शतावरी के फायदे, गुण प्रयोग

shatavari in hindi
bitcoin trading

विषय-सूचि

शतावरी क्या है? (shatavari in hindi)

शतावरी को ऐस्पैरागस रेसमोसस के रूप में भी जाना जाता है। यह ऐस्पैरागस परिवार का एक सदस्य है। यह एक एडाप्टोजेनिक जड़ी बूटी भी है। एडाप्टोजेनिक जड़ी बूटियों को आपके शरीर को शारीरिक और भावनात्मक तनाव को दूर करने में मदद करने के लिए प्रयोग किया जाता है।

शतावरी को जीवन शक्ति में सुधार करने के लिए एक सामान्य स्वास्थ्य टॉनिक माना जाता है, इस कारण यह आयुर्वेदिक चिकित्सा में एक प्रमुख औषधि बन गया है।

शतावरी के फायदे (shatavari benefits in hindi)

shatavari benefits in hindi

1. इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं

एंटीऑक्सिडेंट सेल क्षति को रोकने में मदद करते हैं। वे ऑक्सीडेटिव तनाव से भी लड़ते हैं, जो बीमारी का कारण बनता है। शतावरी में उच्च मात्र में सैपोनिंस होते है। सैपोनिंस उनकी एंटीऑक्सिडेंट क्षमताओं के लिए जाने जाते हैं।

2004 के एक अध्ययन स्रोत के अनुसार, श्टावरी की जड़ में रेसमोफ्यूरन नामक एक नए एंटीऑक्सिडेंट की पहचान की गई थी। दो ज्ञात एंटीऑक्सिडेंट – शतावरी ए और रेसमोसोल भी पाए गए थे।

2. इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं

रेसमोफुरान, जो शतावरी में पाया जाता है, में भी महत्वपूर्ण एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं।

मेडिसिनल कुकरी: हाउ यू कैन बेनिफिट विद नेचर की पुस्तक के अनुसार, रेसमोफूरन शरीर में उसी तरह काम करता है जैसे कि COX-2 इनहिबिटर के रूप में जानी जाने वाली एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स। इस तरह की दवाओं को गंभीर पाचन दुष्प्रभावों के बिना सूजन को कम करने के लिए लिया जाता है।

3. यह आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है

शतावरी का उपयोग आयुर्वेद में प्रतिरक्षा बूस्टर के रूप में किया जाता है। 2004 के एक अध्ययन के अनुसार, शतावरी की जड़ के अर्क से उपचारित पशुओं ने अनुपचारित पशुओं की तुलना में काली खांसी को जल्दी ठीक किया।

इलाज किए गए जानवर तेजी से ठीक हो गए और समग्र रूप से उनके स्वास्थ्य में सुधार हुआ। इससे एक बेहतर प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया का सुझाव मिला।

4. यह खांसी से राहत देने में मदद कर सकता है

चूहों पर वर्ष 2000 के एक अध्ययन के अनुसार, शतावरी की जड़ का रस प्राकृतिक खांसी का इलाज है। शोधकर्ताओं ने चूहों में इसकी खांसी से राहत देने वाली क्षमताओं का मूल्यांकन किया।

उन्होंने पाया कि शतावरी की जड़ का अर्क बंद खांसी का उपचार कर सकता है। इसके बाद यह पता लगाने के लिए और अध्ययन किया गए की शतावरी से और कोंसी खांसी का उपचार हो सकता है।

5. यह दस्त का इलाज करने में मदद कर सकता है

शतावरी का उपयोग दस्त के लिए एक लोक उपचार के रूप में किया जाता है। अतिसार से गंभीर समस्याएं हो सकती हैं, जैसे निर्जलीकरण और इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन।

2005 में किए गए एक अध्ययन के अनुसार, शतावरी ने चूहों में कैस्टर ऑयल से प्रेरित दस्त को रोकने में मदद की। हालांकि इस की पूरी तरह सिद्धि के लिए और प्रयोग किया जाने की ज़रुरत है।

6. यह मूत्रवर्धक के रूप में कार्य कर सकता है

मूत्रवर्धक आपके शरीर को अतिरिक्त तरल पदार्थ से छुटकारा पाने में मदद करते हैं। वे अक्सर उन लोगों के लिए निर्धारित होते हैं जिन्हें दिल के चारों ओर से अतिरिक्त तरल पदार्थ निकालने में दिल की विफलता होती है। प्रिस्क्रिप्शन डाइयूरेटिक्स से गंभीर दुष्प्रभाव हो सकते हैं।

2010 में चूहों पर किए गए एक अध्ययन के अनुसार, शतावरी का उपयोग आयुर्वेद में मूत्रवर्धक के रूप में किया जाता है। अध्ययन में पाया गया कि 3,200 मिलीग्राम शतावरी में तीव्र दुष्प्रभाव के बिना मूत्रवर्धक गतिविधि थी। शतावरी को  मूत्रवर्धक के रूप में प्रयोग किये जाने से पहले इसका मनुष्यों पर अधिक अध्ययन की आवश्यकता है।

7. यह फोड़ों के इलाज में मदद कर सकता है

अल्सर का मतलब आपके पेट, छोटी आंत या घुटकी में घाव से हैं। वे बहुत दर्दनाक हो सकते हैं। वे गंभीर जटिलताओं जैसे रक्तस्राव या वेध का कारण बन सकते हैं।

2005 के एक अध्ययन के अनुसार, चूहों पर आधारित स्रोत, शतावरी दवा-प्रेरित गैस्ट्रिक अल्सर के इलाज के रूप में प्रभावी था। रेनीटिडीन आमतौर पर अल्सर के इलाज के लिए निर्धारित एक दवा है। तनाव-प्रेरित अल्सर के खिलाफ हालांकि शतावरी कम प्रभावी थी।

8. यह गुर्दे की पथरी के इलाज में मदद कर सकता है

गुर्दे की पथरी आपके गुर्दे में जमा ठोस पदार्थ होता है। जैसा कि वे आपके मूत्र पथ से गुजरते हैं, वे कष्टदायी दर्द का कारण हो सकते हैं। अधिकांश गुर्दे की पथरी ऑक्सालेट से बनती है। ऑक्सलेट्स कुछ खाद्य पदार्थों में पाए जाने वाले यौगिक हैं, जैसे कि पालक, बीट और फ्रेंच फ्राइज़।

2005 के एक अध्ययन के स्रोत में, शतावरी की जड़ के अर्क ने चूहों में ऑक्सालेट पत्थरों के निर्माण को रोकने में मदद की। इसके साथ ही मूत्र में मैग्नीशियम की एकाग्रता में वृद्धि हुई। शरीर में मैग्नीशियम के उचित स्तर को गुर्दे की पथरी बनाने वाले मूत्र में क्रिस्टल के विकास को रोकने में मदद करने के लिए जाना जाता है।

9. यह रक्त शर्करा को बनाए रखने में मदद कर सकता है

टाइप 2 मधुमेह बढ़ रहा है, और इसी के साथ सुरक्षित उपचार की भी आवश्यकता में बढ़ोतरी हुई है। 2007 के एक अध्ययन के अनुसार शतावरी रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखने में मदद कर सकती है। यह जड़ी बूटी  इंसुलिन उत्पादन को उत्तेजित करता है, हालांकि यह बिल्कुल स्पष्ट नहीं है कि कैसे।

इसमें और अधिक अध्ययन की आवश्यकता है, लेकिन शोधकर्ता ने यह सुझाव दिया है की यदि इसका हमारे रक्त पर असर पता लगा लिया जाए तो इसमें कई बीमारियों को ठीक करने की शक्ति पाई जा सकती है।

10. यह एंटी-एजिंग हो सकता है

शतावरी प्रकृति के सबसे अच्छे एंटी-एजिंग रहस्यों में से एक हो सकती है। 2015 के एक अध्ययन के अनुसार, शतावरी की जड़ में सैपोनिन ने फ्री-रेडिकल त्वचा को कम करने में मदद की, जिससे झुर्रियां होती हैं। शतावरी ने कोलेजन टूटने को रोकने में भी मदद की। कोलेजन आपकी त्वचा की लोच को बनाए रखने में मदद करता है।

सामयिक शतवारी उत्पादों के बाजार में आने से पहले और अधिक अध्ययन की आवश्यकता है। लेकिन कुछ शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि वे सुरक्षित, एंटी-एजिंग का भविष्य हो सकते हैं।

11. यह अवसाद के इलाज में मदद कर सकता है

अमेरिका की चिंता और अवसाद एसोसिएशन के अनुसार, प्रमुख अवसादग्रस्तता विकार सालाना 16.1 मिलियन अमेरिकी वयस्कों को प्रभावित करता है। फिर भी कई लोग नकारात्मक दुष्प्रभावों के कारण अवसाद दवाओं को नहीं ले सकते हैं।

शतावरी का उपयोग आयुर्वेद में अवसाद के इलाज के लिए किया जाता है। कृंतकों पर 2009 में किए गए अध्ययन में पाया गया कि शतवारी में एंटीऑक्सिडेंट की बड़ी मात्रा होती है। उन्होंने मस्तिष्क में न्यूरोट्रांसमीटर को भी प्रभावित किया। न्यूरोट्रांसमीटर हमारे पूरे मस्तिष्क में सूचना का संचार करते हैं। इनमे से कुछ अवसाद से भी जुड़े होते हैं।

shatavari use

शतावरी का सेवन कैसे करें (how to take shatavari in hindi)

शतावरी का मनुष्यों में अच्छी तरह से अध्ययन नहीं किया गया है। इसके साथ ही शतावरी का दवाई रूप में भी विकास नहीं किया गया है।

