Fri. May 24th, 2024
    रुसी विदेश मंत्री

    रूस ने आग्रह किया कि वेनेजुएला के राष्ट्रपति निकोलस मादुरो को जबरदस्ती उखाड़ फेंकने की योजना को अमेरिका को त्यागना चाहिए। यह वेनेजुएला में राजनीतिक सुलह की उम्मीद की लौ को बुझा सकती है। रूस के विदेश मंत्री सेर्गेय लावरोव ने मास्को में वेनेजुएला के विदेश मंत्री जॉर्ज अर्रज़ा से मुलाकात की थी।

    शान्ति वार्ता जरुरी

    उन्होंने कहा कि “कराकस में हिंसक राजनीतिक उथल-पुथल की स्थिति का लोकतान्त्रिक प्रक्रिया से कोई नाता नहीं है और यह सिर्फ राजनीतिक सुलह की कोशिशों में अड़चन उत्पन्न करेगा।”

    रुसी विदेश मंत्री ने कहा कि “लैटिन अमेरिकी देश में जारी राजनीतिक और नागरिक अशांति सिर्फ समावेशी राजनीतिक बातचीत से ही सुलझ सकती है, न कि सत्ता हड़पने की कोशिशों से संभव है।” अमेरिका ने न्यूज़ चैनल एबीसी में इंटरव्यू के दौरान अमेरिकी राज्य सचिव ने कहा कि “राष्ट्रपति ट्रम्प के समक्ष वेनेजुएला में दखलंदाज़ी की पूरी ताकत रखते है।”

    उन्होंने कहा कि “राष्ट्रपति के पास आर्टिकल 2 का पूरा अधिकार है और मुझे विश्वास है कि वेनेजुएला में लिया जाने वाला हमारा कदम कानून के मुताबिक होगा।” इस दौरान उनसे पूछा गया था कि क्या डोनाल्ड ट्रम्प बगैर कांग्रेस की मंज़ूरी के वेनेजुएला में जारी सत्ता की रस्साकस्सी में हस्तक्षेप करेंगे।

    वेनेजुएला  में संकट

    वेनेजुएला के राजनीतिक संकट में अमेरिका और रूस ने विपक्षियों का समर्थन किया है। देश के आंतरिक मामले में दखलंदाज़ी के लिए दोनों देशों ने एक-दूसरे को धमकी दी है। वेनेजुएला राजनीतिक और आर्थिक संकट के दौर से गुजर रहा है। विपक्ष के नेता जुआन गाइडो ने जनवरी के खुद को देश का अंतरिम राष्ट्रपति घोषित कर दिया था और अमेरिका ने तत्काल उनका समर्थन किया था।

    वेनेजुएला में इस वक्त मानवीय संकट बढ़ता जा रहा है और यह अमेरिकी प्रतिबंधों के बाद काफी बढ़ गया है। जुआन गाइडो के नेतृत्व में सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों और कानून प्रवर्तन अधिकारीयों के बीच मंगलवार को राजधानी कराकास में झड़प हो गयी थी। इस दिन की शुरुआत में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने क्यूबा पर भी उच्च स्तर के प्रतिबंधों को थोपने की धमकी दी थी।

    By कविता

    कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *