Sun. May 19th, 2024
    Rajinikanth-

    5 राज्यों के विधानसभा चुनाव परिणाम पर प्रतिक्रिया देते हुए अभिनेता और नए नए नेता बने रजनीकांत ने इन चुनावों में भाजपा के प्रदर्शन को  2019 के लोकसभा चुनावों के मद्देनज़र पार्टी के लिए खतरे की घंटी बताया है। उन्होंने कहा कि परिणामों से साफ़ स्पष्ट है कि भाजपा अपना प्रभाव खो रही है। रजनीकांत चेन्नई में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।

    उन्होंने कहा “परिणामों से साफ़ स्पष्ट है कि भारतीय जनता पार्टी अपना प्रभाव खो रही है।” जब एक पत्रकार ने उनसे पूछा कि उन्होंने पहले कहा था कि मोदी मजबूत नेता है, तो इसपर जवाब देते हुए रजनीकांत ने कहा “हाँ मैंने कहा था लेकिन ये परिणाम निश्चित रूप से एक बड़ा झटका है।”

    ये भी पढ़ें: क्या बढ़ रही है रजनीकांत और भगवा पार्टी की नजदीकियां?

    नवम्बर में रजनीकांत ने भाजपा और नरेंद्र मोदी की तारीफ़ की थी। जब उनसे पूछा गया कि क्या भाजपा एक खतरनाक पार्टी है तो उन्होएँ कहा था कि अगर विपक्ष को ऐसा लगता है तो जरूर होगी।

    उन्होंने कहा था “अगर 10 लोग एक आदमी के खिलाफ इकट्ठे हैं तो आप आप समझ सकते हैं कि कौन ज्यादा ताकतवर है? उनका इशारा विपक्षी दलों के मोदी विरोधी मोर्चे की तरफ था।

    ये भी पढ़ें: अगर पार्टियों को लगता है कि भाजपा खतरनाक है, तो जरूर होगी: रजनीकांत

    रजनीकांत ने जब दिसंबर 2017 में अपनी नई राजनितिक पार्टी की घोषणा की थी तो उम्मीद लगाई गई थी कि मोदी से नजदीकी रिश्ते होने की वजह से वो भाजपा के साथ जायेंगे। उससे पहले भी जब सारा विपक्ष एक सुर ने नोटबंदी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहा था तब रजनीकांत ने सबसे पहले ट्वीट कर इस कदम के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ़ की थी। हालाँकि राजनितिक पार्टी की घोषणा के एक साल बाद भी रजनीकांत की पार्टी का कोई अस्तित्व नहीं है।

    मंगलवार को घोषित 5 राज्यों के विधानसभा चुनाव में भाजपा को बड़ा झटका लगा है। उसके हाथ से मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ जैसे गढ़ निकल गए जहाँ वो पिछले 15 वर्षों से सत्ता में थी वहीँ राजस्थान में भी उसे सत्ता गंवानी पड़ी। तेलंगाना में टीआरएस की आंधी में सारी पार्टियाँ उड़ गई। भाजपा को वहां सिर्फ 1 सीट मिल पाई जबकि पुर्वित्तर के राज्य मिजोरम में भी पार्टी एक ही सीट हासिल कर पाई।

    By आदर्श कुमार

    आदर्श कुमार ने इंजीनियरिंग की पढाई की है। राजनीति में रूचि होने के कारण उन्होंने इंजीनियरिंग की नौकरी छोड़ कर पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखने का फैसला किया। उन्होंने कई वेबसाइट पर स्वतंत्र लेखक के रूप में काम किया है। द इन्डियन वायर पर वो राजनीति से जुड़े मुद्दों पर लिखते हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *