सोमवार, अक्टूबर 14, 2019

सुप्रीम कोर्ट: फिल्म “राम जन्मभूमि” रिलीज़ होने से अयोध्या की मध्यस्थता नहीं होगी प्रभावित

Must Read

त्रिपुरा : महिला सांसद के खिलाफ आक्रामक टिप्पणी करने वाला गिरफ्तार

अगरतला, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। त्रिपुरा के एक व्यक्ति को राज्य की पुलिस ने लोकसभा सदस्य प्रतिमा भौमिक के खिलाफ...

7 साल बाद फिर क्यों सुर्खियों में आया निर्भया गैंगरेप का केस

नई दिल्ली, 13 अक्टूबर(आईएएनएस)। साल 2012 के दिसंबर में हुई निर्भया गैंगरेप की घटना ने देश को हिला कर...

शरद रंगोत्सव में कवियों ने बांधा समां

नई दिल्ली, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। देश भर से यहां आए एक दर्जन से अधिक कवियों-कवित्रियों की उपस्थिति में यहां...
साक्षी बंसल
पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

अयोध्या में कई दशकों से चल रहे राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर बनी फिल्म “राम जन्मभूमि” भी विवादों में फंस गयी है। इसकी रिलीज़ पर प्रतिबन्ध लगाने की मांग की गयी है जिसमे सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया है। उन्होंने कहा कि फिल्म किसी भी तरह से अयोध्या में विवाद को सुलझाने के लिए लेकरचल रही मध्यस्थता को प्रभावित नहीं करेगी।

जस्टिस एस.ए बोबडे और जस्टिस एस. अब्दुल नज़ीर की बेंच ने ऐसा कहा जब उन्होंने फिल्म की रिलीज़ पर रोक लगाने की याचिका पर तत्काल सुनवाई करने से मना कर दिया जिसमे इलज़ाम लगा था कि फिल्म से सांप्रदायिक हमले होंगे और इससे फैज़ाबाद में चल रही मध्यस्थता प्रभावित होगी।

ये आंकलन करते हुए कि फिल्म निराशावादी नहीं है, कोर्ट ने कहा कि अगर पार्टियां विवाद सुलझाना चाहती हैं तो कोई भी फिल्म उनके रास्ते में नहीं आएगी।

याचिकाकर्ता प्रिंस याकूब हबीबुद्दीन तुसी जो खुद को अंतिम मुग़ल सम्राट बहादुर शाह ज़फर का वंशज होने का दावा करता है, उनकी तरफ से पेश हुए वकील लिली थॉमस जिन्होंने याचिका दर्ज़ कराई थी, उसकी सुनवाई करते वक़्त बेंच ने सवाल किया-“क्या आपको लगता है कि एक फिल्म मध्यस्थता के परिणाम को प्रभावित करेगी अगर पार्टियां इसे सुलझाना चाहती हैं?”

जब दिल्ली हाई कोर्ट ने फिल्म की रिलीज़ पर रोक लगाने की मांग को ठुकरा दिया तो तुसी ने टॉप कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था।

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश जस्टिस एफ.एम.आई कलीफुल्ला के नेतृत्व में चलने वाला पैनल जिसके ‘आर्ट ऑफ़ लिविंग’ संस्थापक श्री श्री रवि शंकर और वरिष्ठ वकील श्रीराम पांचू सदस्य हैं, वह वर्तमान में फैज़ाबाद में विवादास्पद विवाद के कुछ सौहार्दपूर्ण समाधान खोजने के लिए मध्यस्थता कर रहे हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने 8 मार्च को राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले को सुलझाने के लिए मध्यस्थता का आदेश दिया था और पैनल ने 13 मार्च को अपने प्रयास शुरू कर दिए।

अब फिल्म की बात की जाये तो, इसका निर्देशन सनोज मिश्रा ने किया है जिसमे मनोज जोशी और गोविन्द नामदेव मुख्य भूमिका निभाते दिखाई देंगे।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

त्रिपुरा : महिला सांसद के खिलाफ आक्रामक टिप्पणी करने वाला गिरफ्तार

अगरतला, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। त्रिपुरा के एक व्यक्ति को राज्य की पुलिस ने लोकसभा सदस्य प्रतिमा भौमिक के खिलाफ...

7 साल बाद फिर क्यों सुर्खियों में आया निर्भया गैंगरेप का केस

नई दिल्ली, 13 अक्टूबर(आईएएनएस)। साल 2012 के दिसंबर में हुई निर्भया गैंगरेप की घटना ने देश को हिला कर रख दिया था। अब सात...

शरद रंगोत्सव में कवियों ने बांधा समां

नई दिल्ली, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। देश भर से यहां आए एक दर्जन से अधिक कवियों-कवित्रियों की उपस्थिति में यहां रविवार को नटरंग शरद रंगोत्सव...

विजय हजारे ट्रॉफी : महाराष्ट्र 3 विकेट से जीता

वडोदरा, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। अजीम काजी के शानदार 84 रनों की मदद से महाराष्ट्र ने यहां खेले गए विजय हजारे ट्रॉफी के मैच में...

चीन-नेपाल मैत्री की जड़ मजबूत

बीजिंग, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने शनिवार को काठमांडू में नेपाली राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी के साथ मुलाकात की। दोनों ने...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -