Sat. Oct 1st, 2022

    Author: हिमांशु पांडेय

    हिमांशु पाण्डेय दा इंडियन वायर के हिंदी संस्करण पर राजनीति संपादक की भूमिका में कार्यरत है। भारत की राजनीति के केंद्र बिंदु माने जाने वाले उत्तर प्रदेश से ताल्लुक रखने वाले हिमांशु भारत की राजनीतिक उठापटक से पूर्णतया वाकिफ है।मैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्नातक करने के बाद, राजनीति और लेखन में उनके रुझान ने उन्हें पत्रकारिता की तरफ आकर्षित किया। हिमांशु दा इंडियन वायर के माध्यम से ताजातरीन राजनीतिक और सामाजिक मुद्दों पर अपने विचारों को आम जन तक पहुंचाते हैं।

    गुजरात में गरमाई सियासत : भाजपा को भारी पड़ सकती है नितिन पटेल की नाराजगी

    नितिन पटेल ने उन दावों को भी सिरे से खारिज कर दिया जिनमें कहा जा रहा था कि वह राज्य का मुख्यमंत्री ना बनाए जाने से नाराज हैं। नितिन पटेल…

    आप में मंथन जारी : क्या केजरीवाल का ‘विश्वास’ जीत पाएंगे कुमार?

    बीते कुछ समय में देशभर में आप की लोकप्रियता में गिरावट आई है और कुमार विश्वास पार्टी की कार्यशैली और लचर प्रबंधन को इसका जिम्मेदार ठहरा चुके हैं। 2019 में…

    मोदी सरकार के लिए बड़ी चुनौती होगा तीन तलाक बिल को राज्यसभा में पास कराना

    पिछले कुछ वक्त से एनसीपी का झुकाव भाजपा की ओर बढ़ता हुआ दिख रहा है और ऐसे में बिल पारित कराने में सरकार को समर्थन दे सकती है। हालाँकि इसके…

    राज्यसभा चुनाव को लेकर आप में खींचतान जारी, डटे कुमार विश्वास समर्थक

    कुमार विश्वास की सियासी समझ और प्रभावी भाषा शैली राज्यसभा चुनावों के लिए उन्हें एक योग्य उम्मीदवार बनाती है। ऐसे में केजरीवाल खेमा कुमार विश्वास की दावेदारी को धूमिल करने…

    तीन तलाक बिल पर मोदी सरकार ने ठुकराया कांग्रेस का सुझाव

    लोकसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने तीन तलाक बिल पर सरकार को समर्थन देने की बात कही। कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इस पर उन्हें धन्यवाद कहा। हालाँकि…

    अजमेर लोकसभा उपचुनाव : कुमार विश्वास की उम्मीदवारी की अटकलों से ‘आप’ में घमासान

    कुमार विश्वास कई बार यह जता चुके हैं कि आम आदमी पार्टी में उन्हें दरकिनार किया जा रहा है और सक्रिय राजनीति में उनकी भूमिका ना के बराबर हो गई…

    शिमला-हमीरपुर हुए बीती बात, हिमाचल प्रदेश की सियासत का नया केंद्र बना मण्डी

    जयराम ठाकुर एक निम्न मध्यम वर्ग के परिवार से आते हैं लिहाजा एक बड़े तबके का उनसे भावनात्मक जुड़ाव भी है। यह सभी बिंदु बतौर मुख्यमंत्री उनकी जनता में स्वीकार्यता…

    क्या राहुल गाँधी की सियासी राह आसान बनाएँगे गुजरात चुनाव परिणाम?

    शंकर सिंह वाघेला की बगावत के बाद गुजरात कांग्रेस बिखर सी गई थी जो अगले 5 महीनों में पुनः पुनर्जीवित हो उठी थी। भाजपा ने अपने चुनाव प्रचार में सभी…

    जयराम ठाकुर का सियासी सफरनामा : छात्रनेता से हिमाचल प्रदेश के मुखिया तक

    भाजपा आलाकमान ने हिमाचल प्रदेश के सियासी समीकरण को देखते हुए एक योग्य और कर्मठ मुख्यमंत्री का चुनाव किया है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को जयराम…

    विजय रुपाणी का सियासी सफरनामा : एबीवीपी कार्यकर्ता से गुजरात के मुख्यमंत्री तक

    भाजपा अब अपना हर कदम 2019 लोकसभा चुनावों को ध्यान में रखकर उठा रही है और विजय रुपाणी को मुख्यमंत्री बनाना भी इसी रणनीति का हिस्सा है। अब यह देखना…