: Google/ Hindustan Times)

    भारतीय टीम पूरे टूर्नामेंट में अजेय रही है और टीम ने हर वह दमखम दिखाया है जो एक चैंपियन टीम के भीतर देखने की चाहत होती है।  परंतु इसके यह कतई मतलब नही है कि न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल का मुकाबला भारत के लिए आसान होने वाला है।

    भारत आखिरी बार 2011 में अपने ही घर पर महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में चैंपियन बना था। तब से लेकर आज तक पिछले 12 सालों में हुए 3 एकदिवसीय विश्वकप में भारत सेमीफाइनल में पहुंचा है। 2015 के सेमीफाइनल में भारत में को ऑस्ट्रेलिया ने हराकर बाहर का रास्ता दिखाया था तो वहीं 2019 में इसी न्यूजीलैंड के हाँथों करारी शिकस्त मिली थी।

    बीते एक दशक में  एकदिवसीय क्रिकेट ही नहीं, अन्य ICC टूर्नामेंट जैसे T20 विश्वकप, चैंपियंस ट्रॉफी, या टेस्ट चैंपियनशिप आदि में भारत का नॉक-आउट मुकाबलों में हारकर बाहर होने का रिकॉर्ड रहा है।

    इस बार सेमीफाइनल (INDvsNZ) में भारत के सामने वही न्यूजीलैंड की टीम है जिसने 2019 के विश्वकप सेमीफाइनल और टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में भारत की टीम को हरा चुकी है।

    ICC के सिमित ओवरों वाले टूर्नामेंट में भारत के सामने न्यूजीलैंड का पलड़ा भरी रहा है। कुल १४ मुक़ाबलों में भारत को 09 में हार का सामना करना पड़ा है। नॉक-आउट मुक़ाबलों में भारत ने कभी भी न्यूजीलैंड को नहीं हराया है

    इन तमाम पहलुओं को मद्देनजर रखते हुए यह कहना कतई गलत नहीं होगा कि भारत पर न्यूजीलैंड के सामने खेलने को लेकर एक अतिरिक्त दवाब तो होगा; और यह मुकाबला इतना आसान नही होने वाला है।

    इतिहास, दवाब…. सब के बावजूद भारतीय टीम है जीत का प्रबल दावेदार

    INDvsNZ Semifinal Preparations
    Virat and Rohit are among the top performing batters in this World Cup. (Image Source: Google/ ICC Cricket World Cup)

    यह सच है कि जब वानखेड़े के मैदान में न्यूजीलैंड के ख़िलाफ़ भारत की टीम सेमीफाइनल (INDvsNZ semifinal) मुकाबले उतरेगी तो नॉक आउट मुक़ाबलों में पिछले एक दशक के रिकॉर्ड भारतीय टीम को मुँह चिढ़ा रही होगी। पिछ्ले विश्व कप के सेमीफाइनल की यादें भी दिमाग मे एक अलग दवाब पैदा करेगा। लेकिन इन सबके बावजूद इस मुकाबले में भारतीय टीम का पलड़ा भारी होगा।

    इसके पीछे कई वजहें हैं। एक तो इस वक़्त पर रोहित शर्मा (Rohit Sharma) के अगुवाई में टीम के भीतर जबरदस्त माहौल है। खिलाड़ी एक दूसरे की सफलता का लुत्फ़ उठा रहे हैं।

    बल्लेबाजी में पहली गेंद से ही कप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) विपक्षी गेंदबाजों पर अब तक ऐसा दवाब बनाते रहे हैं कि मध्यक्रम में आने वाले बल्लेबाज़ों का काम आसान रह जाता है। उनका बेख़ौफ़ अंदाज़ अभी तक तमाम मुक़ाबलों में पहले पावर प्ले में ही खेल को भारत के पक्ष में मोड़ दे रहा है।

    उनके जोड़ीदार शुभमन गिल ने भी पिछले मुक़ाबले में अर्धशतक जमाकर फॉर्म में वापसी के संकेत दे दिए हैं। स्टार बल्लेबाज विराट कोहली (Virat Kohli) इस वक़्त टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज़ों की सूची में शीर्ष पर काबिज़ हैं।

    श्रेयस अय्यर और के एल राहुल ने अपने बल्ले से लगातार जलवा बिखेरा है और मध्यक्रम में भारत के रीढ़ की हड्डी बनकर उभरे हैं। हार्दिक की अनुपस्थिति में टीम में जगह बनाने वाले सूर्यकुमार यादव को ज्यादा मौका ही नहीं मिला है लेकिन जब मौके मिले हैं तो उन्होंने भी एक अर्धशतक सहित कई उम्दा पारियां खेली हैं।

    ऑल राउंडर रविंद्र जडेजा ने कई मौकों पर बल्ले से भी लाजवाब पारियां खेली हैं। गेंदबाजी में भी उनकी और कुलदीप यादव की स्पिन जोड़ी ने पूरे टूर्नामेंट में बलेबाज़ों को नचाकर रखा है।

    इसके बाद इस वक़्त पर भारत के पास बुमराह, शमी और सिराज के रूप में तेज गेंदबाजों की वह तिकड़ी है जो शायद भारतीय क्रिकेट के इतिहास की सबसे बेहतरीन तेज गेंदबाजी इकाई है। इन तीनो ने अपने गेंदबाजी से ऐसा जलवा दिखाया है कि जिसकी तारीफ़ करते करते दुनिया के सबसे बेहतरीन तेज गेंदबाजों में से एक वसीम अकरम भी नहीं थक रहे हैं।

    कुल मिलाकर पूरी टीम इस समय फॉर्म में है और एकजुट होकर खेल रही है। ऐसे में इस भारतीय टीम को हराना न्यूजीलैंड के लिए भी कोई आसान काम नहीं होने वाला है। सोने पर सुहागा यह कि यह  सेमीफाइनल मुकाबला मुम्बई के वानखेड़े मैदान पर खेला जाना है जो भारतीय कप्तान रोहित शर्मा और श्रेयस अय्यर का घरेलू मैदान है।

    इस मैदान के आवो-हवा से कप्तान रोहित के अलावे भारतीय गेंदबाजी इकाई के मुखिया जसप्रीत बुमराह (Jaspreet Bumrah) भी भली भांति परिचित हैं। आईपीएल में मुम्बई इंडियंस के लिए दोनों ही एक साथ खेलते हैं और साथ मे दोनों ने आईपीएल के कई खिताबी मुकाबला भी जीता हुआ है। जाहिर है, दवाब में मैच कैसे जीतना है, यह इन दोनों खिलाड़ियों को बखूबी आता है।

    देश भर से दुआएं और प्रार्थनाएं टीम के साथ

    यह अक्सर कहा जाता है कि भारत क्रिकेट महज़ एक खेल नहीं बल्कि धर्म है। लोगों की भावनाएं ऐसे ही जुड़ी होती है जैसे उनके अपने धर्म के प्रति आस्था। यही वजह है कि जब-जब भारतीय टीम किसी ऐसे महामुकाबला खेलने उतरती है तो देश के हर हिस्से से दुआ और प्रार्थनाएं की जाती है।

    भारत की जीत की कामना करने वाले क्रिकेट-प्रेमियों द्वारा कहीं हवन कहीं जाप तो कहीं किसी दरगाह पर चादरें चढ़ाने की खबरें अक्सर आती हैं। जाहिर है, भारत बनाम न्यूजीलैंड (INDvsNZ Semifinal) मुक़ाबले के लिए भी देश भर में ऐसी तैयारियां हो रही है।

    कुल-मिलाकर देखें तो ICC एकदिवसीय क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023 के प्रथम सेमीफइनल (INDvsNZ Semifinal) का मुकाबला दो टक्कर की टीमों के बीच खेला जा रहा है। न्यूजीलैंड को अपनी क्षमता से बेहतर  प्रदर्शन करना होगा तभी वे इस भारतीय टीम को उसी के घरेलू मैदान पर टक्कर दे पाएगी। हालांकि न्यूजीलैंड की टीम यह करने में माहिर है, इसे लेकर कोई शक शायद ही किसी को हो।

    वहीं भारत को “लॉ ऑफ एवरेज” से थोड़ा संभलकर खेलना होगा जिसके अनुसार यह कहा जाता है कि किसी का हमेशा अच्छा वक्त नही रह सकता। भारत अभी तक पूरे टूर्नामेंट में बेहतरीन खेल दिखाया है इसीलिए “लॉ ऑफ एवरेज (Law of Average)” वाला अनजान डर सबको सता रहा है।

    भारत अगर अपनी पूरी क्षमता से और थोड़ा संभलकर खेले तो यह मुकाबला उसके झोली में है। इस वक़्त पर जिस स्तर का क्रिकेट रोहित शर्मा (Rohit Sharma) की टीम खेल रही है, यह बहुत आश्चर्य की बात होगी अगर वह इस विश्वकप का विजेता न बने।

    By Saurav Sangam

    | For me, Writing is a Passion more than the Profession! | | Crazy Traveler; It Gives me a chance to interact New People, New Ideas, New Culture, New Experience and New Memories! ||सैर कर दुनिया की ग़ाफ़िल ज़िंदगानी फिर कहाँ; | ||ज़िंदगी गर कुछ रही तो ये जवानी फिर कहाँ !||

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *