दा इंडियन वायर » धर्म » भजन: हे दुःख भंजन, मारुती नंदन
धर्म

भजन: हे दुःख भंजन, मारुती नंदन

हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन,
सुन लो मेरी पुकार ।
पवनसुत विनती बारम्बार ॥

अष्ट सिद्धि, नव निद्दी के दाता,
दुखिओं के तुम भाग्यविदाता ।
सियाराम के काज सवारे,
मेरा करो उधार ॥
पवनसुत विनती बारम्बार ।
॥ हे दुःख भन्जन…॥

अपरम्पार है शक्ति तुम्हारी,
तुम पर रीझे अवधबिहारी ।
भक्ति भाव से ध्याऊं तुम्हे,
कर दुखों से पार ॥
पवनसुत विनती बारम्बार ।
॥ हे दुःख भन्जन…॥

जपूं निरंतर नाम तिहरा,
अब नहीं छोडूं तेरा द्वारा ।
राम भक्त मोहे शरण मे लीजे,
भाव सागर से तार ॥
पवनसुत विनती बारम्बार ।

हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन,
सुन लो मेरी पुकार ।
पवनसुत विनती बारम्बार ॥

hey dukh bhanjan maruti nandan lyrics

Hey Dukh Bhanjan, Maruti Nandan ।
Sun Lo Meri Pukar,
Pawansut Vinti Baarambaar ॥

Asht Siddhi Naw Nidhi Ke Data,
Dukhiyon Ke Tum Bhagya Vidhata ।
Siya-Ram Ke Kaj Sawanre,
Mera Kar Uddhar ॥
Pawansut Vinti Barambar ।
॥ Hey Dukh Bhanjan…॥

Aprampar Hai Shakti Tumhari,
Tum Par Reejhe Awadh Bihari ।
Bhakti Bhav Se Dhyaoo Tohe,
Kar Dukhho Se Par ॥
Pawansut Vinti Baarambaar ।
॥ Hey Dukh Bhanjan…॥

Japun Nirantar Naam Tihara,
Ab Nahi Chaudun Tera Dwara ।
Ram Bhakt Mohe Sharan Me Lije,
Bhav Sagar Se Taar ॥
Pawansut Vinti Baarambaar ।

Hey Dukh Bhanjan, Maruti Nandan ।
Sun Lo Meri Pukar,
Pawansut Vinti Baarambaar ॥

यह लेख आपको कैसा लगा?

नीचे रेटिंग देकर हमें बताइये, ताकि इसे और बेहतर बनाया जा सके

औसत रेटिंग 4 / 5. कुल रेटिंग : 89

कोई रेटिंग नहीं, कृपया रेटिंग दीजिये

यदि यह लेख आपको पसंद आया,

सोशल मीडिया पर हमारे साथ जुड़ें

हमें खेद है की यह लेख आपको पसंद नहीं आया,

हमें इसे और बेहतर बनाने के लिए आपके सुझाव चाहिए

कृपया हमें बताएं हम इसमें क्या सुधार कर सकते है?

About the author

विकास सिंह

विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!