मंगलवार, दिसम्बर 10, 2019

श्रीलंका में भी पाकिस्तान को अपने झूठ पर मुंह की खानी पड़ी

Must Read

दिल्ली अनाज मंडी अग्निकांड : सीबीआई जांच, न्यायिक जांच की याचिका खारिज

दिल्ली उच्च न्यायालय ने मंगलवार को अनाज मंडी अग्निकांड की न्यायिक और सीबीआई जांच की मांग वाली याचिका खारिज...

मध्य प्रदेश भाजपा नेता प्रहलाद लोधी की विधानसभा सदस्यता बहाल

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक प्रहलाद लोधी की विधानसभा सदस्यता बहाल कर दी गई है। विधानसभाध्यक्ष एन. पी....

‘कुंग फू पांडा’ के निर्देशक जॉन स्टीवेन्सन भारत में काम करने को हैं तैयार

ऑस्कर के लिए नामांकित फिल्म निर्माता और अनुभवी एनिमेटर जॉन स्टीवेन्सन 'कुंग फू पांडा' और 'शरलॉक गोम्स' जैसी अपनी...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

श्रीलंका में पाकिस्तानियो उच्चायोग के राजदूत ने दावा किया कि उन्होंने श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रिपाला सिरिसेना को जम्मू कश्मीर के मौजूदा हालातो के बाबत अवगत करा दिया है। कोलोंबो ने इस्लामाबाद की हकीकत को पहचान लिया है और स्पष्ट किया कि इस मामले पर राष्ट्रपति कोई बयान नहीं देंगे।

पाकिस्तानी उच्चायोग ने 21 को जारी प्रेस बयान में कहा कि उच्चायुक्त जनरल शाहिद अहमद हशमत ने सिरिसेना से मुलाकात कर जम्मू कश्मीर के मौजूदा हालात के बारे में बताया था। भारत ने जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 को हटा दिया था।

साथ ही उन्होंने दावा किया कि सिरिसेना ने भारत और पाकिस्तान के बीच इस मामले पर मध्यस्थता का प्रस्ताव दिया था और कहा कि इस विवाद का हल यूएन के विशेषाधिकारो के तहत कश्मीरियों की इच्छा के तहत निकलना चाहिए। सार्क मंच को दोबारा सक्रीय करने के लिए भारत और पाकिस्तान के बीच वार्ता का आयोजन और मध्यस्थता होनी चाहिए।

राष्ट्रपति दफ्तर के मीडिया विभाग ने बताया कि सिरिसेना ने ऐसा कोई बयान नहीं दिया था। यह पाकिस्तानी उच्चायुक्त के विचार है और श्रीलंका क्षेत्रीय सहयोग में वृद्धि और दोस्ती को देखना चाहता है।

उन्होंने कहा कि “भारत और पाकिस्तान का श्रीलंका के साथ मैत्रीपूर्ण सम्बन्ध है और देश का हित क्षेत्र के सहयोग और दोस्ती में वृद्धि को देखना है।” पाकिस्तान का मकसद भारत के आंतरिक मामले श्रीलंका को दखलंदाजी करने के उकसाना है। इस्लामाबाद निरंतर अंतरराष्ट्रीय समुदाय को इस मामले में घसीटना चाहता है।

भारत के अनुच्छेद 370 को हटाने के फैसले के बाद पाकिस्तान ने कई मुल्को से मदद की गुहार लगाई है। चीन और पाकिस्तान ने कश्मीर के मामले को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् में भी खींचा था और तत्काल बैठक आयोजित करने की मांग की थी।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

दिल्ली अनाज मंडी अग्निकांड : सीबीआई जांच, न्यायिक जांच की याचिका खारिज

दिल्ली उच्च न्यायालय ने मंगलवार को अनाज मंडी अग्निकांड की न्यायिक और सीबीआई जांच की मांग वाली याचिका खारिज...

मध्य प्रदेश भाजपा नेता प्रहलाद लोधी की विधानसभा सदस्यता बहाल

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक प्रहलाद लोधी की विधानसभा सदस्यता बहाल कर दी गई है। विधानसभाध्यक्ष एन. पी. प्रजापति ने लोधी को उच्च...

‘कुंग फू पांडा’ के निर्देशक जॉन स्टीवेन्सन भारत में काम करने को हैं तैयार

ऑस्कर के लिए नामांकित फिल्म निर्माता और अनुभवी एनिमेटर जॉन स्टीवेन्सन 'कुंग फू पांडा' और 'शरलॉक गोम्स' जैसी अपनी फिल्मों के लिए जाने जाते...

चिली का सैन्य विमान लापता, 38 लोग थे सवार

अंटार्कटिका जा रहा चिली का एक सैन्य विमान सोमवार को लापता हो गया। विमान में 38 लोग सवार थे। देश की वायु सेना ने...

लोकसभा में 311 मतों के समर्थन के साथ पारित हुआ नागरिकता संशोधन विधेयक

लोकसभा में आखिरकार सोमवार की आधी रात के बाद नागरिकता संशोधन विधेयक पारित कर दिया। जिसमें पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आने वाले गैर-मुस्लिम...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -