Wed. May 29th, 2024
    vijay sardesai

    पणजी, 14 मई (आईएएनएस)| विवादित टिप्पणी करने के मामले में कांग्रेस ने चुनाव आयोग से गोवा के उप मुख्यमंत्री विजय सरदेसाई के खिलाफ राजद्रोह का मामला दर्ज करने का आग्रह किया है।

    सरदेसाई ने इस महीने की शुरुआत में दिए भाषण में युवाओं से सरकारी नौकरियों के मानदंड में बदलाव को लेकर सरकार को मजबूर करने के लिए खुद को हथियारबंद करने का आग्रह किया था।

    चुनाव आयोग को दी गई शिकायत में उत्तर गोवा जिले के युवा कांग्रेस के अध्यक्ष विवेक डी सिल्वा ने कहा कि सरदेसाई ने यह टिप्पणी पणजी में अपनी पार्टी गोवा फारवर्ड कार्यालय के परिसर के उद्घाटन के दौरान की थी जो स्पष्ट रूप से संविधान के तहत निर्वाचित सरकार और गोवा के लोगों के खिलाफ युद्ध छेड़ने की नीयत को दर्शाता है।

    शिकायत में कहा गया है, “यह कृत्य पणजी में मतदाताओं को अप्रत्यक्ष रूप से धमका कर उन्हें मतदान से रोकने का प्रयास है, जहां 19 मई को चुनाव होना है। शिकायतकर्ता ने कहा कि विजय सरदेसाई द्वारा गोवा सरकार के खिलाफ लोगों के बीच असंतोष भड़काने और घृणा पैदा करने के इरादे से ये शब्द इस्तेमाल किए गए।”

    सरदेसाई ने 7 मई को कहा था कि अगर भाजपा के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार (जिसके वह खुद और उनकी पार्टी हिस्सा हैं) नौकरियों में भर्ती के साथ ही राज्य सरकार द्वारा वित्त पोषित स्वायत्त निकाय जैसे गोवा विश्वविद्यालय में भर्ती के लिए स्थानीय युवाओं के लिए मानदंडो में बदलाव करते हुए नियमों में कुछ ढील नहीं देती तो वह अपनी पार्टी के युवाओं को ‘हथियारबंद’ करेंगे।

    सरदेसाई ने कहा था, “हम गोवा के लोगों के हितों की रक्षा के लिए किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार हैं और यह होना ही है। अगर हमारी सरकार ने गलती की है तो गोवा फॉरवर्ड यूथ को हम पूरी तरह से समर्थन देंगे। हम उन्हें हथियार देंगे। मैं यह विवादित रूप से कहने जा रहा हूं .. कि हम उन्हें यह देखने के लिए हथियार देंगे कि गोवा के लोग सुरक्षित हैं।”

    दिलचस्प बात यह है कि सरदेसाई की पार्टी भाजपा के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार की सदस्य है, लेकिन गोवा फॉरवर्ड पणजी विधानसभा उप चुनाव नहीं लड़ रही है।

    चुनाव आयोग से शिकायत में मांग की गई है सरदेसाई की टिप्पणी राजद्रोह की धारा लगाए जाने लायक है।

    By पंकज सिंह चौहान

    पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *