Sat. Jul 13th, 2024
    सिद्धांत कपूर के लिए फिल्म का हिट होना जरूरी है, बॉक्स ऑफिस की कमाई नहीं

    एक्टर सिद्धांत कपूर ने ‘शूटआउट एट वडाला’ और ‘अग्ली’ जैसी दो सफ़ल फिल्में बॉलीवुड को दी हैं। मगर उनकी एक भी फिल्म ने 100 करोड़ नहीं कमाए हैं। उनका ऐसा मानना है कि हिट फिल्म देना ज्यादा जरूरी है, बॉक्स ऑफिस का फिगर नहीं। आईएएनएस को फ़ोन पर दिए इंटरव्यू में उन्होंने बताया-“ये जरूरी है कि मैं जो भी फिल्म करूँ वो हिट हो मगर मैं बॉक्स ऑफिस कमाई की कोई ख़ास चिंता नहीं करता कि उसे 100 करोड़ ही कमाने चाहिए क्योंकि अगर कोई फिल्म 3 या 4 करोड़ के बजट पर बनी है और वे 25 करोड़ रूपये कमा लेती है तो वो वैसे भी हिट हो जाएगी।”

    उन्होंने आगे कहा-“मैं हमेशा कंटेंट के बारे में सोचता हूँ। किरदार, कंटेंट, बाकी किरदारों से ये कैसे अलग है, जो मैं कर रहा हूँ उसमे काफी मेहनत लगती है। मैं कुछ भी बुनियादी नहीं करूँगा। निर्देशक, निर्माता और सह-कर्मी मायने रखते हैं, मगर सबसे ऊपर हमेशा कंटेंट ही होता है। मुझे क्राइम और कॉमेडी से जुड़ी हर फिल्म पसंद है। मेरे किरदार थोड़े हटके होते हैं। तुमने उन्हें ‘अग्ली’, ‘वडाला’, ‘जज़्बा’ और ‘हसीना पार्कर’ में देखा। ‘बोम्बैरिया में’, आपको मेरा एक अलग रूप देखने को मिलेगा।”

    “बोम्बैरिया” उनकी पहली कॉमेडी फिल्म होगी। इसपर उन्होंने कहा-“मैं हमेशा से कॉमेडी करना चाहता था। ये एक हास्य किरदार है, एक जोशीला हास्य किरदार। मैं कुछ ऐसा ही करने के लिए ढूंढ रहा था। उसे पार्सल डिलीवर करने की नौकरी मिलती है। मगर जब सुबह वे डिलीवरी करने के लिए घर से बाहर गया होता है तो उसका रिक्शा से एक्सीडेंट हो जाता है। उस रिक्शा में राधिका आप्टे का किरदार होता है जिससे उनका झगड़ा हो जाता है। किसी दूसरी गाड़ी से जब तीसरा इन्सान मदद करने के लिए आता है तो उससे मेरी लड़ाई हो जाती है।”

    “राधिका का किरदार मुझे अपने फ़ोन में रिकॉर्ड करने लगता है तो मैं सोचने लगता हूँ कि ऐसा क्यों कर रही हैं। मैं उनका फ़ोन चुरा लेता हूँ और उसके बाद कैसे उन लोगो की ज़िन्दगी बदल जाती है यही फिल्म की कहानी है।” इस फिल्म की शूटिंग 2015 में शुरू हुई थी मगर रिलीज़ वे 11 जनवरी, 2019 वाले दिन होगी।

    रिलीज़ में हुई देरी पर सिद्धांत ने कहा-“हम कुछ कॉरपोरेट्स को रिलीज़ करने के लिए ढूंढ रहे थे फिर ‘सोनी’ आ गया। हमे कई बार बदलाव करने पड़े। और अब हम इसे रिलीज़ करने के लिए तैयार हैं।”

    जब उनसे पूछा गया कि क्या इतने सालो बाद वे किरदार से खुद को जुड़ा हुआ महसूस करते हैं तो उन्होंने कहा-“मैं जो किरदार निभाता हूँ उससे जुड़ा हुआ महसूस करता हूँ। वो मुझसे बाहर ही नहीं निकलते। इसके तुरंत बाद ही मैंने, ‘हसीना पार्कर’ के लिए शूट करना शुरू कर दिया था। इसलिए उस किरदार से निकलकर हसीना वाले किरदार में जाना मेरे लिए बहुत मुश्किल था। मगर मैं जो भी किरदार निभाता हूँ वो मेरे साथ ही रहता है क्योंकि वो मेरा हिस्सा है।”

    सिद्धांत कपूर ने ‘हसीना पार्कर’ में अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहीम का किरदार निभाया था। और उनकी बहन श्रद्धा कपूर ने बायोपिक में हसीना पार्कर का किरदार अदा किया था।

    उनकी जल्द एक और फिल्म ‘यारम’ रिलीज़ होने वाली है। उनके मुताबिक, “मैंने हाल ही में मॉरिशस में इस फिल्म की शूटिंग प्रतीक बब्बर के साथ ख़तम की है। मैंने इसकी डबिंग भी पूरी कर ली है। ये दोस्ती पर आधारित कहानी है। प्रतीक के साथ मेरी बहुत गहरी दोस्ती है इसलिए ये फिल्म करना मेरे लिए आसान था।”

    सिद्धांत बॉलीवुड के सबसे मशहूर विलन शक्ति कपूर के बेटे हैं।

    By साक्षी बंसल

    पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *