रिलायंस जिओ का असर: अन्य कंपनियों का घाटा जारी

जिओ के आने के बाद से ही अन्य दूरसंचार कंपनियां जैसे एयरटेल, आईडिया और बीएसएनएल घाटे में चल रही हैं। जिओ के आने के लगभग 2 साल बाद भी कंपनियों का घाटा रुकने का नाम नहीं ले रहा है।

जनवरी से मार्च की इस तिमाही में भी अन्य कंपनियां घाटा दर्ज करने जा रही हैं।

क्रिसिल नामक एक एजेंसी नें अपनी रिपोर्ट में कहा, “टेलिकॉम जगत में पहले से ही कंपनियों के बीच कड़ी टक्कर थी। जबसे जिओ नें मुफ्त में कालिंग और सस्ते डेटा प्लान की घोषणा की है, तबसे स्थिति और भी गंभीर हो गयी है।”

रिपोर्ट में यह कहा गया है कि बाकी कंपनियों की कमाई में 40 फीसदी तक कीई गिरावट देखने को मिल सकती है।

घरेलु ब्रोकर मोतीलाल ओसवाल के मुताबिक टेलिकॉम सेक्टर में कमाई के साधन बहुत कम हो गए हैं। उन्होंने कहा कि भारत की सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनी एयरटेल अपनी कमाई में 80 फीसदी तक गिरावट देख सकती है। इसके अलावा आईडिया भी लगातार नुकसान झेलता रहेगा।

कोटक सिक्यूरिटी के मुताबिक मार्च में खत्म होने वाली तिमाही से यह संघर्षपूर्ण चला वित्तीय वर्ष भी खत्म हो जाएगा।

जिओ डेटा प्लान

उन्होंने कहा, “जनवरी 2018 में जिओ के प्लान में बदलाव से, अंतराष्ट्रीय नियमों में बदलाव और ट्रेडिंग में हो रहे नए बदलावों की वजह से आने वाली तिमाही भी घाटे में गुजर सकती है।

जाहिर है जिस गति से जिओ नें निवेश किया है, बाकी कंपनियों को या तो घाटा झेलना पड़ रहा है या फिर वे एक-दुसरे के साथ मिल रही हैं।

आईडिया और वोडाफोन जल्द ही अधिकारिक रूप से एक होने की घोषणा करने वाली हैं। आरकॉम नें भी कंपनी बंद करने की घोषणा कर दी है।

जिओ बनाम एयरटेल

जाहिर है आने वाले समय में सिर्फ रिलायंस जिओ और भारती एयरटेल दो कंपनियां इस जगत में टक्कर में रहेंगी।

जिओ के घमासान के बाद भी ग्राहकों की संख्या में एयरटेल जिओ से आगे है। जिओ के प्लान में बदलाव के साथ-साथ एयरटेल नें भी अपने प्लान में बदलाव किये हैं। ऐसे में दोनों कंपनियां पीछे हटने का कोई कारण नहीं छोड़ रही हैं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here