Fri. Jun 21st, 2024

    चक्रवात ‘यास’ से पश्चिम बंगाल में हुए नुकसान की समीक्षा बैठक में बीते दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इंतजार कराने और फिर रिपोर्ट सौंपकर बैठक से चले जाने को लेकर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर सियासत गर्म हो गई है। भाजपा नेता और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी इस मामले में अब बयान दिया है। उन्होंने बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के व्यवहार पर सवाल उठाया है।

    मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री ने कहा  की “मोदी जी देश के प्रधानमंत्री है, पूरा देश उनको फॉलो करता है और वह बंगाल के लोगों के लिए वहां पहुंचे थे, ताकी चक्रवात से प्रभावित लोगों के लिए राहत का कार्य कर सके, लेकिन बंगाल की मुख्यमंत्री ने वहां उनका बेहद अपमान किया है। 

    अमित शाह भी दीदी के आचरण को बता चुके हैं दुर्भाग्यपूर्ण

    बता दें कि इससे पहले गृह मंत्री अमित शाह ने भी दीदी के आचरण को दुर्भाग्यपूर्ण बताया था। चक्रवात ने कई लोगों को प्रभावित किया है और उनकी सहायता करना समय की मांग है, लेकिन दुख की बात है कि ममता बनर्जी ने अपने अहंकार को जनकल्याण से ऊपर रखा है। 

    वहीं इस मामले में बंगाल के मुख्य सचिव अलपन बंद्योपाध्याय को केंद्र ने मुलाकात के लिए दिल्ली  बुलाया है। इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने बंगाल व ओडिशा के तूफान प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वे किया था। बता दें कि ओडिशा में भी उन्होंने बैठक कर दोनों ही राज्यों के लिए राहत पैकेज का ऐलान भी किया।

    गौरतलब है कि बीते दिन ओडिशा में प्रभावित क्षेत्र का सर्वे व मुख्यमंत्री नवीन पटनायक सहित अन्य अधिकारियों संग बैठक करने के बाद मोदी ने कोलकाता के कलाइकुंडा एयरफोर्स बेस पर बैठक की थी। यहां आयोजित बैठक में न तो बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पहुंची और न ही राज्य का कोई भी अधिकारी। वह राज्य के मुख्य सचिव अलपन बंद्योपाध्याय के साथ आधे घंटे देरी से पहुंचीं और प्रधानमंत्री से अलग से मुलाकात कर रिपोर्ट सौंप दी, जिसके बाद उनके इस आचरण को लेकर सियासत गर्म हो गई है। 

    By दीक्षा शर्मा

    गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय, दिल्ली से LLB छात्र

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *