दा इंडियन वायर » खानपान » ज़्यादा कॉफ़ी पीने के 8 बड़े नुकसान
खानपान

ज़्यादा कॉफ़ी पीने के 8 बड़े नुकसान

ज्यादा कॉफ़ी नुकसान

कॉफ़ी और चाय को दुनिया के उच्चतम पेय में शामिल किया गया है। इनमें से अधिकतम में कैफीन अधिक मात्रा में पाया जाता जो शरीर का मेटाबोलिज्म बढ़ाने के साथ ही मानसिक और शारीरिक योग्यता बढ़ाता है। लेकिन यह पाया गया है कि कैफीन न्यूनतम से माध्यम मात्रा में ही उचित होता है। यदि कैफीन की अधिक मात्रा ग्रहण की जाये तो शरीर के लिए हानिकारक होती है। इसके स्वास्थ्य पर खतरनाक प्रभाव हो सकते हैं।

शोध के अनुसार लोगों की कैफीन झेलने की क्षमता उनके जीन पर निर्भर करती है। इसी कारण कुछ लोग दूसरों की तुलना में ज़्यादा कैफीन का सेवन करने के काबिल होते हैं तो वहीं कुछ लोगों को बहुत जल्दी नकारात्मक असर होता है।

ऐसे व्यक्ति जिनमें कम कैफीन झेलने की क्षमता होती है उनको इसके मध्यम सेवन से ही नकारात्मक लक्षण देखने को मिलते हैं।

कैफीन के 9 मुख्य प्रभाव निम्न हैं:

1. चिंता

कैफीन सतर्कता बढ़ाने के लिए जाना जाता है। ये “फाइट और फ्लाइट” हॉर्मोन रिलीज़ करके शरीर में ऊर्जा ला देता है।

भारी मात्रा में कैफीन का सेवन करने से चिंता और घबराहट बढ़ता है। डायग्नोस्टिक और स्टैटिस्टिकल मैन्युअल ऑफ़ मेन्टल डिसऑर्डर्स के अनुसार कैफीन इंदुसेड एंग्जायटी डिसऑर्डर चार कैफीन सिंड्रोम में से एक हैं। कैफीन सेंसिटिव लोगों को मध्यम मात्रा में खाने पर और बाकि लोगों को अधिक मात्रा में कैफीन लेने पर घबराहट और चिंता जैसे लक्षण होते हैं।

दिलचस्प बात तो यह है कि चिंता का स्तर ज़्यादा कैफीन लेने वालों और कम कैफीन लेने वालों में अलग नही होता है। यदि आपको कभी ज़्यादा घबराहट महसूस हो तो हमेशा एक बार अपनी कैफीन की मात्रा को जांच लें।

2. अनिद्रा

कैफीन की लोगों को जागरूक रखने की क्षमता बहुत ही महत्त्वपूर्ण होती है। वहीं ज़्यादा कैफीन लेने वालों को कम नींद की परेशानी हो जाती है। यदि आप अपनी कैफीन की मात्रा पर नियंत्रण नही रख रहे हैं तो आप अपनी नींद के साथ समझौता कर रहे हैं। चाय और कॉफ़ी के अलावा कैफीन सोडा, कोको, एनर्जी ड्रिंक्स जैसी चीजों में भी पाया जाता है। कैफीन किस हद्द तक शरीर पर असर करेगा ये इंसान के जीन और दूसरी चीजों पर निर्भर करता है।

यह बहुत ही ज़रूरी है कि हम याद रखें कि बेशक कैफीन हमें दिन में जगाये रखता है लेकिन ये हमारी रात की नींद पर बहुत ही बुरा प्रभाव डालता है।

3. पाचन समस्याएं

अक्सर लोगों को सुबह उठते साथ ही कॉफी पीने की आदत रहती है। यह आदत अक्सर लोगों को अपनी पेट की समस्याएं के कारण डालनी पड़ती है। कैफीन पेरिस्तालसिस बढाकर बोवेल मूवमेंट को नियंत्रित करता है जो पाचन तंत्र के माध्यम से भोजन को स्थानांतरित करता है।

कैफीन के अधिक सेवन से पेट का संतुलन बिगड़ सकता है और लोगों में डायरिया जैसी बीमारियां भी हो सकती हैं। आवश्यक ये है कि लोग अपनी कॉफ़ी की आदत को बदलकर चाय या की अन्य पेय का सेवन करें यदि इस आदत का उन पर गलत प्रभाव पड़ रहा है तो।

4. मांसपेशी में खिंचाव

रबडोमायोलिसिस एक बहुत ही गंभीर स्थिति है जिसमें क्षतिग्रस्त मांसपेशियों के फाइबर रक्तप्रवाह में प्रवेश करते हैं, जो गुर्दे की विफलता और अन्य समस्याओं का कारण बनता है।

रबदोमायोलिसिस के मुख्य कारण आघात, संक्रमण, नशीली दवाओं का दुरुपयोग, मांसपेशियों में तनाव और जहरीले सांप या कीड़ों का काटना जैसी चीजें शामिल हैं।

इसके अतिरिक्त अत्यधिक कैफीन सेवन से संबंधित रफ़ोडोलाइसिस की कई रिपोर्टें हुई हैं, हालांकि यह अपेक्षाकृत दुर्लभ है। इसका उचित उपाय बस यही है कि अपनी कैफीन की मात्रा को नियंत्रित किया जाये और यदि मास्पेशियों में किसी भी प्रकार की कोई समस्या है तो उसका सेवन तुरंत बंद किया जाये।

5. एडिक्शन

कैफीन के अनेकों फायदों के बाद भी इसमें कोई शक नहीं है कि यह लोगों के अंदर एक लत के सामान बन जाती है। एक विस्तृत समीक्षा से यह पता चलता है कि कैफीन कुछ मस्तिष्क रसायनों को कोकीन और एम्फ़ैटेमिन के समान ही चलाता है, लेकिन यह इन दवाओं की तरह क्लासिक लत का कारण नही है।

हालांकि, इससे मनोवैज्ञानिक या शारीरिक निर्भरता हो सकती है, खासकर उच्च मात्रा में लिए जाने पर।

एक अध्ययन में, कैफीन के बिना रातोंरात जाने के बाद सामान्य रूप से उच्च, मध्यम या कैफीन का सेवन करने वाले 16 लोगों ने एक शब्द परीक्षण में भाग लिया। केवल उच्च कैफीन उपयोगकर्ताओं ने कैफीन से संबंधित शब्दों के लिए एक पूर्वाग्रह दिखाया। इसके अतिरिक्त, कैफीन सेवन की आवृत्ति निर्भरता में भूमिका निभाती है।

दूसरे अध्ययन में, 213 कैफीन उपभोक्ताओं ने इसे उपभोग किए बिना 16 घंटे जाने के बाद प्रश्नावलीएं पूरी की। गैर-दैनिक उपयोगकर्ताओं की तुलना में दैनिक उपयोगकर्ताओं के सिरदर्द, थकान और अन्य निकासी लक्षणों में अधिक वृद्धि हुई थी।

हालांकि, कैफीन लोगों में बुरी लत नहीं बनता है, लेकिन यदि आप नियमित रूप से इसका सेवन कर रहे हैं तो हो सकता है कि आप इसके प्रभावों पर निर्भर हो जाएं।

6. हाई ब्लड प्रेशर

यह नर्वस सिस्टम पर इसके उत्तेजक प्रभाव के कारण कई अध्ययनों में रक्तचाप बढ़ाने के लिए दिखाया गया है

उच्च रक्तचाप दिल का दौरा और स्ट्रोक के लिए एक जोखिम कारक है क्योंकि यह समय के साथ धमनियों को नुकसान पहुंचा सकता है, रक्त के प्रवाह को अपने हृदय और मस्तिष्क तक सीमित कर सकता है।

सौभाग्य से, रक्तचाप पर कैफीन का प्रभाव अस्थायी लगता है। इसके अलावा, ऐसा लगता है कि उन लोगों पर सबसे अधिक प्रभाव पड़ता है जो इसे उपभोग करने के लिए इस्तेमाल नहीं करते हैं।

ब्लड प्रेशर की परेशानी होने वाले लोगों को अपने कैफीन लेने के समय का ध्यान रखना चाहिए।

7. रैपिड हार्ट रेट

उच्च कैफीन सेवन के उत्तेजक प्रभावों से आपका दिल तेजी से दौड़ता है

इससे एर्थियल फ़िबिलीशन नामक बदलती दिल की धड़कन वाली ताल भी हो सकती है, जो कि युवा लोगों में दर्ज की गई है जो कैफीन की अत्यधिक उच्च खुराक वाले ऊर्जा पेय लेते हैं।

इसका प्रभाव हर इंसान के लिए अलग पाया गया है और इसके विभिन्न शोधों में अलग प्रकार के नतीजे सामने आये हैं लेकिन यदि आपको अपनी हार्ट रेट में कोई अंतर दिखे तो अपनी अपनी कैफीन की मात्रा का अवश्य ध्यान रखें।

8. थकान

कॉफी, चाय और अन्य कैफीनयुक्त पेय ऊर्जा के स्तर को बढ़ावा देने के लिए जाना जाता है।

हालांकि, कैफीन आपके सिस्टम को छोड़ने के बाद भी थकान को पुन: प्राप्त करने के लिए इसका विपरीत प्रभाव डाल सकता है जिसको रिबाउंड फटीग बोलते हैं।

41 अध्ययनों की एक समीक्षा में पाया गया कि हालांकि कैफीनेटेड एनर्जी ड्रिंक में सतर्कता और सुधार के मूड में कई घंटों में वृद्धि हुई, प्रतिभागियों को अगले दिन सामान्य से अधिक थका हुआ महसूस हुआ था।

कैफीन के फायदों को बढ़ाने के लिए और रिबाउंड फटीग से निजात पाने के लिए इसका उचित मात्रा में ही सेवन करना चाहिए।




फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!