शुक्रवार, जनवरी 17, 2020

देश में पहली संस्कृत सेंट्रल यूनिवर्सिटी को कैबिनेट की मंजूरी

Must Read

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को दिए निर्देश, संविधान को पाठ्यक्रम में शामिल करने पर 3 महीने में ले फैसला

देश के प्रत्येक तहसील में एक केंद्रीय विद्यालय खोलने और प्राइमरी स्कूल के पाठ्यक्रम में भारतीय संविधान को शामिल...

पाकिस्तान : कट्टरपंथी संगठन के 86 सदस्यों को आतंकवादी रोधी अदालत ने सुनाई 55-55 साल कैद की सजा

पाकिस्तान के रावलपिंडी में एक आतंकवाद रोधी अदालत ने कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) के 86 सदस्यों व समर्थकों...

राजकोट वनडे : भारतीय बल्लेबाजों की दमदार वापसी, आस्ट्रेलिया को दिया 341 रनों का लक्ष्य

मुंबई में मिली बुरी हार से आहत भारतीय बल्लेबाजों ने शुक्रवार को यहां सौराष्ट्र क्रिकेट संघ स्टेडियम में खेले...

केंद्र सरकार ने बुधवार को केंद्रीय संस्कृत यूनिवर्सिटी बनाए जाने संबंधी विधेयक को मंजूरी दे दी। यह फैसला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में हुई केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में लिया गया। केंद्रीय कैंबिनेट की बैठक के उपरांत सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने यह जानकारी दी।

जावड़ेकर ने कहा, “हमारी 3 संस्कृत डीम्ड यूनिवर्सिटी हैं, इन 3 संस्कृत डीम्ड यूनिवर्सिटी की एक सेंट्रल यूनिवर्सिटी होगी।” उन्होंन इसे एक अच्छी और महत्वपूर्ण पहल बताया और कहा कि यह संस्कृत की पहली केंद्रीय यूनिवर्सिटी होगी।

इस विधेयक को केंद्रीय मंत्रिमंडल से स्वीकृति मिलने के बाद सरकार अब जल्दी ही इसे मंजूरी के लिए लोकसभा व राज्यसभा के पटल पर रखेगी। माना जा रहा है कि दोनों ही सदनों में यह विधेयक बिना किसी विरोध के पास करा लिया जाएगा।

संस्कृत से जुड़े शिक्षाविदों का मानना है कि केंद्रीय यूनिवर्सिटी बनने के बाद संस्कृत के उत्थान के लिए आवश्यक कदम उठाने की प्रक्रिया में और तेजी आएगी। केंद्रीय यूनिवर्सिटी बन जाने से यहां फैसले लेने की क्षमता भी बढ़ेगी। साथ ही आर्थिक अनुदान से जुड़े विषयों पर भी क्रियान्वयन शीघ्र हो सकेगा। फिलहाल संस्कृत कॉलेजों में शिक्षकों की कमी भी एक बड़ी समस्या है।

मानव संसाधन मंत्रालय द्वारा संसद को दी गई जानकारी के मुताबिक, देशभर के विभिन्न संस्कृत महाविद्यालयों में इस समय लेक्चरार के करीब 709 पद रिक्त हैं। संस्कृत के छात्रों के लिए राहत की बात यह है कि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने इन सभी विश्वविद्यालयों को छह महीने की अवधि के भीतर रिक्त पदों को भरने का आदेश दिया है।

मंत्रालय की ओर से यह जानकारी पिछले दिनों लोकसभा को दी। मंत्रालय के मुताबिक, देशभर में कुल 760 संस्कृत कॉलेज चल रहे हैं। इनमें से अकेले 468 संस्कृत कॉलेज उत्तर प्रदेश में हैं। संस्कृत कॉलेजों की संख्या के मामले में ओडिशा 59 कॉलेजों के साथ दूसरे नंबर पर है। वहीं राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की बात की जाए तो यहां केवल एक संस्कृत कॉलेज है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को दिए निर्देश, संविधान को पाठ्यक्रम में शामिल करने पर 3 महीने में ले फैसला

देश के प्रत्येक तहसील में एक केंद्रीय विद्यालय खोलने और प्राइमरी स्कूल के पाठ्यक्रम में भारतीय संविधान को शामिल...

पाकिस्तान : कट्टरपंथी संगठन के 86 सदस्यों को आतंकवादी रोधी अदालत ने सुनाई 55-55 साल कैद की सजा

पाकिस्तान के रावलपिंडी में एक आतंकवाद रोधी अदालत ने कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) के 86 सदस्यों व समर्थकों को कुल मिलाकर 4738 साल...

राजकोट वनडे : भारतीय बल्लेबाजों की दमदार वापसी, आस्ट्रेलिया को दिया 341 रनों का लक्ष्य

मुंबई में मिली बुरी हार से आहत भारतीय बल्लेबाजों ने शुक्रवार को यहां सौराष्ट्र क्रिकेट संघ स्टेडियम में खेले जा रहे दूसरे वनडे मैच...

छत्तीसगढ़ : बस्तर में कुपोषण के खिलाफ ‘गुड़’ को हथियार बनाएगी भूपेश सरकार

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल कुपोषण को नक्सलवाद से बड़ी चुनौती मानते हैं और यही कारण है कि इसके खात्मे के लिए कई अभियान...

सुप्रीम कोेर्ट ने महात्मा गांधी को भारत रत्न दिए जाने की याचिका खारिज की

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को महात्मा गांधी को भारतरत्न से सम्मानित करने की मांग वाली जनहित याचिका पर केंद्र को कोई भी निर्देश जारी...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -