मंगलवार, दिसम्बर 10, 2019

सोशल मीडिया पर रोडवेज चालकों ने बयां किया अपना दर्द

Must Read

बी प्रैक ने महेश बाबू की फिल्म के लिए रिकॉर्ड किया तेलुगू गाना

सिंगर बी प्रैक ने महेश बाबू की फिल्म के लिए अपना पहला तेलुगू गाना 'सूर्योदय चंद्रुडिवो' रिकॉर्ड किया है।...

आईआईटी-मद्रास के 831 छात्रों की हुई कैंपस प्लेसमेंट

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास (आईआईटी-एम) के छात्रों को कैंपस प्लेसमेंट के पहले चरण के दौरान 184 कंपनियों द्वारा कुल...

दक्षिण अफ्रीका का मदद करने को तैयार हैं गैरी कर्स्टन

पूर्व सलामी बल्लेबाज और भारत को विश्व विजेता बनाने वाले कोच गैरी कस्टर्न ने कहा है कि वह जरूत...
पंकज सिंह चौहान
पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

लखनऊ, 11 जुलाई (आईएएनएस)| उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम (यूपीएसआरटीसी) के अनुबंधित बस चालकों ने सोशल मीडिया के जरिए अपनी उस ‘दयनीय’ स्थिति को उजागर किया है, जिसमें उन्हें काम करना पड़ता है।

यूपी परिचालक के नाम से फेसबुक पेज पर चालकों ने एक पोस्ट में कहा, “यदि दुर्घटनाग्रस्त बस के चालक ने दुर्घटना को अंजाम दिया, तो वह जिम्मेदार है, लेकिन यही यूपीएसआरटीसी, चालकों को कम पारिश्रमिक पर नौकरी देता है और उनसे दोगुना काम लेता है। इस नीति के माध्यम से यूपीएसआरटीसी लाभ भी कमाता है।”

पोस्ट में यह भी लिखा गया है कि अनुबंधित वाहन चालक और कंडक्टर को प्रति किलोमीटर 1 रुपये 36 पैसे दिए जाते हैं और उनसे उम्मीद की जाती है कि वह 16 से 17 घंटे काम करें।

यूपीएसआरटीसी में करीब 26,000 चालक और कंडक्टर हैं, जिनमें से 17,500 अनुबंध पर नियुक्त किए गए हैं।

अनुबंध पर नियुक्त किए गए चालक प्रति किलोमीटर के आधार पर मेहताना पाते हैं। वहीं नियमित चालक जिन्हें 22 दिनों की ड्यूटी पर लगाया जाता है और जो 5,000 किलो मीटर की दूरी तय करते हैं, उन्हें 3,000 रुपये का अतिरिक्त प्रोत्साहन भी मिलता है।

पोस्ट में कहा गया है, “यदि अनुबंधित चालक 5,000 किलोमीटर की दूरी से कम दूरी तय करते हैं, तो उनके कार्य के दिनों को 22 के बजाय 21 दिन ही लिखा जाता है। अनुबंधित कर्मचारी प्रतिदिन 15 से 20 घंटे काम करता है, क्योंकि उन्हें अपने परिवार को चलाने के लिए धन की जरूरत होती है। हम उन बसों को चलाने के लिए बने हैं, जो खराब स्थिति में हैं और अगर हम उसे चलाने से मना करते हैं, तो हमारी सेवाएं समाप्त हो जाती हैं।”

इसके अलावा अतिरिक्त ईंधन और कोई क्षति होने पर उसकी पूर्ति भी अनुबंधित कर्मचारियों को करनी पड़ती है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

बी प्रैक ने महेश बाबू की फिल्म के लिए रिकॉर्ड किया तेलुगू गाना

सिंगर बी प्रैक ने महेश बाबू की फिल्म के लिए अपना पहला तेलुगू गाना 'सूर्योदय चंद्रुडिवो' रिकॉर्ड किया है।...

आईआईटी-मद्रास के 831 छात्रों की हुई कैंपस प्लेसमेंट

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास (आईआईटी-एम) के छात्रों को कैंपस प्लेसमेंट के पहले चरण के दौरान 184 कंपनियों द्वारा कुल 831 छात्रों को नौकरियों के...

दक्षिण अफ्रीका का मदद करने को तैयार हैं गैरी कर्स्टन

पूर्व सलामी बल्लेबाज और भारत को विश्व विजेता बनाने वाले कोच गैरी कस्टर्न ने कहा है कि वह जरूत पड़ने पर दक्षिण अफ्रीका की...

दुष्कर्म की घटनाओं पर प्रधानमंत्री चुप क्यों? : राहुल गांधी

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने यहां सोमवार को सवाल उठाया कि देश में दुष्कर्म की बढ़ती घटनाओं पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चुप क्यों...

भारतीय जवानों को हनीट्रैप में फंसाने का प्रयास कर रही आईएसआई : रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद नाइक

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) ने भारतीय सशस्त्र बलों के अधिकारियों को फंसाने के लिए हनीट्रैप को एक उपकरण के तौर पर...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -