सोमवार, मार्च 23, 2020

सऊदी अरब का कानून इन 10 चीजों की नहीं देता इजाजत

Must Read

दिल्ली में 68 वर्षीय महिला की कोरोनोवायरस से मृत्यु, भारत में अबतक दूसरी मृत्यु

देश में वैश्विक महामारी से जुड़ी दूसरी मौत में शुक्रवार को दिल्ली में 68 वर्षीय एक महिला की मौत...

‘बागी 3’ बॉक्स ऑफिस कलेक्शन: टाइगर श्रॉफ, श्रद्धा कपूर नें होली पर जमकर की कमाई

टाइगर श्रॉफ की बागी 3 (Baaghi 3) ने अपने शुरुआती सप्ताहांत में बॉक्स ऑफिस पर 53.83 करोड़ रुपये कमाए।...

सऊदी अरब का कानून अपने सख्त नियमों के लिए जाना जाता है। सऊदी अरब एक मुस्लिम बहुल देश है।

सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान आधुनिक सोच के शासक है। जिसकी बदौलत सऊदी जैसे कट्टर देशों में अब सख्त नियमों में शिथिलता दी जा रही है।

सऊदी अरब में कोई विशिष्ट विधि या कानून नहीं है। सऊदी में कुरान का प्रयोग किया जाता है जिसे सभी जजों के द्वारा परंपरागत तरीके से व्याख्या की जाती है। कई अवैध कामों के लिए सऊदी में कानून नहीं बना रखा है। सऊदी अरब कई चीजों के प्रतिबंधों के लिए जाना जाता है।

1. कामकाजी महिलाएं

सऊदी अरब में महिलाओं के प्रति कानून काफी सख्त है। महिलाओं को आत्म-निर्भर बनने के ज्यादा विकल्प नहीं दिए जाते हैं।

सऊदी अरब महिला
सऊदी में महिलाओं को अधिकांश नौकरियों की अनुमति नहीं है। केवल कुछ कंपनियां है जहां पर महिलाओं को काम करने की अनुमति दी जाती है।

सऊदी अरब में दुनिया में सबसे बड़ी तेल कंपनी है। ये सऊदी महिला इंजीनियरों को नौकरी देती है। अन्य कंपनियों को इंजीनियरों के रूप में महिलाओं को नौकरी पर रखने की अनुमति नहीं है।

ज्यादातर महिलाएं शिक्षा या चिकित्सा क्षेत्र में काम करती है। महिलाओं को हाल ही में स्टोर क्लर्क या डिपार्टमेंट स्टोर पर काम करने की अनुमति दी गई है। अधिकतर जगहों पर पुरूष को ही काम करने की अनुमति है।

2. संगीत विद्यालय

सऊदी अरब में सार्वजनिक विद्यालयों में संगीत कक्षाओं पर प्रतिबंध है। वैसे तो सऊदी में संगीत उद्योग सक्रिय व कानूनी है। हालांकि, संगीत को पढ़ाने के लिए कोई औपचारिक स्कूल नहीं है। कुछ धार्मिक कट्टरपंथियों के अनुसार संगीत बजाना वर्जित है। स्कूलों और विश्वविद्यालयों ने संगीत नहीं सिखाया है। साथ ही मॉल में स्पीकरों के माध्यम से संगीत बजाने की अनुमति भी नही है।

3. वैलेंटाइन डे के अवसर पर मुबारकबाद देना

14 फरवरी को जहां पूरी दुनिया वैलेंटाइन डे मनाती है वहीं सऊदी में इसे मनाने पर प्रतिबंध लगा हुआ है। फूलों और उपहार की दुकानों को लाल गुलाब बेचने से मना किया जाता है। धार्मिक पुलिस के द्वारा इस दिन नियमों का उल्लंघन करने पर जुर्माना लगाया जाता है। स्कूलों में किसी भी लडकी को लाल रंग का कुछ भी पहनने की अनुमति नहीं दी जाती है।

4. सामजिक मिश्रण (सोशल मिक्सिंग)

सऊदी के मॉल और रेस्तरां में केवल परिवारों के विभिन्न लिंगो (पुरूष व स्त्री) को ही अनुमति दी जाती है। यानि की महिलाओं के द्वारा अकेले मॉल मे नहीं प्रवेश किया जा सकता है। इसके लिए महिला को अपने परिवार के साथ ही जाना पड़ता है। हालांकि कई मॉल्स में महिलाओं व पुरूषों के लिए अलग-अलग व्यवस्था की गई होती है। संक्षेप में अन्य पुरूष व महिला सामाजिक रूप से मॉल में नहीं आ सकते है।

5. फिल्में

सऊदी अरब में सिनेमाघरों में फिल्मे देखना प्रतिबंधित है। कुछ समय पहले ही सऊदी किंग सलमान ने इस पर प्रतिबंधों को हटाया था। जिसके तहत फिल्मों को सिनेमाघर में सार्वजनिक रूप से देखा जा सकता है। बहरीन द्वीप के पास रहने वाले लोग फिल्म देखने व शराब पीने के लिए सप्ताह के अंत में वहां जाते है, क्योंकि सऊदी अरब में शराब भी निषिद्ध है।

6. सूअर का मांस

पोर्क यानि सूअर का मांस सऊदी अरब इस्लामी कानून के तहत प्रयोग मे लिया जाता है। यह एक ऐसा देश है, जो अपने सभी नागरिकों को मुस्लिम मानता है और इसलिए किसी भी गैर-मुस्लिम व्यापारियों को अपने सख्त नियमों का पालन करना है। नियमों के मुताबिक देश में प्रवेश करने वाला सभी भोजन “हलाल” होना चाहिए। सूअर के मांस पर कई तरह के प्रतिबंध लगा रखे है।

7. लडकियो के लिए जिम

सऊदी में महिलाओं के लिए जिम और खेल सामान्यतः प्रतिबंधित है। कुछ समय के लिए महिलाओं को निजी जिमों में व्यायाम करने की जरूर अनुमति है, वो भी धार्मिक पुलिस के निर्देशानुसार। लड़कियों के लिए स्कूलों और विश्वविद्यालयों में कोई जिम या व्यायाम की कक्षाएं अथवा स्पोर्ट्स टीम नहीं है। यहां तक की ओलंपिक में भी सऊदी अरब की महिलाओं को बेहद कम भेजा गया है।

8. इस्लाम के अलावा दूसरे धर्म पर प्रतिबंध

सऊदी अरब में इस्लाम धर्म को माना जाता है। इसलिए दूसरे धर्म के लोगों के लिए पूजा करना कानून के खिलाफ माना जाता है। गैर मुस्लिमों के लिए सऊदी में धार्मिक प्रतिबंध है। यदि कोई इस्लाम धर्म से अन्य धर्म में परिवर्तित होता है या धर्म को त्याग देता है, तो उसे मृत्युदंड का सामना करना पड़ता है। पूजा स्थलों के साथ ही धार्मिक किताबों पर ही यहां प्रतिबंध है।

9. महिलाओं का घूमना

सऊदी अरब में 45 साल से कम उम्र की महिलाएं या तो पति या फिर पिता के साथ यात्रा कर सकती है। ये अनुमति के बिना यात्रा नहीं कर सकती है। लेकिन 45 साल से अधिक उम्र की महिलाएं अपनी इच्छा से यात्रा कर सकती है।

10. महिलाओं की ड्राइविंग पर प्रतिबंध

महिलाओं को कभी भी ड्राइव करने की अनुमति नहीं दी जाती है। महिलाओं को काम करने के लिए निजी ड्राइवरों को किराए पर रखना पड़ता है। लेकिन सऊदी किंग ने इन प्रतिबंधों में शिथिलता दे दी है। इसलिए अब महिलाएं भी यहां ड्राइविंग कर सकती है। इसके लिए उन्हें लाइसेंस भी दिया जा सकेगा।

- Advertisement -

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

दिल्ली में 68 वर्षीय महिला की कोरोनोवायरस से मृत्यु, भारत में अबतक दूसरी मृत्यु

देश में वैश्विक महामारी से जुड़ी दूसरी मौत में शुक्रवार को दिल्ली में 68 वर्षीय एक महिला की मौत...

एक विलेन 2: दिशा पटानी के बाद, तारा सुतारिया फिल्म से जुड़ी, जॉन अब्राहम और आदित्य रॉय कपूर भी होंगे फिल्म का हिस्सा

यह पहले बताया गया था कि जॉन अब्राहम 2014 की फिल्म, एक विलेन की अगली कड़ी बनाने के लिए बातचीत कर रहे थे। जनवरी...

‘बागी 3’ बॉक्स ऑफिस कलेक्शन: टाइगर श्रॉफ, श्रद्धा कपूर नें होली पर जमकर की कमाई

टाइगर श्रॉफ की बागी 3 (Baaghi 3) ने अपने शुरुआती सप्ताहांत में बॉक्स ऑफिस पर 53.83 करोड़ रुपये कमाए। 2 दिन में 16.03 करोड़...

महाराष्ट्र सरकार को कोई खतरा नहीं – कांग्रेस

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने बुधवार शाम को अपने सभी विधायकों की बैठक बुलाई है। राकांपा नेताओं ने कहा कि 26 मार्च को होने...

पीएम मोदी, राहुल गांधी ने पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को उनके जन्मदिन पर शुभकामनाएं दीं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को उनके 78 वें जन्मदिन पर शुभकामनाएं दीं। पीएम मोदी ने ट्विटर पर लिखा,...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -