दा इंडियन वायर » खानपान » सेब खाने के 10 बेहतरीन फायदे
खानपान

सेब खाने के 10 बेहतरीन फायदे

सेब फायदे apple fruit benefits in hindi

एक बहुत ही प्रसिद्ध कहावत में कहा गया है, “प्रतिदिन एक सेब खाएं, डॉक्टर के पास कभी न जायें” और सेब ने अपनी योग्यताओं से इस कहावत को काफी हद्द तक सच साबित कर दिया है।

सेब सबसे ज्यादा खाए जाने वाले फलों में से एक है। इसका सेवन करने से इंसान रोग मुक्त हो जाता है। इसमें मौजूद पोषक तत्व हमारे लिए काफी लाभदायक होते हैं और हमें हमारे सम्पूर्ण विकास में सहायक बनते हैं।

यदि सेब को सही समय पर खाया जाए, तो इसके अनेकों लाभ हैं। आइये कुछ लाभों के विषय में चर्चा करते हैं।

सेब खाने के फायदे (apple benefits in hindi)

1. सेब पौष्टिक होते हैं (apples are nutritious in hindi)

सेब में कई प्रकार के ज़रूरी और फायदेमंद पोषक तत्व पाए जाते हैं। एक मध्यम आकार का सेब 1.5 कप फल के बराबर होता है। सेब पौलिफिनोल्स का एक महत्वपूर्ण स्त्रोत माने जाते हैं। ये वो कंपाउंड्स हैं जो स्वास्थ्य की दृष्टि से काफी लाभदायक माने जाते हैं।

सेब का पूर्ण रूप से फायदा लेने के लिए उसको छिलके के साथ ही खाना चाहिए। इससे उसके तत्व पूरी तरह हमारे शरीर में पहुँचते हैं। एक सामान्य आकार के सेब में मौजूद पोषक तत्व कुछ इस प्रकार हैं:

  • कैलोरी: 95
  • कार्बोस: 25 ग्राम
  • फाइबर: 4 ग्राम
  • विटामिन सी: 4 ग्राम
  • पोटेशियम: 196 मिलीग्राम
  • विटामिन के: 4 मिलीग्राम
  • मैग्नीज, तांबे और विटामिन ए, ई, बी 1, बी 2 और बी 6

2. दिल के लिए फायदेमंद (apple benefits for heart in hindi)

सेब में ऐसे कंपाउंड्स मौजूद होते हैं जो कोलेस्ट्रोल को नियंत्रित रखते हैं और दिल सम्बंधित बिमारियों से बचाते हैं। इसमें घुलने वाला फाइबर पाया जाता है जो कोलेस्ट्रोल की मात्रा को कम कर देता है।

इनके अन्दर पौलिफिनोल भी पाए जाते हैं जिनके अन्दर एंटओक्सीडैनट के समान प्रभाव होते हैं। ये सेब के छिलके में पाए जाते हैं। इन पॉलीफेनोल में से एक एक फ्लैवोनॉइड है जिसे एपटेक्टिन कहा जाता है, जो रक्तचाप को कम कर सकता है। अध्ययनों के विश्लेषण में पाया गया कि सिर्फ सेब का नियमित सेवन करने से दिल समबन्धी रोगों से आराम मिलता है।

एक अन्य शोध में सेब को कोलेस्ट्रोल कम करने वाली दवाई, स्टेटिन के साथ जांचा गया और उसमें यह पाया गया कि सेब स्टेटिन के जितना ही प्रभावी साबित हुआ था। यह भी पाया गया कि इससे स्ट्रोक का खतरा भी कम हुआ था।

हालाँकि, यदि इसका सही समय पर सेवन नहीं किया गया, तो सेब नुकसान दायक भी हो सकता है।

3. सेब से मधुमेह (डायबिटीज) का खतरा कम होता है (apple for diabetes in hindi)

अलग अलग शोधों ने सेब को मधुमेह का खतरा घटने के काबिल बताया है। इसमें मौजूद पौलिफिनोल के कारण ये होता है जो शरीर में एंटीओक्सीडैनट का काम करता है।

एक बड़े शोध में यह पाया गया है कि सेब का नियमित रूप से सेवन करने वालों में टाइप 2 मधुमेह का खतरा 28% तक कम हुआ है।

यह संभव है कि सेब में पॉलीफेनोल बीटा कोशिकाओं की क्षति को रोकने में मदद करते हैं। बीटा कोशिकाओं से शरीर में इंसुलिन का उत्पादन होता है और अक्सर टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों में ये खत्म होती है।

4. यह शरीर में लाभदायक बैक्टीरिया का सञ्चालन करता हैं (apple for healthy bacteria in hindi)

सेब के अन्दर पेक्टिन नामक एक तत्व पाया जाता है जो शरीर में लाभदायक बैक्टीरिया का संचार करता है।

हमारी छोटी आंत पाचन के दौरान फाइबर को सोखती नहीं है। इसके बजाय, यह कोलन में जाता है और अच्छे बैक्टीरिया के विकास को बढ़ावा देता है। यह अन्य सहायक यौगिकों में भी बदल जाता है जो आपके शरीर में वापस फैलते हैं।

नए शोध से पता चलता है कि यह मोटापे, टाइप 2 मधुमेह और हृदय रोग के खिलाफ सेब के सुरक्षात्मक प्रभावों का कारण ये भी हो सकता है।

5. यह वज़न को नियंत्रित करने में सहायक होते हैं (apple for weight control in hindi)

सेब मुख्य रूप से फाइबर और पानी का बना होता है। इसी वजह से इसे खाने के बाद लोगों का पेट भर जाता है।

एक शोध में यह पाया गया कि जिन लोगों ने खाने से पहले सेब खाया था, उनका पेट न खाने वालों की तुलना में भरा हुआ था जिसके बाद उन्होंने खाना कम खाया था। इसी कारण से उन्होंने खाने में लगभग 200 कैलोरीज कम खायी थी।

इसी प्रकार एक अन्य अध्ययन में यह पाया गया कि उनका वज़न न खाने वालों के मुकाबले कम हुआ था और उन्होंने कम कैलोरीज का सेवन किया था।

शोधकर्ताओं ने यह पाया है कि इनके अन्दर कुछ ऐसे तत्व मौजूद हैं जो वज़न कम करने में सहायक होते हैं।

6. कैंसर से निजात (apple benefits for cancer in hindi)

सेब में कई ऐसे एंटीऑक्सीडेंट तत्व पाए जाते हैं, जो हमारे शरीर के इम्यून सिस्टम यानी रोग-रोधी तंत्र को मजबूत करता है। इसकी वजह से कैंसर जैसी बीमारी शरीर में जल्दी से नहीं फैलती है।

अनेक शोधों में यह पाया गया है कि सेब खाने वालों में कैंसर का खतरा कम हो जाता है। इसके एंटीऑक्सीडेंट और एंटीइंफ्लेमेटरी प्रभावों के कारण ऐसा होता है।

इस पर हुए अध्ययन में यह पाया गया है कि जिन लोगो ने नियमित रूप से सेब का सेवन किया था उनमें कैंसर के कारण मृत्यु का खतरा कम पाया गया था।

7. हड्डियों के लिए लाभदायक (apple for bones in hindi)

शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि फल में एंटीऑक्सिडेंट और एंटीइंफ्लेमेटरी कंपाउंड्स हड्डी के घनत्व और ताकत को बढ़ावा देने में मदद करते हैं। कुछ अध्ययनों से पता चला है कि सेब, विशेष रूप से, हड्डियों के स्वास्थ्य को सकारात्मक रूप से प्रभावित करने में सक्षम होता है।

एक अन्य परिक्षण में विभिन्न लोगों का निरीक्षण किया गया था, कुछ ने सेब खाया था और कुछ ने नहीं खाया था। जिन्होंने सेब का सेवन किया था उनके शरीर से कैल्शियम की कम क्षति हुई अर्थात उनके शरीर में कैल्शियम की मात्रा ज्यादा थी।

8. यह अस्थमा को रोकता है (apple benefits in asthma in hindi)

सेब में मौजूद एंटीओक्सीडैनटस हमारे शरीर में अस्थमा से लड़ने की क्षमता लाते हैं। 68,000 से अधिक महिलाओं के एक बड़े अध्ययन में यह पाया गया है कि जो लोग सबसे अधिक सेब खाते हैं वे अस्थमा से सबसे कम पीड़ित थे। प्रति दिन एक बड़े सेब का लगभग 15% खाने से अस्थमा का जोखिम 10% तक घट है।

सेब की त्वचा में फ्लेवोनॉइड शामिल होता है जिसे क्वैक्सेटीन कहते हैं, जो इम्यून सिस्टम को विनियमित करने और सूजन को कम करने में मदद करता है। इन दो तरीके से यह अस्थमा और एलर्जी प्रतिक्रियाओं को प्रभावित करता है।

9. मजबूत दिमाग पाने में (apple for healthy brain in hindi)

अधिकांश शोध सेब के छिलके और मांस पर केंद्रित होते है। हालांकि, सेब का रस संभावित रूप से उम्र के कारण आने वाली नसिक गिरावट के लिए लाभ हो सकता है। 

सेब का रस एसिटिलकोलाइन को सुरक्षित रखने में मदद कर सकता है। यह एक न्यूरोट्रांसमीटर होता है जो उम्र के साथ कम होने लगता है। एसिटाइलकोलाइन का कम स्तर अल्जाइमर रोग के खतरे से जुड़ा हुआ है।

इस पर हुए परिक्षण में शोधकर्ताओं ने पाया की मस्तिष्क के विकास में सेब के कारण सच में परिवर्तन आया था। हमें यह भी याद रखना चाहिए कि हम अपना फल हमेशा साबुत और सम्पूर्ण रूप में ही खाएं। इससे उसका फायदा बढ़ जाता है।

10. सेब पेट को एनएसएआईडीएस से बचाता है (apple for nsaids in hindi)

नॉनटेरोएडियल एंटी-इन्फ्लैमेटरी ड्रग्स (एनएसएआईडीएस) के रूप में जाने जाने वाले दर्दशोधकों (पैन्किल्लर्स) की श्रेणी आपके पेट के अस्तर को घायल करके इसे नुक्सान पहुंचा सकती है।

परीक्षणों में पाया गया कि फ्रिज में रखे हुए सेब खाने से पेट के अस्तर की चोटों को सुधरने में मदद मिलती है। इसमें क्लोरोजेनिक एसिड और कैटेचिन दो ऐसे कंपाउंड्स हैं जो इस समस्या को दूर करने में विशेष रूप से सहायक होते हैं।

About the author

दिव्या

4 Comments

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!