अमेरिकन हर्बलिस्ट गिल्ड के जर्नल में प्रकाशित एक लेख के अनुसार, निम्नलिखित खुराक गुर्दे की पथरी को रोक सकती हैं:

  • शतवारी जड़ का टिंक्चर 4-5 मिलीलीटर, दिन में तीन बार
  • 1 चम्मच शतावरी की जड़ से बनी चाय और 8 औंस पानी, रोजाना दो बार

शतावरी पाउडर, टैबलेट और तरल रूपों में उपलब्ध है। शतावरी गोलियों की एक विशिष्ट खुराक दिन में दो बार 500 मिलीग्राम तक की है। शतावरी अर्क की एक विशिष्ट खुराक पानी या रस में 30 बूंदें है, जो रोजाना तीन बार तक ली जा सकती है।

अपनी दिनचर्या में शतावरी को शामिल करने से पहले अपने चिकित्सक या एक प्राकृतिक स्वास्थ्य चिकित्सक से बात करें, खासकर यदि आप दवाएँ लेते हैं या स्वास्थ्य समस्याएं हैं तो आपको यह ज़रूर करना चाहिए। वे आपके लिए सही खुराक निर्धारित करने में आपकी सहायता कर सकते हैं।

एफडीए जड़ी-बूटियों और पूरक आहार की निगरानी नहीं करता है। सप्लीमेंट्स की गुणवत्ता, शुद्धता और मजबूती अलग-अलग होती है। आप जिस ब्रांड पर भरोसा करते हैं, केवल उसी से शतावरी खरीदें।

shatavari

शतावरी के नुकसान (shatavari side effects in hindi)

2003 के शोध के अनुसार, आयुर्वेदिक चिकित्सा गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान भी शतावरी को “लंबे समय तक उपयोग के लिए बिल्कुल सुरक्षित मानती है।” फिर भी, शतावरी की खुराक के दुष्प्रभावों पर बहुत अधिक वैज्ञानिक शोध नहीं हुआ है। जो महिलाएं गर्भवती हैं या स्तनपान कर रही हैं, उन्हें तब तक इसका उपयोग नहीं करना चाहिए जब तक कि अधिक अध्ययन नहीं किया जाता है और इसे सुरक्षित करार नहीं किया जाता है।

शतावरी लेने वाले कुछ लोगों में एलर्जी की प्रतिक्रिया की खबरें आई हैं। यदि आपको शतावरी से एलर्जी है, तो इसे लेने से बचें। अगर आपको अस्थमा या एलर्जी के लक्षणों का अनुभव हो, तो चिकित्सा परामर्श लेने में बिलकुल भी देरी ना करें।

इसमें निम्न भी शामिल है:

  • लाल चकत्ते
  • तेजी से दिल की दर
  • आंखों में जलन
  • त्वचा में खुजली
  • सांस लेने मे तकलीफ
  • सिर चकराना
  • शतावरी का मूत्रवर्धक प्रभाव हो सकता है। आपको इसे अन्य मूत्रवर्धक जड़ी-बूटियों या ड्रग्स जैसे फ़्यूरोसेमाइड (लासिक्स) के साथ नहीं लेना चाहिए।

शतावरी आपके ब्लड शुगर को कम कर सकती है। आपको इसे अन्य दवाओं या जड़ी-बूटियों के साथ नहीं लेना चाहिए जो रक्त शर्करा को कम करते हैं।

निष्कर्ष:

शतावरी का उपयोग आयुर्वेदिक चिकित्सा में सदियों से किया जाता रहा है। हालांकि, इसका मनुष्यों पर प्रयोग नहीं किया गया है और और नाहीं मनुष्यों को इसे प्रयोग करने की सलाह दी गयी है। हालांकि, इसे कम मात्रा में खाना सुरक्षित है, और ऐसा करने से आप इसके एंटीऑक्सिडेंट और प्रतिरक्षा-बढ़ाने वाले लाभों को प्राप्त कर सकते हैं।

यदि आप शतावरी की बड़ी खुराक लेना चाहते हैं, तो इसे अपनी दिनचर्या में शामिल करने से पहले अपने डॉक्टर से बात करें। वे आपके व्यक्तिगत स्वास्थ को देखकर आपको इसके अनुसार शतावरी की खुराक की सलाह दे सकते हैं।

यह लेख आपको कैसा लगा?

नीचे रेटिंग देकर हमें बताइये, ताकि इसे और बेहतर बनाया जा सके

औसत रेटिंग / 5. कुल रेटिंग :

यदि यह लेख आपको पसंद आया,

सोशल मीडिया पर हमारे साथ जुड़ें

हमें खेद है की यह लेख आपको पसंद नहीं आया,

हमें इसे और बेहतर बनाने के लिए आपके सुझाव चाहिए

इस लेख से सम्बंधित यदि आपका कोई भी सवाल या सुझाव है, तो आप उसे नीचे कमेंट में लिख सकते हैं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here