Tue. Jul 23rd, 2024
    स्मृति मंधाना

    भारतीय महिला क्रिकेट टीम की उपकप्तान स्मृति मंधाना को लगता है कि क्रिकेट में महिलाओं ने हाल ही में सही तरह से ध्यान आकर्षित किया है। ट्रेलब्लेजर्स का नेतृत्व करते हुए, महिला टी-20 चैलेंज में तीन टीमों में से एक, मंधाना ने दावा किया है कि मैदान पर उसे परिभाषित करने वाली एकमात्र चीज उनका प्रदर्शन है न कि उनका लिंग।

    मंधाना के लिए, जो अब भारत में महिला क्रिकेट के प्रमुख चेहरों में से एक हैं, लेबल अतीत की बात है।

    आईएएनएस से बात करते हए मंधाना ने कहा, “मैं अब खुद को एक महिला क्रिकेटर के रूप में नहीं बल्कि बस एक क्रिकेटर के रूप में देखती हूं। जब किसी कि आवश्यकता नही होती तो लेबल क्यों होना चाहिए।”

    उनका रहस्य, उन्होने कहा, लिंग-आधारित सामाजिक कंडीशनिंग से ऊपर उठ रहा है और समझौता किए बिना अपने सपनों का पीछा कर रहा है।

    “यह कर लगाने के लिए मिल सकता है जब आपको केवल प्रदर्शन नहीं करना पड़ता है, बल्कि लगातार खेल में अपनी जगह को अपने लिंग के कारण ही सही ठहराता है। यह तब निराशाजनक होता है जब मेरे पुरुष समकक्षों से उनके खेल या प्रदर्शन के बारे में पूछताछ की जाती थी जबकि मैं क्षेत्ररक्षण पर सवाल उठा रही थी। मंधाना ने खुलासा किया कि लिंग की रूढ़िवादिता और मेरे लिंग के कारण खेल में बने रहने की मेरी क्षमता है।”

    वह बिना किसी बहस के भारतीय महिला क्रिकेट टीम की सर्वश्रेष्ठ ओपनर बल्लेबाज है और वह 2018 में एकदिवसीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाली खिलाड़ी भी रही थी। उन्होने 12 मैचो में 669 रन बनाए थे। उनके इस शानदार प्रदर्शन के लिए उन्हे बीसीसीआई ने जून 2018 में सर्वश्रेष्ठ महिला क्रिकेटर चुना।

    क्रिकेट में उनकी शुरुआत, भारत में एक धर्म की तरह रही जैसे यहां पर इस खेल को फॉलो किया जाता है, जब वह सिर्फ छह साल की थी उनके पिता उनके भाई को प्रशिक्षण के लिए ले जाते थे और स्मृति भी उन्हे साथ में रहती थी।

    अपनी सफलता का श्रेय अपने परिवार को देते हुए, उन्होंने अपने अब तक के प्रेरणादायक करियर के शुरुआती चरणों को याद किया।

    अपनी अबतक की सफलका का श्रेय अपने परिवार को देते हुए मंधाना ने कहा, “मैं सुबह पांच बजे उठती थी और अपने भाई की क्रिकेट कोचिंग प्रैक्टिस खत्म होने का इंतजार करती थी ताकि आखिरी की 10-15 गेंदें मैं खेल सकूं।”

    उन्होंने कहा, “जैसे ही मैं 15 गेंदें खेल लेती थी, उसके बाद यह सोचना शुरू कर देती थी कि अगले दिन की 15 गेंदों के लिए मुझे कैसे खुद को बेहतर बनाना है।”

    सलामी बल्लेबाज ने कहा कि देश से बाहर खेलने के लिए शरीर वहां के मौसम के अनुकूल होनी चाहिए।

    उपकप्तान ने कहा, “मेरे लिए यह एक सम्मान की बात है कि मैं अंतरराष्ट्रीय मंच पर अपने देश का प्रतिनिधित्व करने में सक्षम हूं। इसके अलावा जब हम मैदान पर होते हैं तो काफी दबाव भी होता है। इससे मदद भी मिलती है। जो भी टीम का हिस्सा हैं वह अपने घर से दूर हैं, इसलिए जब जरूरत पड़ती है तो एक दूसरे के साथ भावनात्मक रूप से जुड़ जाते हैं।”

    By अंकुर पटवाल

    अंकुर पटवाल ने पत्राकारिता की पढ़ाई की है और मीडिया में डिग्री ली है। अंकुर इससे पहले इंडिया वॉइस के लिए लेखक के तौर पर काम करते थे, और अब इंडियन वॉयर के लिए खेल के संबंध में लिखते है

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *